अस्पतालों में बढ़े मौसमी बीमारियों के मरीज

तेज गर्मी ने बढ़ाई आमजन की मुश्किलें

अस्पतालों में बढ़े मौसमी बीमारियों के मरीज

मौसम की मार के कारण छोटे बच्चे भी लू, उल्टी दस्त समेत कई समस्याओं से ग्रस्त होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं। जेकेलोन अस्पताल में ओपीडी काफी बढ़ गई है।

ब्यूरो/नवज्योति, जयपुर। भीषण गर्मी के इस दौर में इन दिनों आमजन को मौसमी बीमारियों ने अपनी चपेट में ले लिया है। घर घर में इन दिनों मौसमी बीमारियों के मरीज देखे जा सकते हैं। इसका असर अस्पतालों की ओपीडी में देखने को मिल रहा है। अचानक बढ़ी तेज गर्मी के कारण उल्टी, दस्त, सिरदर्द, खांसी जुकाम, बुखार, डी-हाईड्रेशन, दिमागी बुखार समेत कई बीमारिया अपना असर दिखा रही है। इन दिनों लू के प्रकोप के साथ ही तापमान में तेजी से इजाफा हो रहा है। जिसका असर आमजन की सेहत पर पड़ रहा है। ऐसे में एसएमएस अस्पताल, जेकेलोन, कांवटिया, जयपुरिया, गणगौरी सहित अन्य अस्पतालों की ओपीडी में मरीजों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। इनमें हर उम्र के लोग शामिल हैं। वहीं चिकित्सकों की सलाह है कि आमजन को गर्मी के इस दौर में खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साथ ही दिन के समय तेज धूप में घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए।

बच्चे भी आ रहे चपेट में
मौसम की मार के कारण छोटे बच्चे भी लू, उल्टी दस्त समेत कई समस्याओं से ग्रस्त होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं। जेकेलोन अस्पताल में ओपीडी काफी बढ़ गई है। इनमें डायरिया, डी-हाईड्रेशन, उल्टी दस्त, नाक बहने, बुखार, टायफाइड समेत कई परेशानियों से बच्चे पीड़ित हैं। अकेले मई माह की बात करें तो अब तक 1800 से ज्यादा डायरिया से ग्रस्त होकर अस्पताल में इलाज के लिए आ चुके हैं। वहीं कई बच्चे भर्ती भी हैं।

अस्पतालों में इन दिनों ओपीडी
एसएमएस अस्पताल: 10 से 12 हजार प्रतिदिन
कांवटिया: 1800 से 2000 
जयपुरिया: 1500 से 1800 
जेकेलोन अस्पताल: 500 से 700 

यूं करें खुद का बचाव
-खानपान का विशेष ध्यान रखें।
-तेज धूप में घर से बाहर निकलने बचें।
-बाहर जाने की जरूरत हो तो शरीर को सूती कपड़ों से ढ़क कर निकलें।
-विशेषकर बच्चों को घर से बाहर दोपहर के समय नहीं निकलने दें।
 -तरल पेय पदार्थों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें।

दूषित पानी और खानपान से बढ़ी पेट की दिक्कतें
गर्मियों में इन दिनों बाजारों में धड़ल्ले से खुले आम बिक रहे ठंडे पेय पदार्थ और खाद्य पदार्थों के सेवन से आमजन में पेट की परेशानियां बढ़ गई है। दूषित खान पान से डायरिया, पीलिया और हैजा होने की संभावना बढ़ जाती है। 

इन दिनों तेज गर्मी के कारण मौसमी बीमारियों के मरीजों की संख्या काफी बढ़ी है। फूड प्वाइजनिंग, डायरिया, डी-हाईड्रेशन इन दिनों ज्यादा हो रहा है। इस मौसम में आमजन को विशेष तौर पर ज्यादा से ज्यादा पेय पदार्थों का सेवन करना चाहिए। खानपान का विशेष ध्यान रखें और तेज धूप में बाहर निकलने से बचें।
-डॉ. पुनीत सक्सैना, सीनियर फिजिशियन, एसएमएस अस्पताल

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार