Editorial - Page 8
ओपिनियन

महंगाई और आकड़े

महंगाई और आकड़े सरकार द्वारा जारी आंकड़ों में महंगाई में थोड़ी गिरावट जरूर दिखाई गई है, लेकिन आम आदमी के लिए यह किसी भी प्रकार से राहत की बात नहीं है।
Read More...
ओपिनियन

अब बच्चों को टीका

अब बच्चों को टीका चिकित्सा जगत के विशेषज्ञों की अनुमति मिलने के बाद बच्चों के टीकाकरण का अभियान शुरू हो जाएगा।
Read More...
ओपिनियन

फिर आतंकी चुनौती

फिर आतंकी चुनौती जम्मू-कश्मीर के राजौरी सेक्टर में आतंकियों से मुठभेड़ में सेना के एक अधिकारी समेत पांच जवान शहीद हो गए।
Read More...
ओपिनियन

महंगाई की मार

महंगाई की मार देश में पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के दाम लगातार बढ़ाए जाने से आम लोगों पर महंगाई की तगड़ी मार पड़ रही है।
Read More...
ओपिनियन

ममता की जीत

ममता की जीत पश्चिम बंगाल में तीन विधानसभा सीटों भवानीपुर, समसेरगंज और जंगीपुर में तृणमूल कांग्ररेस को शानदार जीत हासिल हुई है। इस जीत से यह जाहिर होता है कि इस राज्य में ममता बनर्जी का दबदबा कायम है
Read More...
ओपिनियन

आंदोलन पर सवाल

आंदोलन पर सवाल सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन के दौरान रास्ते जाम बनाए रखने के मुद्दे पर गहरी नाराजगी और चिंता व्यक्त की
Read More...
ओपिनियन

75 साल बाद भी 80 करोड़ को मुफ्त राशन देने की जरूरत?

75 साल बाद भी 80 करोड़ को मुफ्त राशन देने की जरूरत? देश की बड़ी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रही है। आजादी से लेकर अब तब देश से गरीबी का उन्मूलन नहीं हो सका है। यह जानकर हैरानी होती है कि 75 साल बाद भी 80 करोड़ जनसंख्या गरीब है। सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत देश के 80 करोड़ गरीबों को दीपावली तक मुफ्त अनाज देगी। 75 वर्षों में ऐसी स्थिति क्यों आई की देश के 80 करोड़ लोगों के लिए दो वक्त के भोजन की व्यवस्था सरकार को करनी पड़ रही है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में एक बार नाथी का बाड़ा चर्चा में है। हो भी क्यों ना हर कोई नेता नाथी का बाड़ा से ताल्लुकात रखे बिना नहीं रहते। इसके बिना उनकी पार भी नहीं पड़ती है। गुजरे जमाने में नाथी का बाड़ा केवल पाली जिले से ताल्लुकात रखता था लेकिन अब इसका थड़ा बदल कर सीकर के लक्ष्मणगढ़ इलाके में पहुंच गया है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में इन दिनों एक बार फिर ललचाई नजरों को लेकर काफी खुसरफुसर है। दोनों दलों में नेताओं की नजरें भी दिल्ली की तरफ टिकी हैं। भगवा और हाथ वाले एक-एक गुट को दिल्ली वालों बड़ी आस है। दिल्ली वाले हैं कि सिर्फ चक्कर पर चक्कर कटवा रहे हैं और कोई फरमान जारी नहीं कर रहे। वे फिलहाल वजन टटोलने में लगे हुए हैं।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में इन दिनों हाथ वाले भाई लोग 19 और 27 के फेर में फंसे हुए हैं। दोनों खेमों के नेताओं के 11 महीनों से समझ में नहीं आ रहा कि आखिर इस फेर के चक्रव्यूह का तोड़ क्या है। दिल्ली वाले नेता भी इसके चलते चुप रहने में ही अपनी भलाई समझ रहे हैं।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे की राजनीति में केबिनेट रिशफलिंग को एक बार फिर शगूफा उठा है। शगूफा भी पिंकसिटी से लेकर लालकिले वाली नगरी तक दौड़ रहा है। रिशफलिंग को लेकर हर कोई अपने हिसाब से मायने निकाल रहा है। निकाले भी क्यों नहीं, राजधर्म आड़े जो आ रहा है। दिल्ली तक की भाग दौड़ में एक बात का खुलासा हुआ है कि आलाकमान को एक सूची को इंतजार है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में हाथ वाली पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है। दो खेमों में बंटे भाई लोग आपस में दो-दो हाथ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। वैसे तो खुद को पार्टी का वफादार वर्कर साबित करने के लिए रात दिन बढ़कर दावे कर रहे हैं, लेकिन हकीकत यह है कि उनको अपने स्वार्थ के सिवाय 136 साल पुरानी पार्टी की इमेज से कोई लेना देना नहीं है।
Read More...

Advertisement

Advertisement