कंपनी के लाइजनर से 10 लाख रुपए की घूस लेते पीएचईडी का चीफ इंजीनियर गिरफ्तार

एसीबी की कार्रवाई : चीफ इंजीनियर और कम्पनी के ठिकानों पर सर्च

कंपनी के लाइजनर से 10 लाख रुपए की घूस लेते पीएचईडी का चीफ इंजीनियर गिरफ्तार

एसीबी ने घूसखोर मनीष बेनीवाल के प्रदेश में कई ठिकानों पर सर्च किया, जहां लाखों रुपए मिलने की बात सामने आई है। घर पर 2 गाड़ी भी मिली है।

जयपुर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने जलदाय विभाग के चीफ  इंजीनियर (शहरी) मनीष बेनीवाल को उसके सरकारी आवास पर 10 लाख रुपए की घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। इस दौरान घूस देने वाली कंपनी के लाइजर को भी दबोच लिया गया। एसीबी ने घूसखोर मनीष बेनीवाल के प्रदेश में कई ठिकानों पर सर्च किया, जहां लाखों रुपए मिलने की बात सामने आई है। घर पर 2 गाड़ी भी मिली है। एसीबी की टीमें देर रात तक सर्च में जुटी थीं। इस पूरी कार्रवाई को एडीजी दिनेश एमएन मॉनिटर कर रहे हैं। एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि करीब 3-4 माह से शिकायतें मिल रही थी कि चीफ इंजीनियर मनीष बेनीवाल और जलदाय विभाग में काम करने वाली फर्म के बीच घूस की रकम का बड़े स्तर पर लेन-देन चल रहा है। यह रिश्वत करोड़ों रुपए के बिल पास करने की एवज में ली जा रही है।

इस सूचना पर एसीबी ने अपनी तकनीकी और इंटेलिजेंस सेल को निगरानी सौंपी तो पुख्ता सबूत मिले। इस पर ठेकेदार और चीफ इंजीनियर पर निगरानी बढ़ाई गई। इसी दौरान सूचना मिली कि बड़ी रकम मनीष के यहां पहुंचनी है। टीम ने निगरानी की तो हरमाड़ा-बढ़ारणा इलाके में काम करने वाली आरएससी इंफ्राटेक (एलएलपी) का प्रतिनिधि कजोड़मल रिश्वत लेकर रवाना हुआ। इस पर एसीबी के एएसपी बजरंग सिंह शेखावत के नेतृत्व में टीम मालवीय नगर के गिरधर मार्ग स्थित चीफ इंजीनियर के सरकारी आवास पर पहुंची और कंपनी के लाइजर कजोड़मल को 10 लाख रुपए की घूस देते रंगे हाथों पकड़ लिया। कजोड़मल भी कुछ जगह पाइपलाइन डालने का काम कर रहा है। हालांकि चीफ इंजीनियर बेनीवाल 2007 में एक्सईएन रहते हुए भी एसीबी के रडार में आए थे। उस दौरान एसीबी ने उनके आवास पर सर्च किया था। हालांकि उस दौरान कोई खास सबूत नहीं मिले थे। 

28 करोड़ के टेंडर पर काम कर रही है कंपनी
घूस के 10 लाख रुपए देने वाली कंपनी आरएससी इंफ्राटेक 28 करोड़ रुपए के टेंडर पर काम कर रही है। कम्पनी हरमाड़ा-बढ़ारना के आस-पास के क्षेत्रों में पांच जोन में जलदाय के कार्य कर रही है। एसीबी टीमें लाइजनर कजोड़मल से पूछताछ कर रही है कि अब तक वह किस-किस काम के लिए किस-किस अफसर को कितनी रिश्वत पहुंचा चुका है।

Read More सन्नाटा, शॉट और वह काली अंधेरी रात

Post Comment

Comment List

Latest News