परिंदा भी पर मारे तो पकड़ लेगी तीसरी आंख

बच्चा चोरी की घटनाओं के बाद जेकेलोन में बढ़ाए थे कैमरे

परिंदा भी पर मारे तो पकड़ लेगी तीसरी आंख

वर्तमान में पूरे जेकेलोन अस्पताल में करीब 32 से अधिक कैमरे लगे हुए है। अधीक्षक के कक्ष में कंट्रोल रूम बना हुआ है। जिसमें सभी वार्ड और अस्पताल की मॉनिटरिंग की जा रही है। सर्वर रूम में एक कर्मचारी हमेंशा तैनात रहता है। जो निगरानी रखता है।

कोटा। जेकेलोन अस्पताल में बच्चा चोरी और बच्चा अदला-बदली की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए निगरानी व्यवस्था चाकचौबंद हो चुकी है। जहां तीन साल पहले  लगातार बच्चा चोरी व अदला-बदली की घटनाओं के बाद जेकेलोन अस्पताल प्रबंधन ने परिसर में सीसीटीवी कैमरे बढ़ाए हैं। तीन साल पहले तक जहां पहले 12 कैमरे थे, उसके बाद4 कैमरे और बढ़ाए गए हैं। 16 कैमरे लगाए। उसके बाद भी चोरी की घटनाए कम नहीं हुई तो जेकेलोन हर हिस्से में सीसीसीटी कैमरे लगाए। जिसमें इनमें एक बाहरी हिस्से में एंट्री पर लगाया है, जिससे पूरा बाहरी हिस्सा कवर हो रहा है। वहीं, एक अंदर पोर्च में लगाया है, जहां अब तक एक ही कैमरा होने से एक हिस्सा कवर होता था। इसके अलावा एक कैमरा बच्चों की इमरजेंसी में लगाया है। रजिस्ट्रेशन वाले हिस्से में भी एक कैमरा और बढ़ाया गया है। अब पूरा अस्पताल कवर हो गया है। अस्पताल के हर वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगा दिए है। ऐसे में  अब जेकेलोन से बच्चा चुराना आसान नहीं है। 

वत्वर्तमान में 32 कैमरों से हो रही निगरानी 
वर्तमान में पूरे जेकेलोन अस्पताल में करीब 32 से अधिक कैमरे लगे हुए है। अधीक्षक के कक्ष में कंट्रोल रूम बना हुआ है। जिसमें सभी वार्ड और अस्पताल की मॉनिटरिंग की जा रही है। सर्वर रूम में एक कर्मचारी हमेंशा तैनात रहता है। जो निगरानी रखता है। 

ई बिल्डिंग में लगे हैं 36 कैमरे
जेकेलोन की नई बिल्डिंग में लगभग 36 कैमरे लगाए जा रहे है। जिसमें से 24 कैमरे ओपीडी भवन में शेष आईपीडी में लगाए जा रहे है। बच्चों के वार्ड और गलियारे में सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है जिससे पूरे वार्ड की निगरानी हो रही है। 

इनका कहना 
अस्पताल में मरीजों की जान माल की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए है। नए भवन में 36 कैमरे लगाए गए है। वर्तमान बिल्डिंग में 32 कैमरों से निगरानी रखी जा रही है। यहां बच्चों की अदला बदली चुराने की घटना नहीं हो इसका पूरी निगरानी रखी जाती है। अस्पताल को आधुनिक उपकरण से लेस करने के लिए और फर्निचर बेड के लिए 3 करोड का बजट स्वीकृत हो चुका है । शीघ्र अल्पकालीन निविदा जारी होकर काम शुरू हो जाएगा।
-डॉ.  मनीष बोहरा, कार्यालय अध्यक्ष, डीडीओ व नोडल अधिकारी जेकेलोन 

Post Comment

Comment List

Latest News