एफआईपीआरईएससीआई ने जारी की भारत की 10 सबसे बेहतरीन फिल्मों की लिस्ट

फिल्म गर्म हवा भी इस लिस्ट में शामिल है जो छठे नंबर पर है

एफआईपीआरईएससीआई ने जारी की भारत की 10 सबसे बेहतरीन फिल्मों की लिस्ट

सत्यजीत रे के निर्देशन में बनी बांग्ला फिल्म पाथेर पांचाली इस लिस्ट में सबसे ऊपर है। दूसरे स्थान पर भी बंगाली फिल्म मेघे ढाका तारा है। तीसरे स्थान पर हिंदी फिल्म भुवन शोम है। मलयालम फिल्म एलिपथायम भारत की चौथी सबसे बेहतर फिल्म है।

मुंबई। इंडिया चैप्टर ऑफ द इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फिल्म क्रिटिक्स ने भारत की 10 सबसे बेहतरीन फिल्मों की लिस्ट जारी की है। हाल ही में एक पोल कराया गया। इसके अंतर्गत भारत की 10 सबसे बेहतरीन फिल्मों की सूची जारी की गयी है। यह सीक्रेट पोल था, जिसके लिए इंडिया चैप्टर ऑफ द इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फिल्म क्रिटिक्स के 30 सदस्यों ने गोपनीय तरीके से वोट दिया और सबसे ज्यादा वोट के आधार पर देश की सबसे बेहतरीन 10 फिल्मों की सूची बनाई गयी है।

सत्यजीत रे के निर्देशन में बनी बांग्ला फिल्म पाथेर पांचाली इस लिस्ट में सबसे ऊपर है। दूसरे स्थान पर भी बंगाली फिल्म मेघे ढाका तारा है। तीसरे स्थान पर हिंदी फिल्म भुवन शोम है। मलयालम फिल्म एलिपथायम भारत की चौथी सबसे बेहतर फिल्म है। कन्नड़ फिल्म घटाश्रद्धा पांचवी सबसे बेहतर फिल्म है, फिल्म गर्म हवा भी इस लिस्ट में शामिल है जो छठे नंबर पर है।

 सातवें वें नंबर पर बंगाली फिल्म चारुलता है। फिल्म अंकुर 8वीं सबसे बेहतर फिल्म है। प्यासा लिस्ट में 9वें नंबर पर है। शोले 10वीं सबसे बेहतरीन भातरीय फिल्म है।

Tags: cinema

Post Comment

Comment List

Latest News

छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत
इस मुद्दे पर गुमराह कर रहे हैं या दोनों मुख्यमंत्री मिलकर अपने-अपने राजनीतिक हितों के अनुरूप जनता को गुमराह कर...
RPF ने पिछले 7 वर्षों में 'ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते' के तहत 84,119 बच्चों को बचाया
सुस्त निवेश से 10 वर्ष में घाटी आर्थिक विकास की रफ्तार : कांग्रेस
आतंकी हमलों की रोकथाम के लिए केंद्र करे गम्भीरता से प्रयास: गहलोत
बड़ी बड़ी बातें नहीं कर केन्द्र आतंकियों के खिलाफ करें सख्त कार्यवाही: डोटासरा
जयपुर संभाग में हुआ 9 लाख 92 हजार से ज्यादा वृक्षारोपण
औषधि के उच्च मानक तय करना जरूरी, विश्व स्तरीय विनियामक ढांचे की आवश्यकता है: नड्डा