ओपिनियन - Page 2
ओपिनियन

हमारे जीवन में पिता का योगदान और महत्व

हमारे जीवन में पिता का योगदान और महत्व पिता हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। फादर्स डे पिता का सम्मान करने का दिन है। एक पिता का रिश्ता बहुत ही गहरा होता है और यह दिन इस रिश्ते को और मजबूत करता है। फादर्स डे हमें पिता के प्रति अपने प्यार, प्रशंसा कृतज्ञता को व्यक्त करने का अवसर देता है। यह दिन दुनिया भर में पिता के बलिदानों की सराहना करता है।
Read More...
ओपिनियन

अग्निपथ पर प्रदर्शन

अग्निपथ पर प्रदर्शन सेना में भर्ती की अग्निपथ योजना के विरोध का दायरा बढ़ गया है। सात प्रदेशों में न केवल उग्र प्रदर्शन हुए, बल्कि आग, पथराव व तोड़फोड़ भी हुई। बिहार में तो 5 ट्रेनों में आग लगा दी गई।
Read More...
ओपिनियन

10 लाख को नौकरी

10 लाख को नौकरी कोरोना महामारी और उससे उपजी परिस्थितियों के कारण रोजगार को लेकर जो निराशा छाई हुई थी, उसके मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 लाख बेरोजगारों को नौकरियां देने की घोषणा की है।
Read More...
ओपिनियन

भारत में बढ़ती महंगाई और महंगा ऋण

भारत में बढ़ती महंगाई और महंगा ऋण यदि रेपो दर ओर बढ़ती है, लेकिन जमा पर ब्याज दर भी तो बढ़ती है, जो कि जमाकर्ताओं के लिए एक राहत की बात है। लेकिन व्यवहार में ऐसा हो नहीं रहा है।
Read More...
ओपिनियन

गति शक्ति ढांचा नए भारत को दे रही है नई गति

गति शक्ति ढांचा नए भारत को दे रही है नई गति प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में गति शक्ति ढांचा क्षेत्र के तेजी से बढ़ने, मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी कार्यों के निर्बाध एकीकरण ने पिछले 8 वर्षों में नए भारत को नई गति दी है।
Read More...
ओपिनियन

धधकती धरती जीवन के लिए खतरे का संकेत

धधकती धरती जीवन के लिए  खतरे का संकेत देश में बढ़ते तापमान के प्रकोप को हम भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों की नजरों से देखें, तो इस वर्ष 2022 के मार्च माह में देश का औसत अधिकतम तापमान मार्च माह में ही 33.1 डिग्री सेल्सियस तक चला गया था, जिसके चलते वर्ष 1901 के बाद इतिहास में पहली दफा मार्च माह को सबसे गर्म महीने के रूप में रिकॉर्ड किया गया।
Read More...
ओपिनियन

'राजकाज'

'राजकाज' पर्दे के पीछे की खबरें जो जानना चाहते है आप....
Read More...
ओपिनियन

हिंसक उपद्रव

हिंसक उपद्रव एक टीवी डिबेट में पैगम्बर मोहम्मद के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर शुक्रवार को जुम्मे की नमाज के बाद देश के अलग-अलग शहरों में जिस स्तर पर हिंसक विरोध-प्रदर्शन हुए हैं उन्हें लेकर सभी समुदायों में चिंता पैदा होनी चाहिए। टीवी डिबेट के दौरान बयानों से जो गलत फहमियां फैल गई हैं उन्हें तो अब तक शांत हो जाना चाहिए था, क्योंकि भारत सरकार ने साफ कर दिया है कि उन बयानों से उसका कोई लेना-देना नही है और किसी से विवादित बयान दिए हैं, तो संबंधित संस्थाओं ने उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई कर दी है।
Read More...
ओपिनियन

राष्ट्र का पुनरुत्थान जल शक्ति के लिए अभिसरण

राष्ट्र का पुनरुत्थान जल शक्ति के लिए अभिसरण स्वच्छ भारत मिशन फेज-2 के तहत अब तक 41,450 गांवों में ठोस और तरल कचरा प्रबंधन की व्यवस्था की जा चुकी है और करीब 4 लाख गांवों में न्यूनतम अपशिष्ट पानी रुका हुआ है।
Read More...
ओपिनियन

फिर रेपो दर में की वृद्धि

फिर रेपो दर में की वृद्धि रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने रेपो दर में 0.50 प्रतिशत की वृद्धि कर ग्राहकों पर महंगाई का बोझ तो बढ़ाया ही है। गवर्नर शशिकांत दास की यह टिप्पणी भी समान रूप से चिंतित करने वाली है कि आगामी दिसंबर तक महंगाई से राहत की उम्मीद नहीं है।
Read More...
ओपिनियन

कोचिंग हब में आत्महत्याओं का अंतहीन दौर

कोचिंग हब में आत्महत्याओं का अंतहीन दौर कभी राजस्थान की औद्योगिक नगरी के रुप में जाना जाने वाला कोटा शहर बीते कुछ दशकों से शिक्षा नगरी के नाम से पहचान बना चुका है। आईआईटी और इंजीनियरिंग में प्रवेश दिलाने की कोचिंग के लिए कोटा शहर की पहचान पूरे देश में कोचिंग हब के रुप में है।
Read More...
ओपिनियन

फिर बिजली संकट

 फिर बिजली संकट आने वाले महीनों में कोयले की कमी की वजह से देश में बिजली संकट और गंभीर होने के संकेत मिल रहे हैं। खबरों के अनुसार बिजली मंत्रालय का एक आंतरिक आंकलन दिखाता है कि सितंबर तिमाही में बिजली की कमी और बढ़ सकती है।
Read More...

बिजनेस