अपना घर, अपनी गाड़ी की चाहत बाजार को लाई बुलंदी पर : कोरोना काल के बाद इस दिवाली बाजार में होगी धन वर्षा

अपना घर, अपनी गाड़ी की चाहत बाजार को लाई बुलंदी पर : कोरोना काल के बाद इस दिवाली बाजार में होगी धन वर्षा

कुल बाजार पहुंचा दस हजार करोड़ तक, आॅटोमोबाइल सेक्टर टॉप पर, पटाखों ने किया धमाका

 जयपुर। इस दीपावली पर बाजार मुस्कुरा रहे हैं। अपना घर और अपनी कार की लोगों की चाहत ने इन दोनों सेक्टर से जुड़े कारोबारियों पर मानो धन वर्षा कर दी हो। इस बार पिछली दिवाली की तुलना में खरीद की रौनक अधिक है। इस बार इन दोनों का कारोबार तीन हजार करोड़ तक पहुंचता दिख रहा है। आतिशबाजी से रोक हटाने का आदेश पटाखा कारोबारियों की असली दिवाली साबित हो रहा है। आतिशबाजी का कारोबार पिछले सालों की तुलना में इस बार छलांग लगाकर बाजार में टॉप के पांच पायदान पर पहुंच गया है। 
 
बाजार विश्लेषण के आंकड़े बता रहे है कि इस बार राज्यभर में पंद्रह सौ करोड़ के पटाखे फोड़े जा रहे हैं। घर और कार के साथ होम अप्लायसेंज की मांग में लगातार इजाफा हो रहा है।  नवज्योति टीम ने इस दिवाली पर बाजार का हाल जाना तो ये तमाम तथ्य सामने आए। आंकड़े बता रहे है कि जैम एंड  ज्वैलरी, गोल्ड-सिल्वर कॉइन, का मार्केट भी परवान चढ़ रहा है, क्षेत्र के कारोबारी गुनगुना रहे है, क्योंकि इस बार आठ सौ करोड़ का बिजनेस होता नजर आ रहा है।
 
महंगाई के कारण मात्रा घटी
कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी, पेट्रोल, डीजल और गैस के दामों में वृद्धि के कारण बाजार में सभी प्रॉडक्ट्स की कीमतों में इजाफा हुआ है। व्यापारियों ने ग्राहक के बजट के अनुसार उत्पाद तैयार किए है। रियल एस्टेट, ज्वैलरी, होम अप्लायसेंज, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, आॅटो मोबाइल्स सभी की बिक्री पिछले साल की तुलना में अधिक है। -सुरेश अग्रवाल, चेयरमैन फोर्टी
 
हाई एंड प्रॉडक्ट्स की मांग अधिक
होम अप्लायसेंज में एलईडी, क्यूएलईडी तकनीक के एलसीडी की मांग अधिक है। डिशवाशर, गेहूं आटा चक्की की मांग में वृद्धि हो रही है। होम अप्लाससेंज प्रॉडक्ट रेंज को ग्राहक अपग्रेड कर रहे हैं। -सुरेश कालानी, अध्यक्ष, राजस्थान इलेक्ट्रॉनिक्स ट्रेडर्स एसोसिएशन
 
मोबाइल और एसेसरीज
वर्क फ्रॉम होम ने लैपटॉप, मोबाइल की मांग में इजाफा किया है। साथ ही स्पीकर, हैडफोन, ईयर वियरेबल और कवर की मांग बनी हुई है। -अभिषेक पारीक, टेक्नोप्राइम डिस्ट्रीब्यूटर पार्टनर
 
तांबा, पीतल और स्टील के बर्तन
पिछली दिवाली की तुलना में इस बार स्टील, तांबा, पीतल और एल्युमिनियम के बर्तनों की कीमतों में तीस से चालीस फीसदी बढ़ गए है। नॉन स्टीक कूकवेयर्स की मांग है। -नवनीत, बर्तन व्यापारी
 
कारोबार ने क्यों लिया नया आकार
कोरोना के बाद सबसे पहली पसंद अपना घर, अपना वाहन और होम अप्लायसेंज प्रॉडक्ट्स बने। दूसरी लहर का संकट देख जीभर के जीवन स्तर को बढ़ाने की चाहत ने बचत में से खर्च की मनोवृत्ति को बढ़ाया है। निवेश करना अब 
दूसरी पसंद हो गई है।
 
स्टाम्प ड्यूटी में छूट, कम दरों पर होम फाइनेंस
रियल एस्टेट मार्केट में स्टाम्प ड्यूटी में छूट, कम दरों पर होम फाइनेंस के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना में मिलने वाली सब्सडी के कारण मध्यम वर्ग अब सिर्फ अपने घर में रहना चाहता है। मार्केट में बिल्डर्स के सभी तैयार प्रोजेक्ट बिक गए हैं। नए साल में नए प्रोजेक्ट आएंगे। कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण अब नए प्रोजेक्ट बीस से तीस फीसदी महंगे होंगे। -गोपाल गुप्ता, संरक्षक क्रेडाई
 
हल्के वजन के गहने और शगुन की खरीद
बढ़ते सोने-चांदी के दामों के कारण हल्के वजन के गहने अधिक पंसद किए जा रहे हैं। सोने-चांदी के सिक्के भी शगुन के लिए कम वजन के अधिक बिकते हैं। सर्राफा बाजार में उत्साह बना हुआ है।  -कैलाश मित्तल अध्यक्ष, सर्राफा ट्रेडर्स कमेटी जयपुर
 
विश्लेषकों के अनुसार कितना हो सकता है कारोबार
आॅटो मोबाइल 1800 करोड़
रियल एस्टेट 1500 करोड़
होम अप्लायसेंज 1200 करोड़
पटाखा 1500 करोड़
टेक्सटाइल एंड गारमेंट्स 
1500 करोड़
मोबाइल-लैपटॉप एसेसरीज  
180 करोड़
तांबा, पीतल और स्टील 
बर्तन 200 करोड़
स्वीट्स, डेकोरेटिव प्रॉडक्ट्स 200 करोड़

Post Comment

Comment List

Latest News