मोबाइल वेटरनरी यूनिट चालू, कॉल सेंटर शुरू होने का इंतजार

सभी पशुपालकों को नहीं मिल रहा यूनिट का लाभ

मोबाइल वेटरनरी यूनिट चालू, कॉल सेंटर शुरू होने का इंतजार

पशुपालन विभाग के अनुसार कॉल सेंटर की सुविधा शुरू होने में तकनीकी दिक्कत आ रही है।

कोटा। पशुपालकों के बीमार पशुओं का इलाज करने के लिए पशुपालन विभाग ने मोबाइल वेटरनरी यूनिट तो शुरू कर दी, लेकिन अभी तक कॉल सेंटर चालू नहीं किया है। इससे किसानों को उनके घर पर मोबाइल यूनिट को बुलाने के लिए परेशान होना पड़ रहा है। पशु चिकित्सा विभाग ने एक लाख पशुओं की संख्या पर एक मोबाइल वेटरनरी यूनिट चालू कर दी है। कोटा जिले में तीन मोबाइल वेटरनरी यूनिट शुरू की गई। यह मोबाइल वेटरनरी यूनिट उन पशुपालकों के घर पहुंचेगी जिनके पशु बीमार है। 

आ रही तकनीकी दिक्कत
पशुपालन विभाग के अनुसार कॉल सेंटर की सुविधा शुरू होने में तकनीकी दिक्कत आ रही है। यह सुविधा जयपुर निदेशालय शुरू होनी है। वहां पर विभाग की तकनीकी टीम इसे शुरू करने में जुटी हुई है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि कॉल सेंटर की सुविधा पूरे प्रदेश में एक साथ शुरू होगी। इस सेंटर की जयपुर से ही मानिटरिंग की जाएगी।

कोटा को मिले तीन मोबाइल वाहन
पशुपालकों को राहत देने के उद्देश्य से कोटा जिले में तीन मोबाइल वाहन उपलब्ध कराए गए हैं। इस वाहन सेवा में पशुओं का उपचार सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक किया जाएगा। वाहन में पशुओं के उपचार की पूरी व्यवस्था होगी। दवाओं को रखने के लिए इसमें फ्रिज भी लगाए हैं। इसके चिकित्सक व कंपाउंडर सहित चार लोगों का स्टाफ होगा। साथ ही वाहन में उपचार से जुड़ी सभी सुविधाएं इसमें की गई है। जिससे इलाज के कारण पशुओं को तड़पना नहीं पड़ेगा।

1962 नम्बर पर करना होगा कॉल  
मोबाइल वेटरनरी यूनिट में एक पशु चिकित्सक, एक पशुधन सहायक एवं मोबाइल वेटरनरी यूनिट चालक रहेंगे। सरकार ने एक लाख पशुओं की आबादी पर एक मोबाइल वैटेनरी यूनिट लगाई है। वैसे पूरे प्रदेश की बात की जाए तो पूरे राजस्थान में 536 मोबाइल वेटरनरी यूनिट काम करेगी। कॉल सेंटर चालू होने के बाद बीमार पशु का मालिक मोबाइल वेटरनरी यूनिट को बुलाने के लिए अपने मोबाइल से 1962 नम्बर पर कॉल करेगा और नाम पता बताएगा, उस नाम पते पर यह यूनिट पहुंच जाएगी।

Read More अजमेर के एमके एकेडमी की मान्यता रद्द

यूनिट में जीपीएस चालू रहेगा
हर मोबाइल वेटरनरी यूनिट में जीपीएस लगाया है। जीपीएस का कंट्रोल जयपुर से रहेगा। ऐसे में इसमें तैनात चिकित्सक, पशुधन सहाय एवं वैन चालक गड़बड़ी नहीं कर सकेगा। टीम को वैन लेकर पशुपालक के घर जाना ही होगा और रिपोर्ट देनी ही होगी। 

Read More बाइक सवार बदमाश महिला के हाथ से बैग झपट ले गया

अभी रूट चार्ट से चल रही 
मोबाइल वेटरनरी यूनिट जब तक कॉल सेंटर चालू नहीं होगा तब तक ब्लॉक पशु चिकित्साधिकारियों ने मोबाइल यूनिट को एक रूट चार्ट दिया है। तब कॉल सेंटर चालू नहीं होगा तब यह हर गांव में जाएगी और वहां पर दो-दो कैम्प लगा कर बीमार पशुओं का इलाज करेगी।

Read More तेरह बीघा भूमि पर तीन अवैध कॉलोनियों को किया ध्वस्त 

सरकार ने मोबाइल वेटरनरी यूनिट तो शुरू कर दी, सभी पशुपालकों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। उसकी भैंस बीमार हो गई थी। ऐसे में मोबाइल वेटरनरी यूनिट की जरूरत थी, लेकिन वह नहीं मिली। कैथून पशु चिकित्सालय में ले जाकर उपचार कराना पड़ा।
- भवानीशंकर गुर्जर, पशुपालक

कोटा जिले में 3 व पूरे प्रदेश में 536 मोबाइल यूनिट चालू हो गई है। कॉल सेंटर चालू होगा तब तक यह रूट चार्ट के आधार पर चलेगी। कॉल सेंटर चालू होने में अभी समय लग रहा है। इस सुविधा के चालू होने के बाद सभी पशुपालकों को इसका लाभ मिलेगा।
- डॉ. गिरिश सालफले, उपनिदेशक, पशुपालन विभाग

Post Comment

Comment List

Latest News