पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संविधान को खत्म करने की कही बात

व्हाइट हाउस ने की निंदा

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संविधान को खत्म करने की कही बात

ट्रंप के इस बयान से अब अमेरिका की राजनीति में सियासी घमासान शुरू हो गया है। ट्रंप ने न केवल संविधान को खत्म करने की बात की बल्कि उन्होंने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी टेक कंपनियों पर भी बड़े आरोप लगाए है

वाशिंगटन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल ही में 2024 के चुनावी मैदान में उतरने की घोषणा की जिसके बाद से वे सुर्खियों में बने हुए है। ट्रंप विपक्ष पर लगातार निशाना भी साध रहे है। इसी को देखते हुए अब उन्होंने वर्ष 2020 के राष्ट्रपति चुनाव का मामला एक बार फिर से उठा दिया है। ट्रंप ने वर्ष 2020 में अपनी जीत का झूठा दावा करते हुए अब संविधान को खत्म करने की बात कर रहे है। उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए वर्ष 2020 के चुनाव को धोखाधड़ी करार दिया है और अमेरिका के संविधान को नष्ट करने का आह्वान किया है।

बड़ी टेक कंपनियों पर ट्रंप का आरोप

ट्रंप के इस बयान से अब अमेरिका की राजनीति में सियासी घमासान शुरू हो गया है। ट्रंप ने न केवल संविधान को खत्म करने की बात की बल्कि उन्होंने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी टेक कंपनियों पर भी बड़े आरोप लगाए है। उन्होंने कहा कि 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी टेक कंपनियां डेमोक्रेट्रिक पार्टी के साथ मिल गई थी और उनके खिलाफ हो गई थी। डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को अपने सोशल मीडिया ट्रूथ सोशल पर एक पोस्ट जारी किया था, जिसमें उन्होंने अपनी जीत के झूठे दावे को दोहराते हुए कहा कि 2020 का राष्ट्रपति चुनाव ट्रंप ने जीता था। बिग टेक कपंनियों पर आरोप लगाते हुए उन्होंने दावा किया कि डेमोक्रेट्स के साथ मिलकर टेक कंपनियां उनके खिलाफ हो गई। ट्रंप ने मांग की कि अमेरिकी संविधान को खत्म कर देना चाहिए। उनके इस बयान से अमेरिकी राजनीति में हलचल मच गई है।

2024 के चुनाव की तैयारी 

ट्रंप की इस टिप्पणी पर व्हाइट हाउस के प्रवक्ता एंड्रयू बेट्स ने कहा कि उनका ये बयान हमारे देश की आत्मा के लिए अभिशाप है। ट्रंप की टिप्पणी की पूरी दुनिया में निंदा की जा रही है। वहीं ट्रंप के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे रिपब्लिकन जॉन बोल्टन ने ट्वीट करते हुए कहा, 2020 के चुनाव के नतीजों के कारण संविधान को निलंबित करने के ट्रंप के आह्वान से कोई भी अमेरिकी रूढ़िवादी सहमत नहीं हो सकता है। ट्रंप फिर से 2024 के चुनाव की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन उनका चुनाव प्रचार न हो इसका विरोध किया जाए।

Post Comment

Comment List

Latest News

जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम
सचिव शिव जालान ने बताया कि इसमें अनेक कलाकार गीतों, गजलें और नज्मों से स्व. जगजीत सिंह को स्वरांजलि अर्पित...
सतीश पूनियां ने सीएम को लिखा पत्र, आमेर विस क्षेत्र की मांगों को बजट में शामिल करने का किया आग्रह
केरल का इंटरनेशनल थियेटर फेस्टिवल 5 फरवरी से होगा शुरू
मोबाइल फोन के बेतहाशा इस्तेमाल से बढ़ा विजन सिंड्रोम का खतरा
तालिबान प्रशासन व्याख्याता मशाल को तत्काल रिहा करें: संयुक्त राष्ट्र
अडानी सीमेंट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग
खान सुरक्षा अभियान में निदेशक खान का जोधपुर दौरा