टोक्यो ओलंपिक: जेवलिन थ्रो के फाइनल में नीरज चोपड़ा, पहले प्रयास में फेंका 86.65 मीटर का थ्रो

टोक्यो ओलंपिक: जेवलिन थ्रो के फाइनल में नीरज चोपड़ा, पहले प्रयास में फेंका 86.65 मीटर का थ्रो

भारतीय भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने अपने टोक्यो ओलंपिक अभियान का शानदार आगाज किया है। उन्होंने बुधवार को क्वालीफिकेशन राउंड में अपने पहले प्रयास में 86.65 मीटर के थ्रो के साथ सीधे क्वालीफिकेशन से पुरुषों के भाला फेंक फाइनल के लिए क्वालीफाई किया।

टोक्यो। 2018 एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भारतीय भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने अपने टोक्यो ओलंपिक अभियान का शानदार आगाज किया है। उन्होंने बुधवार को क्वालीफिकेशन राउंड में अपने पहले प्रयास में 86.65 मीटर के थ्रो के साथ सीधे क्वालीफिकेशन से पुरुषों के भाला फेंक फाइनल के लिए क्वालीफाई किया। उल्लेखनीय है कि फाइनल के लिए सीधे क्वालीफाई करने के लिए योग्यता चिन्ह 83.50 रखा गया।

 

शिवपाल सिंह फाइनल में पहुंचने में नाकाम
उधर शिवपाल सिंह क्वालीफिकेशन राउंड में निराशाजनक प्रदर्शन के कारण फाइनल के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहे और इसके साथ ही उनका टोक्यो ओलंपिक का सफर भी खत्म हो गया। शिवपाल अपने तीनों प्रयासों में 80 के चिन्ह पर भी नहीं पहुंच पाए। उनका सर्वश्रेष्ठ थ्रो 76.40 का रहा, जो क्वालीफाई करने के लिए पर्याप्त साबित नहीं रहा। तीनों प्रयासों में क्रमश: 76.40, 74.80 और 74.81 मीटर के थ्रो के साथ वह ग्रुप बी में 12वें स्थान पर रहे, जबकि पाकिस्तान के भाला फेंक एथलीट अरशद नदीम सर्वश्रेष्ठ 85.16 मीटर के थ्रो के साथ ग्रुप टॉपर रहे।

Post Comment

Comment List

Latest News

वेस्टइंडीज दौरे पर रोहित शर्मा को आराम, शिखर धवन होंगे भारतीय टीम के कप्तान वेस्टइंडीज दौरे पर रोहित शर्मा को आराम, शिखर धवन होंगे भारतीय टीम के कप्तान
मुंबई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने बुधवार को वेस्ट इंडीज दौरे पर होने वाली एकदिवसीय श्रंखला के लिये टीम...
राजसमंद भाजपा जिला कार्यसमिति की बैठक में चाकूबाजी.....
खराब फॉर्म के चलते टेस्ट रैंकिंग में फिसले कोहली, 6 साल में पहली बार विराट टॉप-10 से बाहर
11वें विम्बलडन सेमीफाइनल में पहुंचे जोकोविच
सुपरहीरो शक्तिमान की यादें फिर होगी ताजा, रणवीर सिंह निभायेंगे किरदार!
चीन में फिर कोरोना का कहर, शीआन शहर में लगा एक सप्ताह का लॉकडाउन
अब वार्ड वार लगेंगे प्रशासन शहरों के संग अभियान शिविर