सूडान में भारी बारिश, मृतकों की संख्या 146 पार

बारिश और बाढ़ से लगभग 1,36,000 लोग प्रभावित

सूडान में भारी बारिश, मृतकों की संख्या 146 पार

जून के अंत से शुरू हुई भारी बारिश से उत्तरी, मध्य और पश्चिमी सूडान के 250 से अधिक गांव जून तबाह हो गए हैं। लगभग 101,193 हेक्टेयर कृषि भूमि क्षतिग्रस्त , 6 राज्यों में आपातकाल की घोषित।

खार्तूम। सूडान में भारी बारिश से आई अचानक बाढ़ में मृतकों की संख्या 146 तक पहुंच गई है। देश की नागरिक सुरक्षा परिषद ने गुरुवार को यह जानकारी दी।परिषद ने कहा, देश में 21 सितंबर को लगातार मूसलाधार बारिश से आई अचानक बाढ़ में 146 लोगों की मृत्यु हो चुकी है । 122 लोग घायल हो गए तथा इस दौरान करीब 2,741 मवेशियों की भी मौत हो गई। उसने कहा कि भारी वर्षा से करीब 54,758 घर, 298 दुकानें, लगभग 101,193 हेक्टेयर कृषि भूमि क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

जून के अंत से शुरू हुई भारी बारिश से उत्तरी, मध्य और पश्चिमी सूडान के 250 से अधिक गांव जून तबाह हो गए हैं।सूडानी मंत्रिपरिषद ने 21 अगस्त को 6 बाढ़ प्रभावित राज्यों नील नदी, गीजीरा, व्हाइट नाइल, वेस्ट कोर्डोफ़ान, दक्षिण दारफुर और कसाला में आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी।मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के अनुसार, जून से अब तक सूडान में मूसलाधार बारिश और बाढ़ से लगभग 1,36,000 लोग प्रभावित हुए हैं।

  

Read More जापान में भूकंप के मध्यम झटके महसूस किए गए

 

Tags: flood

Post Comment

Comment List

Latest News

विकास के लिए धन की कोई कमी नहीं, आप मांगते-मांगते थक जाएंगे पर मैं देते-देते नहीं थकूंगा: गहलोत विकास के लिए धन की कोई कमी नहीं, आप मांगते-मांगते थक जाएंगे पर मैं देते-देते नहीं थकूंगा: गहलोत
गहलोत ने रायपुर में कैलाश त्रिवेदी के नाम से स्टेडियम बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि जो भी मांगे...
दिल्ली के कपड़ा मार्केट में लगी भीषण आग, 1 व्यक्ति की मौत
सोनिया की मौजूदगी से भारत जोड़ो यात्रा को मिलेगी मजबूती : राहुल-प्रियंका
फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक
बॉन्ड नीति के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स का अस्पतालों में पूर्णतया कार्य बहिष्कार
पूर्व पुलिसकर्मी ने चाइल्ड केयर सेंटर में की फायरिंग, 23 बच्चों समेत 34 लोगों की मौत
भारत में निर्मित कफ सिरप पीने से गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत, डब्ल्यूएचओ ने दी चेतावनी