स्वास्थ्य - Page 22
स्वास्थ्य

ज्यादा एंटीबॉडीज होना हमेशा बेहतर नहीं, हो सकती है मल्टीपल मायलोमा की समस्या

ज्यादा एंटीबॉडीज होना हमेशा बेहतर नहीं, हो सकती है मल्टीपल मायलोमा की समस्या मल्टीपल मायलोमा एक तरह का ब्लड कैंसर है, जो बोन मैरो से शुरू होकर रक्त से शरीर में फैल जाता है। इस लाइलाज बीमारी में रक्त में प्लाज्मा सेल्स द्वारा बनाई जाने वाली एंटीबॉडीज बढ़ जाती है। अधिक मात्रा में इन एब्नार्मल एंटीबॉडीज के बढ़ने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है।
Read More...
स्वास्थ्य

गर्भवती महिलाओं के लिए भी सुरक्षित है कोरोना की वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइंस

गर्भवती महिलाओं के लिए भी सुरक्षित है कोरोना की वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइंस स्वास्थ्य मंत्रालय ने गर्भवती महिलाओं को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए गाईडलाइन जारी की है। मंत्रालय ने कहा कि अधिकतर गर्भवती महिलाएं ऐसिम्प्टमैटिक होगी या उन्हें हल्की बीमारी होगी।
Read More...
स्वास्थ्य

सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, वयस्क कोविड रोगियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाएं बच्चों को नहीं देने की सलाह

सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, वयस्क कोविड रोगियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाएं बच्चों को नहीं देने की सलाह देश में कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर सरकारों ने तैयारियां शुरू कर दी है। बच्चों को तीसरी लहर से बचाने की तैयारियों पर खास जोर दिया जा रहा है। मोदी बीच सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर कहा है कि वयस्क के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों का बच्चों पर इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।
Read More...
स्वास्थ्य

ब्लैक फंगस पर विशेषज्ञों की राय, मास्क में नमी के कारण हो सकता है फंगल इंफेक्शन

ब्लैक फंगस पर विशेषज्ञों की राय, मास्क में नमी के कारण हो सकता है फंगल इंफेक्शन देश में कोविड 19 के मरीजों में म्यूकोरमायकोसिस (ब्लैक फंगस) के मामलों वृद्धि को मास्क में नमी होना माना जा रहा है।
Read More...
स्वास्थ्य

कोविड मरीजों में ब्लैक फंगस को लेकर एम्स डायरेक्टर ने चेताया, कहा- स्टेरॉयड इसका सबसे बड़ा कारण

कोविड मरीजों में ब्लैक फंगस को लेकर एम्स डायरेक्टर ने चेताया, कहा- स्टेरॉयड इसका सबसे बड़ा कारण दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने शनिवार को एक प्रेस वार्ता में ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस की स्थिति पर बात की। गुलेरिया ने कहा कि कोविड से पहले म्यूकरमाइकोसिस संक्रमण के बहुत कम मामले थे, लेकिन अब कोविड के कारण इसके मामले बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं। स्टेरॉयड्स इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण है।
Read More...
स्वास्थ्य

कोविड के दौर में डेंगू भी दे रहा दस्तक, डेंगू के प्रारंभिक लक्षण कोरोना के जैसे होने से पैदा हो रही उलझन

कोविड के दौर में डेंगू भी दे रहा दस्तक, डेंगू के प्रारंभिक लक्षण कोरोना के जैसे होने से पैदा हो रही उलझन कोविड महामारी के दौर में जहां लक्षणों के आधार पर जांच व इलाज की दिशा तय की जा रही है, वहीं इस कड़ी में बहुत सी ऐसी बीमारियां भी हैं जिनके प्राथमिक लक्षण कोविड से मिलते जुलते हैं। ये लक्षण लोगों मन में कुछ हद तक उलझन पैदा कर सकते हैं। इन्हीं में से एक है डेंगू।
Read More...
स्वास्थ्य

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है
Read More...
स्वास्थ्य

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण जयपुर शहर के जगतपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में 78 वर्षीय मरीज के हार्ट वॉल्व का बिना किसी चीरफाड़ के सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ कार्डियक सर्जन डॉ. समीर शर्मा ने बताया कि मरीज को करीब पांच साल पहले हृदय की नसों में रुकावट के बाद दो स्टंट लगाए गए थे।
Read More...
स्वास्थ्य

एम्स में आइवीयूएस व आईएफआर तकनीक से हुई पहली बार एंजियोग्राफी

एम्स में आइवीयूएस व आईएफआर तकनीक से हुई पहली बार एंजियोग्राफी एम्स जोधपुर के हृदय रोग विभाग ने इस नई तकनीक का इस्तेमाल करते हुए दो मरीजों का सफल इलाज किया। उत्तर भारत में इस तकनीक की सहायता से पहली बार इलाज किया गया। एम्स के निदेशक डॉक्टर संजीव मिश्रा ने बताया कि संस्थान के सभी विभागों में उच्चतम तकनीक से मरीजों का इलाज किया जाता है।
Read More...
स्वास्थ्य

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी।
Read More...

बिजनेस