आसाराम के दर्शन करने उमड़े समर्थक

पुलिस ने जेल के बाहर से हटाया, तस्वीर की पूजा कर मनाई गुरु पूर्णिमा

आसाराम के दर्शन करने उमड़े समर्थक

जोधपुर। जोधपुर जेल के बाहर आज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए। यकायक उमड़ी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। ये सभी लोग अपने गुरुकुल की एक नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले में मरते दम तक आजीवन कारावास की सजा काट रहे आसाराम के दर्शन करने पहुंचे थे।

जोधपुर। जोधपुर जेल के बाहर आज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर बड़ी संख्या में लोग पहुंच गए। यकायक उमड़ी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। ये सभी लोग अपने गुरुकुल की एक नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले में मरते दम तक आजीवन कारावास की सजा काट रहे आसाराम के दर्शन करने पहुंचे थे। हालांकि इन लोगों को अपने गुरु आसाराम के दर्शन तो नहीं हो सके, लेकिन इन लोगों ने जेल के बाहर ही पूजा अर्चना कर अपने गुरु को याद किया। जोधपुर जेल के बाहर आज सुबह से ही आसाराम समर्थकों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया। हर वर्ष के समान इनके आने की संभावना को ध्यान में रख पहले से पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। पुलिस ने वहां पर आसाराम के समर्थकों को ज्यादा देर तक खड़ा नहीं रहने दिया। सभी समर्थकों ने जेल की दीवार पर आसाराम की तस्वीर लगा पूजा की। कुछ उत्साही समर्थकों ने जेल के मुख्य गेट पर तस्वीर लगाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। समर्थकों की संख्या बढ़ने पर पुलिस ने पूजा कर चुके लोगों को वहां से रवाना कर दिया। सुबह से आसाराम के समर्थकों का आना-जाना लगा हुआ है। पुलिस पूरी मुस्तैदी के साथ सभी पर नजर रखे हुए है। जेल से कुछ दूरी पर आसाराम के समर्थक डटे हुए है।

इस कारण जेल में बंद है आसाराम

आसाराम के गुरुकुल में पढ़ने वाली एक नाबालिग छात्रा ने आरोप लगाया कि पंद्रह अगस्त 2013 को आसाराम ने जोधपुर के निकट मणाई गांव में स्थित एक फार्म हाउस में उसका यौन उत्पीड़न किया। बीस अगस्त 2013 को उसने दिल्ली के कमला नगर पुलिस थाने में आसाराम के खिलाफ मामला दर्ज कराया। जोधपुर का मामला होने के कारण दिल्ली पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच करने के लिए उसे जोधपुर भेजा। जोधपुर पुलिस ने आसाराम के खिलाफ नाबालिग का यौन उत्पीड़न करने का मामला दर्ज किया। जोधपुर पुलिस 31 अगस्त 2013 को इन्दौर से आसाराम को गिरफ्तार कर जोधपुर ले आई। तब से आसाराम जोधपुर जेल में बंद है। अप्रेल 2018 में कोर्ट ने उसे दोषी करार देते हुए मरते दम तक कारावास की सजा सुनाई थी।

Read More द्रव्यवती नदी: कमेटी के निर्णय के बाद जेडीए करेगा भुगतान

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News