दिमाग की सर्जरी के बाद मरीज को दौर आने हुए बंद

मरीज को फोकल कॉर्टिकल डिस्पलेजिया बीमारी थी

दिमाग की सर्जरी के बाद मरीज को दौर आने हुए बंद

एक युवक की दिमाग की सर्जरी की गई है। अजीत सिंह चौधरी, जो पिछले 6 साल से दिमाग के दौरे पड़ने की बीमारी से पीड़ित था। बीते 6 माह से मरीज को दिन में 15 से 20 बार दौरे पड़ते थे।

जयपुर। एक युवक की दिमाग की सर्जरी की गई है। अजीत सिंह चौधरी, जो पिछले 6 साल से दिमाग के दौरे पड़ने की बीमारी से पीड़ित था। बीते 6 माह से मरीज को दिन में 15 से 20 बार दौरे पड़ते थे। इन 6 सालों में अजीत को परिजनों ने करीब 18 से 20 डॉक्टर्स को दिखाया। इस दौरान उसका ईलाज चलता रहा, लेकिन मरीज को कोई लाभ नहीं हुआ। इसके बाद मरीज के परिजनों ने निजी हॉस्पिटल के न्यूरोसर्जन डॉ. राजवेंद्र सिंह चौधरी को दिखाया। डॉ. चौधरी ने एमआरआई और सीटी स्कैन के बाद मरीज की दिमाग की सर्जरी की।

चौधरी ने बताया कि मरीज को फोकल कॉर्टिकल डिस्पलेजिया बीमारी थी। यह अलग तरह की सर्जरी है। इस तरह की सर्जरी प्रदेश में नहीं की जाती है। सिर की गंभीर सर्जरी के बाद मरीज पर नजर रखी जानी जरुरी थी। दो महीने से मरीज की हर गतिविधि पर नजर रखी गई। अब मरीज को दौरे आने बंद हो गए है, मरीज स्वस्थ है। चौधरी के अनुसार यह जटिल सर्जरी है और कम मामलों में ही इस तरह की सर्जरी करनी पड़ती है।

Post Comment

Comment List

Latest News