पहले किया प्रेम विवाह, फिर पति करने लगा परेशान, आहत मॉर्केटिंग मैनेजर ने किया सुसाइड

सुसाइड नोट में लिखा मुझे कोई नहीं समझता

पहले किया प्रेम विवाह, फिर पति करने लगा परेशान, आहत मॉर्केटिंग मैनेजर ने किया सुसाइड

सुरभि ने एक जुलाई 2016 में गलता गेट स्थित बासबदनपुरा निवासी शाहिद अली से गाजियाबाद (यूपी) के आर्य समाज मंदिर में प्रेम विवाह किया था। तभी से वह बासबदनपुरा क्षेत्र में पति के साथ रह रही थी। बाद में 11 जून 2022 को यूनिक सफायर फ्लैट में रहने आई थी।

जयपुर। मुहाना थाना इलाके में यूनिक सफायर अपार्टमेंट में रहने वाली एक बैंक की मार्केटिंग मैनेजर ने फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया। रविवार सुबह सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन इससे पहले पति ने पंखे से बंधी चुन्नी को कैंची से काटकर शव को नीचे उतार लिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया है। मृतका सुरभि कुमावत (30) अपार्टमेंट में पति शाहिद अली और छह साल की बेटी के साथ रहती थी। थाना प्रभारी लखन सिंह खटाना ने बताया कि फंदे से लटकते समय महिला के घुटने नीचे बिस्तर पर टिके थे। घटना स्थल पर पीहर व ससुराल पक्ष के लोग एकत्र होने और माहौल बिगड़ने पर फोटो व वीडियोग्राफी कराई गई।

सात साल पहले किया था प्रेम विवाह
थाना प्रभारी खटाना ने बताया कि सुरभि ने एक जुलाई 2016 में गलता गेट स्थित बासबदनपुरा निवासी शाहिद अली से गाजियाबाद (यूपी) के आर्य समाज मंदिर में प्रेम विवाह किया था। तभी से वह बासबदनपुरा क्षेत्र में पति के साथ रह रही थी। बाद में 11 जून 2022 को यूनिक सफायर फ्लैट में रहने आई थी। सुरभि ने ही यह फ्लैट खरीदा था। वह नेहरू पैलेस स्थित पंजाब नेशनल बैंक की ब्रांच में मार्केटिंग मैनेजर थी। शनिवार रात को अपार्टमेंट की सोसायटी का कार्यक्रम था। यहां पर पति-पत्नी व बेटी भोजन करके आए थे। रात को तीनों कमरे में सो गए। इसके बाद सुरभि दूसरे कमरे में चली गई और सुसाइड कर लिया। सुरभि के पास कार थी और उसके पति के पास महंगी बाइक। वह खुद के लिए बुलेट बाइक खरीदना चाहती थी और कुछ दिन पहले शोरूम पर नई बाइक देखकर भी आई थी।

पति हर रोज देता था छोड़ने की धमकी
पुलिस को कमरे में सुरभि का लिखा सुसाइड नोट मिला है, जिसमें लिखा था कि मुझे कोई नहीं समझता है। हर कोई आहत करना चाहता है। मैं सिर्फ  खुश रहना चाहती हूं और मैं किसी की जिंदगी में परेशानी भी नहीं बनना चाहती। मेरा पति मुझसे नफरत करता है और मुझे छोड़ने की धमकी देता है। मेरा इस्तेमाल स्वार्थ के लिए किया गया। मैं जा रही हूं सब छोड़कर, मुझे दुख है कि बेटी मैं तुझे नहीं देख पाउंगी।

शादी के समय अली शब्द हटाया
थाना प्रभारी खटाना ने बताया कि साल 2015 में सुरभि की बैंक में नौकरी लग गई। उसके बाद दोनों 2016 में गाजियाबाद जाकर आर्य समाज में शादी कर ली। शादी के समय शाहिद ने अपने नाम के आगे से अली शब्द हटा लिया था। बाद में पत्नी के लिए परिवार को छोड़कर अलग रहने लगा। वह बेटी के जन्म के बाद उसकी देखभाल करने के लिए काम भी नहीं कर रहा था।

छठवीं पास ने पूर्व महिला मित्र के जरिए फंसाया था
पुलिस ने पति शाहिद अली से पूछताछ की तो उसने बताया कि करीब 14 वर्ष पहले उसका पानी का प्लांट था। सुरभि गोपालपुरा स्थित एक कोचिंग में पढ़ने आती थी। वह गलता गेट से अपने एक दोस्त के पास यहां आता था। उस समय उसकी एक महिला मित्र थी। महिला मित्र की बहन के दोस्त ने सुरभि को शाहिद से मिलाया था। इसके बाद दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे। शाहिद छठी पास है और सुरभि ने कनोडिया कॉलेज से बीबीए और मानसरोवर स्थित एक कॉलेज से एमबीए किया था। 

Tags: Suicide

Post Comment

Comment List

Latest News