राजस्थान में मंकीपॉक्स के एक संदिग्ध की रिपोर्ट आई नेगेटिव

चिकित्सकों ने ली राहत की सांस

राजस्थान में मंकीपॉक्स के एक संदिग्ध की रिपोर्ट आई नेगेटिव

जयपुर। प्रदेश में मंकिपॉक्स के दो संदिग्धों में से भरतपुर निवासी 35 वर्षीय युवक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। भरतपुर निवासी इस युवक के सैंपल की जांच एसएमएस मेडिकल कॉलेज में हुई। संदिग्ध मरीज को जयपुर के प्रताप नगर स्थित RUHS हॉस्पिटल में भर्ती कर रखा था। संभावना है कि आज मरीज को छुट्‌टी दे दी जाएगी। वहीं, किशनगढ़ के युवक की रिपोर्ट अभी आना बाकी है।

जयपुर। प्रदेश में मंकिपॉक्स के दो संदिग्धों में से भरतपुर निवासी 35 वर्षीय युवक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। भरतपुर निवासी इस युवक के सैंपल की जांच एसएमएस मेडिकल कॉलेज में हुई। संदिग्ध मरीज को जयपुर के प्रताप नगर स्थित RUHS हॉस्पिटल में भर्ती कर रखा था। संभावना है कि आज मरीज को छुट्‌टी दे दी जाएगी। वहीं, किशनगढ़ के युवक की रिपोर्ट अभी आना बाकी है।

भरतपुर के जिस युवक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, वो सोमवार सुबह आरयूएचएस में भर्ती हुआ था। इसके हल्का बुखार होने के साथ ही शरीर पर कुछ ही दाने थे। संदिग्ध मानते हुए भर्ती किया गया था।

वहीं, बेंगलुरू में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले किशनगढ़ के 20 साल के युवक की रिपोर्ट नहीं आई है। जो शाम तक आने की उम्मीद है। जो रविवार देर रात किशनगढ़ से रैफर होकर जयपुर आया था। उसे बुखार होने के साथ शरीर पर जगह-जगह दाने हो रहे थे। इसे देखते हुए किशनगढ़ में डॉक्टरों ने इसे संदिग्ध मानते हुए जयपुर रैफर किया था। यहां देर रात भर्ती करने के बाद सोमवार को मरीज के सैंपल लेकर उसे जांच के लिए एसएमएस हॉस्पिटल भिजवाया था, जहां से आज उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

Post Comment

Comment List

Latest News

नेशनल गेम्स के लिए तीरंदाजी की रिकर्व टीमों की घोषणा नेशनल गेम्स के लिए तीरंदाजी की रिकर्व टीमों की घोषणा
राजस्थान तीरंदाजी संघ के सचिव सुरेन्द्र गुर्जर ने धौलपुर में सम्पन्न राजस्थान ओपन स्टेट चयन ट्रायल के बाद राजस्थान की...
मैकुलम की जगह चंद्रकांत पंडित होंगे केकेआर के हैड कोच
चीन के खिलाफ आपसी लड़ाई भूल कर एक साथ हैं लिज ट्रस और ऋषि सुनक
जिस पेंटागन में नहीं जा सकते कई अमेरिकी अधिकारी, वहां भारत को बेरोकटोक एंट्री
विवाद से परेशान होकर पुजारी ने आत्महत्या का किया प्रयास 
दिमाग की नस में बने गुब्बारे का किया बिना चीरफाड़ के इलाज
प्रे-बेस बढ़ाने के लिए नाहरगढ़ अभयारण्य में छोड़े 19 चीतल