प्रदेश में हजारों की संख्या में सूख रहे है पेयजल स्रोत, भूजल स्तर में गिरावट

हेडपंप पानी मुहैया करवाने में असमर्थ स्थापित हो रहे हैं

प्रदेश में हजारों की संख्या में सूख रहे है पेयजल स्रोत, भूजल स्तर में गिरावट

ऐसे में आवश्यकता के अनुसार जलदाय विभाग की ओर से नए हेडपंप और नलकूप होते जा रहे हैं। जिन स्थानों पर पेयजल के कोई स्रोत नहीं है वहां पर डिमांड के अनुसार टैंकरों से पानी सप्लाई की जा रही है।

जयपुर। प्रदेश के शहरी में ग्रामीण क्षेत्रों में सामान्य लोगों की प्यास बुझाने के लिए जलदाय विभाग की ओर से लगाए जाने वाले मुख्य पेयजल स्रोत नलकूप और हेडपंप हर साल हजारों की संख्या में सूख रहे हैं। पिछले 2 साल में प्रदेश के विभिन्न जिलों में करीब 85,000 हेडपंप सूख चुके हैं। जलदाय विभाग की ओर से हेडपंप की मरम्मत को लेकर हर साल अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन भू जल स्तर में गिरावट होने के कारण यह हेडपंप पानी मुहैया करवाने में असमर्थ स्थापित हो रहे हैं। 

इसके साथ ही विभिन्न जिलों में 20 हजार नलकूप ड्राइ हो चुके हैं। वर्तमान में तापमान में बढ़ोतरी के साथ चारों तरफ पानी की त्राहिमाम है। ऐसे में आवश्यकता के अनुसार जलदाय विभाग की ओर से नए हेडपंप और नलकूप होते जा रहे हैं। जिन स्थानों पर पेयजल के कोई स्रोत नहीं है, वहां पर डिमांड के अनुसार टैंकरों से पानी सप्लाई की जा रही है। विभाग के शासन सचिव डॉ. समित शर्मा का कहना है कि आवश्यकता अनुसार पेयजल मुहैया करवाने के हर तरह से प्रयास किया जा रहे हैं।

Tags: water

Post Comment

Comment List

Latest News

UGC NET Exam : 18 जून को हुआ पेपर गड़बड़ी के चलते रद्द UGC NET Exam : 18 जून को हुआ पेपर गड़बड़ी के चलते रद्द
यूजीसी द्वारा 18 जून को करवाया गया नेट का एग्जाम परीक्षा में गड़बड़ी के चलते रद्द कर दिया गया है। ...
प्राइवेट अस्पतालों के डॉक्टर चिरंजीवी योजना को बदनाम करने से बचें: गहलोत
24000 खानों को ईसी मंजूरी का मामला : 21422 खानधारकों के दस्तावेज वेलिडेटेड, जल्द जारी होगी ईसी
Silver & Gold Price चांदी दो सौ रुपए सस्ती और सोना दो सौ रुपए महंगा
युवा विरोधी भजनलाल सरकार को सड़क से लेकर सदन में घेरेंगे: पूनिया
मोदी कैबिनेट में हुए 5 बड़े फैसले, 14 खरीफ की फसलों की एमएसपी बढ़ाई
नीट में धांधली के खिलाफ 24 जून को संसद घेराव करेगी NSUI