यमुना की सफाई के लिए गंभीरता से काम कर रही है सरकार : सिसोदिया 

अनाधिकृत कॉलोनियों के लिए काम कर रही है

यमुना की सफाई के लिए गंभीरता से काम कर रही है सरकार : सिसोदिया 

सरकार ने दिल्ली जलबोर्ड को विभिन्न इलाकों में लोगों के घरों में मुफ्त सीवर कनेक्शन मुहैया कराने, पुराने पाइपलाइन को बदलकर नए पाइपलाइन लगाने, झीलों से अधिक से अधिक ग्राउंडवॉटर रिचार्ज कराने और सेवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की क्षमता बढ़ाने आदि की कई परियोजनाओं को स्वीकृति दी है।

नई दिल्ली। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार यमुना की सफाई पूरी करने, हर घर को 24 घंटे साफ पानी देने और सभी अनाधिकृत कॉलोनियों के घरों को सीवर लाइन से जोड़ने के लिए गंभीरता से काम कर रही है। सिसोदिया ने कहा कि सरकार ने दिल्ली जलबोर्ड को विभिन्न इलाकों में लोगों के घरों में मुफ्त सीवर कनेक्शन मुहैया कराने, पुराने पाइपलाइन को बदलकर नए पाइपलाइन लगाने, झीलों से अधिक से अधिक ग्राउंडवॉटर रिचार्ज कराने और सेवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की क्षमता बढ़ाने आदि की कई परियोजनाओं को स्वीकृति दी है।परियोजनाओं के पूरा होने के बाद इससे यमुना की सफाई के लक्ष्य को पूरा करने में मदद मिलेगी। दिल्ली के लाखों लोगों को सीवर की समस्या से भी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सरकार बेहतर सीवरेज सिस्टम और अपने हर नागरिकों को 24 घंटे जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस दिशा में चरणबद्ध तरीके से काम किया जा रहा है। दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पानी की नई पाइपलाइन, सीवर लाइन और घर-घर सीवर कनेक्शन उपलब्ध कराना एक महत्वपूर्ण कदम है। इसके अलावा बेहतर साफ-सफाई, सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार लाने, यमुना की सफाई और पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए आधुनिक सीवर लाइनों का विस्तार व घरों से सीवर कनेक्ट करना आवश्यक है। 

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि यमुना को प्राथमिकता के आधार पर साफ करना ही दिल्ली सरकार का मुख्य उद्देश्य है। अनधकिृत कालोनयिां और गांवों में बेहतर सीवरेज प्रबंधन, यमुना की सफाई में अहम साबित होगी। पहले सीवर कनेक्शन लेना महंगा था, क्योंकि सीवर कनेक्शन लेने के लिए लोगों को विकास, कनेक्शन और रोड कङ्क्षटग शुल्क देना पड़ता था, लेकिन केजरीवाल सरकार इसे निशुल्क उपलब्ध करा रहे है। ऐसे में दिल्ली के लाखों उपभोक्ताओं को इसका फायदा मिल रहा है। सिसोदिया ने बताया कि केजरीवाल सरकार दिल्ली के विभिन्न वेस्ट वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता बढ़ाने के साथ उन्हें अपग्रेड कर रही है, जिससे पानी को उपचारित किया जा सकेगा और यमुना साफ होगी। कई एसटीपी टीएसएस-10 मिलीग्राम प्रति लीटर के अपशिष्ट प्रवाह मानकों के साथ नवीनतम तकनीक से बनाए गए है, जिसमें नाइट्रोजन, फास्फोरस हटाने के साथ-साथ कीट भी मारे जा सकते हैं।

 

Read More इमरजेंसी लाइट में छिपाकर लाया 31 लाख का सोना, कस्टम ने धरा

Post Comment

Comment List

Latest News