आजादी का आंदोलन तेज करने जब पंडित नेहरू जोधपुर में महाराजा से मिले

सोजत से जोधपुर के बीच पंडित नेहरू और उनकी बेटी इंदिरा का राजघरानों ने किया था अपूर्व स्वागत

आजादी का आंदोलन तेज करने जब पंडित नेहरू जोधपुर में महाराजा से मिले

पंडित नेहरू को भारत छोड़ो आंदोलन के बाद भी जेल भेजा गया और एक जून 1945 को छोड़ा गया तो मारवाड़ लोक परिषद ने उन्हें जोधपुर बुलाकर सम्मानित करने का फैसला लिया।

आम तौर पर इतिहास में पंडित जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी को राजघरानों का बहुत विरोधी बताया जाता है, लेकिन राजस्थान के आजादी के इतिहास के कुछ पन्ने इस तथ्य को झुठलाते हैं। पंडित नेहरू को भारत छोड़ो आंदोलन के बाद भी जेल भेजा गया और एक जून 1945 को छोड़ा गया तो मारवाड़ लोक परिषद ने उन्हें जोधपुर बुलाकर सम्मानित करने का फैसला लिया। वे अक्टूबर में आए, लेकिन मारवाड़ में नेहरू का स्वागत करने को लोक परिषद से अधिक रजवाड़े उतावले थे। 
पंडित नेहरू अक्टूबर में जोधपुर जाने के लिए सोजत रेलवे स्टेशन पहुंचे तो महाराजा उम्मेदसिंह के निकट संबंधी कर्नल मोहनसिंह भाटी ने महाराजा की ओर से नेहरू का स्वागत किया। महाराजा खुद नेहरू से मिलने उनके निवास स्थान पर गए। उन्होंने संध्या में नेहरू और उनके साथ गई 28 वर्षीय युवा इंदिरा के सम्मान में भोज दिया। यही नहीं, उन्होंने आजादी के आंदोलन में कांग्रेस के सहयोग के लिए 25,000 रुपए की थैली भी भेंट की।

पंडित नेहरू और महाराजा की इस मुलाकात का असर यह पड़ा कि जोधपुर रियासत के अंग्रेज प्रधानमंत्री सर डोनाल्ड को हटा दिया गया और उनकी जगह इलाहाबाद डिविजन के कमिश्नर सीएस वेंकटाचारी को नियुक्त किया गया। इससे लोकपरिषद और महाराजा के बीच रिश्ते कुछ ठीक हुए। महाराजा उम्मेदसिंह की मृत्यु जून 1947 में माउंट आबू में न हुई होती तो जोधपुर संभवत: राजस्थान की केंद्रीय शक्ति होता। लेकिन उनके जाने के बाद हालात बदलते चले गए।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News

महाराष्ट्र के मंत्रियों ने कर्नाटक में प्रवेश की कोशिश की, तो होगी कार्रवाई : सीएम बोम्मई महाराष्ट्र के मंत्रियों ने कर्नाटक में प्रवेश की कोशिश की, तो होगी कार्रवाई : सीएम बोम्मई
बोम्मई ने कहा कि अगर महाराष्ट्र के मंत्री राज्य में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं, तो संबंधित अधिकारियों को...
रूस में ईंधन टैंकर में आग लगने से 3 लोगों की मौत
बर्ड फ्लू का प्रकोपः 3 लाख से ज्यादा मुर्गियां मारेगा जापान
अंडर-19 महिला विश्व कप में शेफाली करेंगी भारत की कप्तानी
राहुल की केन्द्र सरकार को समय रहते संभल जाने की हुंकारः गहलोत
कृषि पर्यवेक्षक, ग्राम विकास अधिकारी और पटवारी के पद खाली पड़े, जनता भटक रही
ओवरलोड वाहनों के कारण जर्जर हुईं संपर्क सड़कें