मासिक वायदा सौदा निपटान से सेंसक्स-निफ्टी पर दबाव

जापान के निक्केई में 0.95 प्रतिशत की तेजी रही

मासिक वायदा सौदा निपटान से सेंसक्स-निफ्टी पर दबाव

पावर, यूटिलिटीज और आईटी समेत दस समूहों में हुई बिकवाली से सेंसेक्स और निफ्टी सातवें दिन भी दबाव में रहे। हालांकि दिग्गज कंपनियों के विपरीत बीएसई की मझौली और छोटी कंपनियों में तेजी रही। इससे मिडकैप 0.31 प्रतिशत चढ़कर 24,512.97 अंक और स्मॉलकैप 0.63 प्रतिशत की तेजी लेकर 28,047.11 अंक पर रहा।

मुंबई। वैश्विक बाजार के मिले-जुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर सितंबर के मासिक वायदा सौदा निपटान पर निवेशकों की सतर्कता बरतते हुए पावर, यूटिलिटीज और आईटी समेत दस समूहों में हुई बिकवाली से सेंसेक्स और निफ्टी सातवें दिन भी दबाव में रहे। बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 188.32 अंक टूटकर 56409.96 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 40.50 अंक फिसलकर 16818.10 अंक रह गया। हालांकि दिग्गज कंपनियों के विपरीत बीएसई की मझौली और छोटी कंपनियों में तेजी रही। इससे मिडकैप 0.31 प्रतिशत चढ़कर 24,512.97 अंक और स्मॉलकैप 0.63 प्रतिशत की तेजी लेकर 28,047.11 अंक पर रहा।

इस दौरान बीएसई में कुल 3562 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ, जिनमें से 1543 में नरमी जबकि 1884 में बढ़त रही वहीं 135 कोई बदलाव नहीं हुआ। इसी तरह एनएसई में 23 कंपनियों में बिकवाली जबकि शेष 27 में लिवाली हुई।इस दौरान बीएसई के दस समूहों पर बिकवाली का दबाव देखा गया। सीडी 0.47, वित्तीय सेवाएं 0.33, आईटी 0.60, दूरसंचार 0.01, यूटिलिटीज 1.38, ऑटो 0.29, बैंकिंग 0.42, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 0.23, पावर 1.30 और टेक समूह के शेयर 0.34 प्रतिशत टूटे। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मिलाजुला रुख रहा। इस दौरान ब्रिटेन का एफटीएसई 1.35, जर्मनी का डैक्स 1.33, हांगकांग का हैंगसेंग  और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.13 प्रतिशत गिर गया जबकि जापान के निक्केई में 0.95 प्रतिशत की तेजी रही।

 

Read More एयू स्मॉल बैंक का शुद्ध लाभ 343 करोड़

Post Comment

Comment List

Latest News

कश्मीर घाटी ठंड से कांपी कश्मीर घाटी ठंड से कांपी
अधिकतम तापमान सामान्य से 0.2 डिग्री अधिक था, जो आज 13.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। श्रीनगर में धूप खिली,...
भारत जोड़ो यात्रा के समर्थन में निकाली 12वीं प्रतीकात्मक पदयात्रा
भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस
झुंझुनूं में विकास की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी : बृजेंद्र ओला
भारतीय संविधान विश्वभर के लोकतंत्रों की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या: राज्यपाल मिश्र
खाद की कमीः क्षेत्र में खाद भी राशन की तरह बांटना पड़ा
वसुंधरा राजे हमारी नेता थी, हैं और हमारी नेता रहेगी : कालीचरण सर्राफ