बढ़ती महंगाई

वस्तुओं की कीमतें काफी समय से बढ़ती जा रही है

बढ़ती महंगाई

आम आदमी को फिर झटका लगा है। उसकी जरूरत को पूरा करने वाली लगभग सभी वस्तुओं की कीमतें काफी समय से बढ़ती जा रही है। इसी बीच गैस की कीमतों में वृद्धि से दोहरी मार झेलनी पड़ रही है।

आम आदमी को फिर झटका लगा है। उसकी जरूरत को पूरा करने वाली लगभग सभी वस्तुओं की कीमतें काफी समय से बढ़ती जा रही है। इसी बीच गैस की कीमतों में वृद्धि से दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। सरकार ने गैस सिलेण्डर की कीमत में 50 रुपए की और वृद्धि कर दी है। पिछले एक साल से इसकी कीमत लगातार बढ़ रही है। इस दौरान इसके दाम 834 रुपए से बढ़कर 1053 रुपए हो गए हैं। मतलब कि 26 प्रतिशत से भी ज्यादा की बढ़ोतरी हो गई है। आगे भी इसके बारे में राहत की उम्मीद नहीं है। कुछ तो रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण और कुछ महामारी के अब तक चले आ रहे असर की वजह से विश्व बाजार में पेट्रोल की कीमतें जिस तरह से बढ़ रही हैं, उसका असर भारतीय उपभोक्ताओं पर भी पड़ना ही था। महंगाई के इस दौर को आर्थिक विशेषज्ञ इसे आयातित महंगाई बता रहे हैं, यानी ऐसी महंगाई, जिसका असर घरेलू कारकों से कम, अन्तरराष्ट्रीय बाजार के दबाव से ज्यादा हो। अब महंगाई घरेलू बाजार में उत्पन्न हुई हो या फिर वैश्विक बाजार से आई हो, लोगों की कमर वह एक ही तरह से तोड़ती है। इसकी सबसे ज्यादा मार गरीब व मध्यम वर्ग पर ज्यादा पड़ रही है। बढ़ती महंगाई के बीच जून महीने में एक्सिस माई इण्डिया ने उपभोक्ताओं के सर्वे के बाद निष्कर्ष निकाला कि महंगाई की वजह से 59 प्रतिशत परिवारों को अपनी खरीददारी में कटौती करनी पड़ी है।

यह पिछले तीन महीने से चल रहा है। लोगों ने अपने कई प्रकार के खर्चों को कम कर दिया है। यह भी देखा गया कि लोगों की वास्तविकता आमदनी अभी उस स्तर पर नहीं पहुंच सकी है, जहां वह महामारी से पहले थी। यह कोई छुपी बात नहीं है कि ईंधन की बढ़ती कीमतों का असर तमाम वस्तुओं पर पड़ता है। इसके चलते महंगाई पर नियंत्रण भी आसान नहीं रह जाता है। महंगाई से सरकार भी चिंतित है। महंगाई रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने पिछले दिनों कई कदम भी उठाए हैं। अब रसोई गैस महंगी होने से मध्यमवर्गीय व गरीब परिवार ज्यादा प्रभावित होंगे। गरीबों को राशन मुफ्त मिलता है, लेकिन उनके पास महंगी गैस खरीदने लायक पैसे नहीं है। महंगाई रोकने के लिए अब स्थायी उपायों की जरूरत है, जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News

जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम
सचिव शिव जालान ने बताया कि इसमें अनेक कलाकार गीतों, गजलें और नज्मों से स्व. जगजीत सिंह को स्वरांजलि अर्पित...
सतीश पूनियां ने सीएम को लिखा पत्र, आमेर विस क्षेत्र की मांगों को बजट में शामिल करने का किया आग्रह
केरल का इंटरनेशनल थियेटर फेस्टिवल 5 फरवरी से होगा शुरू
मोबाइल फोन के बेतहाशा इस्तेमाल से बढ़ा विजन सिंड्रोम का खतरा
तालिबान प्रशासन व्याख्याता मशाल को तत्काल रिहा करें: संयुक्त राष्ट्र
अडानी सीमेंट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग
खान सुरक्षा अभियान में निदेशक खान का जोधपुर दौरा