गर्दन पर हैं झुर्रियां तो ऐसे लौटाएं गर्दन की खूबसूरती

एक सपोर्टिव पिलो का इस्तेमाल करने से आपकी गर्दन टाइट रहती है

गर्दन पर हैं झुर्रियां तो ऐसे लौटाएं गर्दन की खूबसूरती

धूप के संपर्क में आने से उम्र बढ़ने की प्रक्रिया यानि झुर्रियां होने की समस्या तेज हो सकती है। जब भी आप सूरज के संपर्क में हों,तो अपनी गर्दन और छाती के क्षेत्र में 30 या उससे अधिक एसपीएफ वाला ब्रॉड सनस्क्रीन लगाएं।

चेहरे और हाथ-पैर में पड़ने वाली झुर्रियों की तरह ही गर्दन की झुर्रियां भी उम्र बढ़ने का एक सामान्य हिस्सा हैं। लेकिन इसके बावजूद भी लोग इसे लंबे समय तक दिखने से रोकना चाहते हैं।  जैसे-जैसे त्वचा में कोलेजन और इलास्टिन उम्र के साथ कम होते जाते हैं, झुर्रियां बनने लगती हैं। गर्दन की रेखाएं उम्र, आनुवांशिकी और जीवन शैली की आदतों सहित कई कारकों से प्रभावित होती हैं। 

आपके 20 और 30 के दशक में चेहरे और गर्दन पर महीन रेखाएं दिखाई देने लगती हैं। कुछ लोगों को ऐसा लग सकता है कि अचानक से झुर्रियां आ जाती हैं। आमतौर पर किसी भी प्रकार की झुर्रियां एक छोटी महीन रेखा के रूप में शुरू होती हैं,जिस पर किसी का ध्यान नहीं जाता है।  

गर्दन को धूप से बचाएं- धूप के संपर्क में आने से उम्र बढ़ने की प्रक्रिया यानि झुर्रियां होने की समस्या तेज हो सकती है। जब भी आप सूरज के संपर्क में हों,तो अपनी गर्दन और छाती के क्षेत्र में 30 या उससे अधिक एसपीएफ वाला ब्रॉड सनस्क्रीन लगाएं। अपनी गर्दन को सीधी धूप से बचाने के लिए टोपी या स्कार्फ का इस्तेमाल करें।

करें मॉइस्चराइजर- अपने हाथ-पैर और चेहरे पर हम अक्सर मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल करते हैं,लेकिन अक्सर गर्दन पर मॉइस्चराइजर लगाना भूल जाते हैं। ऐसे में आपको गर्दन पर झुर्रियों की समस्या से बचने के लिए उसे मॉइस्चराइज करना जरूरी है,क्योंकि ये आपके गर्दन की स्किन को हाइड्रेटेड रखने में मददगार है। 

सही मुद्रा का अभ्यास- खराब मुद्रा समय के साथ गर्दन की झुर्रियों के विकास का कारण बन सकती है। अपने पोस्चर के प्रति सचेत रहें, और अपने कंधों को पीछे करके एक सीधी स्थिति बनाए रखने की कोशिश करें। यह आपकी गर्दन की त्वचा को सिकुड़ने और झुर्रियां बनने से रोकने में मदद करता है।

ब्रेक लें - लगातार अपने फोन या लैपटॉप को नीचे देखना, गर्दन की झुर्रियों के निर्माण में योगदान कर सकती हैं। इन आंदोलनों को सीमित करने की कोशिश करें और अपनी गर्दन को फैलाने और किसी भी तनाव को दूर करने के लिए ब्रेक लें।

पीठ के बल सोएं- तकिए के खिलाफ दबाव और घर्षण के कारण आपके पेट या बाजू के बल सोने से आपकी गर्दन पर झुर्रियां पड़ सकती हैं। नींद की रेखाओं और झुर्रियों के गठन को कम करने के लिए अपनी पीठ के बल सोना सबसे अच्छी स्थिति है। 

सपोर्टिव पिलो-एक सपोर्टिव पिलो का इस्तेमाल करने से आपकी गर्दन टाइट रहती है। यह गर्दन की झुर्रियों के विकास की संभावना को कम करने में मदद कर सकता है।

हाइड्रेटेड रहें- अपनी त्वचा को हाइड्रेटेड रखने और उसकी लोच बनाए रखने के लिए हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं। हाइड्रेटेड स्किन पर झुर्रियां कम पड़ती हैं।

गर्दन के एक्सरसाइज- नियमित रूप से ऐसे व्यायाम करें जो आपकी गर्दन की मांसपेशियों को लक्षित करते हों। यह मांसपेशियों की टोन में सुधार करने और गर्दन के क्षेत्र को मजबूत करनेए झुर्रियों की उपस्थिति को कम करने में मदद कर सकता है।

Post Comment

Comment List

Latest News

घालमेल की राजनीति करना बेनीवाल की पुरानी आदत : ज्योति  घालमेल की राजनीति करना बेनीवाल की पुरानी आदत : ज्योति 
बेनीवाल के भाजपा में आने की अटकलों पर मिर्धा ने कहा कि मुझे नहीं लगता बीजेपी उन्हें लेगी, यहां उनके...
राजस्थान में 2 करोड़ रुपए की हेरोइन बरामद, 3 तस्कर गिरफ्तार
भजनलाल शर्मा ने कर्मचारी चयन बोर्ड के अधिकारी-कर्मचारी संवर्ग के सेवा नियमों संबंधी प्रस्तावों को दी मंजूरी 
पूरी ताकत से विकास की हर योजना पर करना होगा काम : शिवराज
कलराज मिश्र ने किया संविधान पार्क का लोकार्पण
माहेश्वरी समाज ने मनाया महेश नवमी महोत्सव, निकाली शोभायात्रा
पंजाब में स्वर्ण मंदिर में वीडियो बनाने पर प्रतिबंध