जाने राज-काज में क्या है खास

चौकड़ी के एक लाल की गरज से दोनों तरफ हलचल पैदा हो गई

जाने राज-काज में क्या है खास

धुकधुकी तो भगवा वाले भाईसाहबों में भी है, लेकिन हाथ वाले भाई लोगों की हालत ज्यादा ही खराब है। राज का काज करने वाले लंच केबिनों में बतियाते हैं कि पॉलिटिक्स में तो पता नहीं क्या होगा, मगर उन साहब लोगों के चेहरों पर चिन्ता की लकीरें साफ दिखाई देने लगी हैं, जो रात के अंधेरों में दोनों ही देवरों पर ढोक लगा रहे हैं।

बड़ी लीडर्स की धुकधुकी
धुकधुकी तो धुकधुकी है, कब किसकी बढ़ जाए, पता नहीं चलता। सूबे में इन दिनों लीडर्स के साथ कुछ ब्यूरोक्रेट्स की भी धुकधुकी बढ़ी हुई है। बढ़े भी क्यों नहीं, सूबे की पॉलिटिक्स में डांस जो रहा है। इसके चलते कुछ लीडर्स ने करो या मरो की नीति से काम करना भी शुरू कर दिया है। वे न स्थान देखते हैं और न ही वक्त। और तो और वे दीना के लाल की तरह, एक ही खिलौना लेने के लिए मचले हुए हैं। धुकधुकी तो भगवा वाले भाईसाहबों में भी है, लेकिन हाथ वाले भाई लोगों की हालत ज्यादा ही खराब है। राज का काज करने वाले लंच केबिनों में बतियाते हैं कि पॉलिटिक्स में तो पता नहीं क्या होगा, मगर उन साहब लोगों के चेहरों पर चिन्ता की लकीरें साफ दिखाई देने लगी हैं, जो रात के अंधेरों में दोनों ही देवरों पर ढोक लगा रहे हैं।

चौकड़ी का नया पैंतरा
चौकड़ी के एक लाल की गरज से दोनों तरफ हलचल पैदा हो गई। हलचल भी ऐसी कि किसी के पास जवाब तक नहीं। मामला चूंकि भ्रष्टाचार से जुड़ा है, सो राज का काज करने वालों में चर्चा होना स्वाभाविक है। लंच केबिन में चर्चा है कि हाथ वाले तीनों लालों के रथ के बड़ी मुश्किल से लगे ब्रेक को भगवा वाले लाल की आड़ में फिर से घुमाया, तो नहीं जा रहा। कुर्सी का सपना देख रहे भगवा वाले भाई लोगों को चिन्ता सता रही है कि क्षत्रिय हाथ से निकल गए तो सबकुछ गड़बड़झाला हो जाएगा। हाथ वालों में खुसरफुसर है कि चौकड़ी का यह नया पैंतरा अब कोई न कोई गुल जरूर खिलाएगा।


इंतजार आंख फूटने का
आजकल सरदार पटेल मार्ग स्थित भगवा वालों के दफ्तर में एक किस्सा जोरों पर है। वहां आने वाले हर किसी को चटकारे लेकर सुनाया जाता है। हमें भी भाईसाहब ने सुनाया तो हंसे बिना नहीं रह सके। भाईसाहब ने सुनाया कि आजकल यहां तू मेरी आंख फोड़, मै तेरी फोडूं वाला किस्सा चल रहा है। तिगड़ी ने जोधपुर वाले गज्जू बन्ना को लेकर खुसरफुसर की, तो भाईसाहबों ने आमेर वाले भाईसाहब का अड़ंगा ला दिया। अब दोनों खेमे आंख फोड़ने के इंतजार में हैं। 

Read More जाने राज-काज में क्या है खास


तेवर पीसीसी चीफ के
आजकल हाथ वालों के साथ साथ भगवा में भी पीसीसी चीफ के तेवरों को लेकर खुसरफुसर हो रही है। राज का काज करने वाले भी लंच केबिन में अपने हिसाब से अर्थ निकाल रहे हैं। पीसीसी चीफ डोटासरा साहब की जुबान खुलती है, तो उसका असर सीधे राज पर दिखाई देता है। इतनी तेज गति से जुबान तो गुजरे जमाने में नाथद्वारा वाले प्रोफेसर साहब की भी नहीं चली थी। हाथ वाले भाई लोग भी नहीं समझ पा रहे हैं कि माजरा क्या है। भगवा वाले भी इधर उधर सूंघने की कोशिश कर रहे हैं। इंदिरा गांधी भवन में आने वाले गांधी टोपी वालों का तर्क है कि गोविन्ददेवजी के हमनाम वाले तो केवल मोहरा है, इशारा और कहीं से है।

एक जुमला यह भी
सूबे में इन दिनों एक जुमला जोरों पर है। जुमला भी छोटा-मोटा नहीं, बल्कि बड़े नेताओं के पहनावे को लेकर है। इस जुमले से पिंकसिटी के इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने के साथ ही सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों का दफ्तर भी अछूता नहीं है। यहां आने वाले हर वर्कर्स को चटकारे लेकर सुनाया जा रहा है। बेचारे वर्कर्स के समझ में नहीं आ रहा कि आखिर माजरा क्या है। जुमला है कि इन दिनों दोनों बड़े दलों के तुर्रम खां लीडर भी टी-शर्ट, सूट और मफलर की कीमत की पॉलिटिक्स में उलझे हुए हैं। वर्कर्स को डर है कि कहीं थोड़े दिनों बाद चड्डी-बनियान की कीमत को लेकर उनके नेताओं के मुंह नहीं खुल जाए। अब लीडर्स को कौन समझाए कि पब्लिक को कपड़ों की कीमत से कोई मतलब नहीं है, इसमें समय गंवाने से कुछ भी हाथ नहीं लगने वाला है।

-एलएल शर्मा

Post Comment

Comment List

Latest News

फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक
राज्यपाल पद से सेवानिवृत्त होने के बाद मलिक बागपत स्थित अपने पैतृक गांव हिसावदा में पहुंचे थे। गांव में बुधवार...
बॉन्ड नीति के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स का अस्पतालों में पूर्णतया कार्य बहिष्कार
पूर्व पुलिसकर्मी ने चाइल्ड केयर सेंटर में की फायरिंग, 23 बच्चों समेत 34 लोगों की मौत
भारत में निर्मित कफ सिरप पीने से गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत, डब्ल्यूएचओ ने दी चेतावनी
देश में कोरोना के 2,529 नए मामले आए सामने 
ये लक्षण करते हैं फैटी लीवर की ओर इशारा, हो जाएं सतर्क
आज का 'राशिफल'