गुजरात विधानसभा चुनाव-2022: पैसा है नहीं फिर भी एक मकसद के लिए सब्जी बेचने वाले, मजदूर भी लड़ रहे चुनाव

एजेंडे में है स्थानीय मुद्दे

गुजरात विधानसभा चुनाव-2022: पैसा है नहीं फिर भी एक मकसद के लिए सब्जी बेचने वाले, मजदूर भी लड़ रहे चुनाव

ये उम्मीदवार विरोध में चुनाव लड़ रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि उनके साथ किसी तरह से अन्याय हुआ है। इनमें से 10 ने अपने हलफनामों में शून्य आय और शून्य संपत्ति घोषित की है।

अहमदाबाद। आम तौर पर चुनावों में करोड़पति राजनेता ओछी बयानबाजी करते हैं। लेकिन 2022 के गुजरात विधानसभा चुनाव में कंगाली की कगार पर खड़े 40 प्रत्याशी भी मैदान में हैं। ये उम्मीदवार विरोध में चुनाव लड़ रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि उनके साथ किसी तरह से अन्याय हुआ है। इनमें से 10 ने अपने हलफनामों में शून्य आय और शून्य संपत्ति घोषित की है। प्रमुख प्रत्याशियों के पास तो बहुत पैसा है। लेकिन जो उम्मीदवार केवल सिद्धांतों की बात कर रहे हैं, वे प्रचार की लागत को पूरा करने के लिए दूसरों की दया पर निर्भर हैं। 35 वर्षीय सब्जी विक्रेता महेंद्र पाटनी ने गांधीनगर उत्तर सीट के उम्मीदवार के रूप में अपने नामांकन पत्र में शून्य आय और संपत्ति घोषित की है। उन्होंने 5,000 रुपए की फीस 1 रुपए के सिक्के के रूप में जमा की। उन्होंने कहा कि जब गांधीनगर राजधानी रेलवे स्टेशन का निर्माण किया गया था तो हमारी झोंपड़ियों को तोड़ दिया गया था। कई लोगों का पुनर्वास नहीं किया गया। चुनाव में खड़ा होना विरोध करने का मेरा तरीका है। उन्होंने कहा कि वह अपने अभियान के लिए सड़क किनारे रेहड़ी-पटरी वालों से मदद लेंगे। 39 वर्षीय मंजू पिंगला जिन्हें पांच महीने पहले खंभालिया नगरपालिका के दिहाड़ी मजदूर के रूप में हटा दिया गया था, वे खंभलिया सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रही हैं। उन्होंने 392 रुपए की संपत्ति घोषित की है। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने धरना दिया और आत्महत्या करने के लिए एक लैंडमार्क टॉवर पर चढ़ीं तो उन्हें नगरपालिका भवन के बाहर से घसीटा गया। लेकिन उन्हें नीचे उतरने के लिए मना लिया गया। एक शेड में रहने वाले पिंगला ने कहा कि लोगों ने मुझसे कहा कि अगर मैं चुनाव लड़ती हूं तो मेरी दुर्दशा दूर-दूर तक जानी जाएगी।

एजेंडे में उनके स्थानीय मुद्दे
एलिसब्रिज सीट से सेवानिवृत्त कैब चालक 54 वर्षीय राजेश वाघेला चुनाव लड़ रहे हैं। वह प्रत्येक मतदाता से 10 रुपए का योगदान लेने की योजना बना रहे हैं। वाघेला ने कहा कि वह अपना खाली समय अखबार पढ़ने और पुस्तकालयों में जाने में बिताते हैं। मेरी 5,000 रुपए की पूरी बचत को चुनावी जमा के रूप में भुगतान किया है। मैं बेहतर शिक्षा और बुनियादी ढांचे की जरूरत को रेखांकित करने के लिए मैदान में हूं। गांधीधाम सिनेमा में टिकट क्लर्क जिगिशा सोंदरवा ने कहा कि वह गांधीधाम सीट से चुनाव लड़ रही हैं क्योंकि किसी भी पार्टी के नेता को एकतानगर झुग्गी में बुनियादी सुविधाओं में सुधार की परवाह नहीं है, जहां वह रहती हैं। उन्होंने कहा कि पीने के पानी और बिजली की आपूर्ति अनियमित है और नाले हर समय बहते रहते हैं। कोई भी पार्टी हमारी झुग्गी के 2,000 वोटों के बारे में चिंतित नहीं है और इसलिए मैं इन मुद्दों को उजागर करने के लिए चुनाव लड़ रही हूं। सोंदरवा का मासिक वेतन 10,000 रुपए है। 32 वर्षीय नसरीन शेख लिंबायत सीट से चुनाव लड़ रही हैं। वजह पर बोलते हुए वह कहती हैं कि भाजपा कार्यकर्ता होने के बावजूद किसी भी तरह से मदद नहीं मिली। उन्होंने 10,000 रुपए की संपत्ति घोषित की है। शेख ने कहा कि उचित मूल्य की दुकानों पर उनका अनुभव खराब है।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News

मुथूट फाइनेंस ने माधुरी दीक्षित को ब्रांड एंबेसडर बनाया मुथूट फाइनेंस ने माधुरी दीक्षित को ब्रांड एंबेसडर बनाया
द मुथूट ग्रुप के संयुक्त प्रबंध निदेशक अलेक्जेंडर जॉर्ज मुथूट ने कहा कि मुथूट ग्रुप परिवार में हमारे ब्रांड एंबेसडर...
डोप टेस्ट से बचने के लिए मैदान से भागा खिलाड़ी
2007 विश्व कप के हीरो जोगिंदर ने क्रिकेट के से लिया संन्यास
रणजी ट्रॉफी: आंध्र प्रदेश को हरा मध्यप्रदेश भी अंतिम चार में पहुंची
वनडे ट्रॉफी में राजस्थान की बेटियों का कमाल: आयुषी के शतक से पंजाब को 69 रनों से हराया
रेल बजट में राजस्थान को मिला 9532 करोड़ रुपए का बजट
दोस्ती वाला प्यार या प्यार वाली चाहत, इश्क की अपनी चाल है, अब बर्बाद हो या आबाद किस्मत की बात है