बिना रैलिंग की पुरानी पुलिया पर हादसे का डर, ग्रामीण बच्चों को नहीं भेज रहे स्कूल

दो दिन पहले पुलिया से गिरने से बालक की मौत के बाद दहशत, पुरानी पुलिया पार करके जाना पड़ता है विद्यालय

बिना रैलिंग की पुरानी पुलिया पर हादसे का डर, ग्रामीण बच्चों को नहीं भेज रहे स्कूल

उपखण्ड के सकतपुर क्षेत्र के धूमेन गांव में गत रविवार को पेहड़ी नदी की पुलिया से पैर फिसलकर पानी में बहने से एक बालक की मौत हो गई थी। इस घटना को लेकर अब ग्रामीण अपने बच्चों को विद्यालय भेजने से डर रहे है। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक नई पुलिया का निर्माण नहीं हो जाता तब तक बच्चों को विद्यालय नहीं भेजेगें।

अटरू। अटरू उपखण्ड के सकतपुर क्षेत्र के धूमेन गांव में गत रविवार को पेहड़ी नदी की पुलिया से पैर फिसलकर पानी में बहने से एक बालक की मौत हो गई थी। इस घटना को लेकर अब ग्रामीण अपने बच्चों को विद्यालय भेजने से डर रहे है। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक नई पुलिया का निर्माण नहीं हो जाता तब तक बच्चों को विद्यालय नहीं भेजेगें।

ग्रामीणों ने विधायक पानाचन्द मेघवाल सहित प्रशासन से मांग की है कि जब तक नई पुलिया निर्माण कार्य का मौके पर आकर विधायक पानाचन्द मेघवाल के द्वारा आश्वासन नही दिया जाता है। तब तक ग्रामीण अपने बच्चों को विद्यालय पढ़ने नही भेजेंगे। गत सोमवार से ही अध्यापक विधार्थियों का इन्तजार कर रहे है, मगर ग्रामीण अपने बच्चों को विद्यालय नही भेज रहे है। ग्रामीणों ने बताया कि घटना के आठ दिन गुजर जाने के बाद भी गांव में कोई भी प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि ने आकर आश्वासन नही दिया है। जिसके कारण ग्रामीणों में प्रशासन व जनप्रतिनिधियों के प्रति रोष व्याप्त है।

एसएमसी अध्यक्ष राकेश गुर्जर व सदस्य हरिशंकर सेन, विजेंद्र सिंह, धनश्याम मीणा ने बताया कि गत रविवार को पेहड़ी नदी की पुलिया पर पैर फिसलने से नदी मे गिर कर बह ने से कक्षा तीन में अध्यनरत छात्र हेमंत बैरवा अकाल मौत का ग्रास बन गया था, तब से ही ग्रामीणो में दुर्घटना का भय बना हुआ है। क्योंकि पेहड़ी नदी के एक छोर पर गांव बसा हुआ है, तो वही दूसरे छोर पर विद्यालय भवन बना हुआ है। ओर विद्यालय भवन पढ़ने जाने के लिए पेहडी नदी की पुलिया पर होकर गुजरना पड़ता है।

Read More रेडीमेड कपड़े के गोदाम में लगी भीषण आग, छह दमकलों से दो घंटे में पाया आग पर काबू

स्कूल में अध्यापक छात्र-छात्राओं का इतंजार कर रहे है, मगर 11 जुलाई से एक भी विद्यार्थी स्कूल नही गया है, जबकि स्कूल में 128 छात्र छात्राएं पढते है। एक सप्ताह बाद भी कोई भी प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि ने पहुंचकर ग्रामीणों से बात तक नही की है।


शिक्षा से वंचित न रह जाए विद्यार्थी
सकतपुर, धूमेन गांव में पुलिया निर्माण के लिए स्कूल द्वारा आश्वासन देने की मांग पर अड़े हुए , ग्रामीण अपनी मांग मनवाने के लिए अपने बालक बालिकाओं को स्कूल नही भेज रहे है। जिसके चलते बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है।  राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय धूमेन के प्रधानाध्यापक भूपेंद्र सिंह हाड़ा एवं स्टाफ के अन्य अध्यापक देवेंद्र मेहता, दिनेश कुमार ने अभिभावकों के घरों पर जाकर बच्चों को स्कूल भेजने के लिए समझाइश कि लेकिन अधिकांश अभिभावक  इसी मांग पर अड़े हुए है, कि जब तक विधायक द्वारा पुलिया निर्माण को लेकर आश्वासन नही दिया जाता तब तक वे अपने बच्चों को विद्यालय नही भेजेंगे। 

इनका कहना है
सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से प्रस्ताव भिजवाया गया है। स्वीकृति आते ही आमली जागीर, कराड़िया, धुमेन रोड व पुलिया का निर्माण कराया जाएगा। ग्रामीणों से आग्रह है कि अपने बच्चों को विद्यालय भेजे। शीघ्र पुलिया का निर्माण होगा।
- पानाचंद मेघवाल, विधायक बारां अटरू।  

Read More भारतीय संविधान विश्वभर के लोकतंत्रों की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या: राज्यपाल मिश्र

Post Comment

Comment List

Latest News