राजस्थान विधुत श्रमिक महासंघ संघ का धरना जयपुर में जारी

राजस्थान विधुत श्रमिक महासंघ संघ का धरना जयपुर में जारी

विद्युत भवन पर 28 सूत्रीय मांगों को लेकर पांच निगमों के कर्मचारियों का विद्युत भवन जयपुर पर क्रमिक अनिश्चितकालीन धरना चौथे दिन भी जारी

जयपुर। तीनों डिस्कॉमो में निजीकरण एवं राजनैतिक द्वेषता से संघठन कार्यकर्ताओ के तबादलों के आरोप लगाते हुए विद्युत श्रमिक महासंघ द्वारा विद्युत भवन पर 28 सूत्रीय मांगों को लेकर पांच निगमों के कर्मचारियों का विद्युत भवन जयपुर पर क्रमिक अनिश्चितकालीन धरना शुक्रवार चौथे दिन भी जारी रहा। धरना जोधपुर जिलाध्यक्ष करण सिंह राजपुरोहित के नेतृत्व में दिया गया। अपनी मांगों को लेकर कोई भी वार्तालाप एवं निर्णय नहीं होने से कर्मचारियों में रोष व्याप्त है।  कर्मचारियों का आरोप है कि सरकार एवं प्रशासन द्वारा गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाया जा रहा है जिसके कारण विद्युत कंपनियों का घाटा एवं जनता महंगी बिजली की शिकार हो रही है।

 

महासंघ द्वारा अपनी मांगों को लेकर समय-समय पर प्रदर्शन करके ज्ञापन देकर सरकार एवं प्रशासन को अवगत कराया है मगर कोई भी सकारात्मक हल नहीं निकाला गया। सरकार व विधुत प्रशासन असंवेदनशील है जिसका खामियाजा आम जनता एवं कर्मचारियों को भुगतना पड़ रहा है। इसलिए संगठन ने तय किया है कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती तब तक विद्युत भवन पर क्रमिक धरना जारी रहेगा। हमारी प्रमुख मांगें विद्युत निगमों में निजीकरण पर रोक लगाकर नई भर्ती की जाये, पांचों विद्युत कंपनियों को आपस में विलय करके एक विधुत मंडल बनाया जाए, आईटीआई स्किल्ड तकनीकी कर्मचारियों का पदनाम परिवर्तन हो एवं प्रमोशन का वित्तीय लाभ नियुक्ति तिथि से दिया जाए, सिनियर इंजीनियर सुपरवाइजर का पद स्वीकृत किया जाए, लिंगभेद नीति तहत वंचित कर्मचारियों को बाबू बनाया जाए, विधुत कर्मचारियों को प्रतिमाह 200 यूनिट फ्री विधुत दी जाए, कर्मचारियों को हार्ड ड्यूटी भत्ता आदि मांगे प्रमुख हैं।

Read More पिंडवाड़ा से 20 लाख से भरा एटीएम उखाड़ ले गए

Post Comment

Comment List

Latest News