अघोषित बिजली कटौती बनी जी का जंजाल

लोग बोले : अब तो हद हो गई, बिजली की समस्या से पेयजल आपूर्ति भी हो रही प्रभावित

अघोषित बिजली कटौती बनी जी का जंजाल

नलों में पानी कब आएगा, कितनी देर आएगा ये भी लोगों को पता नही चल पाता है।

चौमहला। चौमहला गंगधार सहित ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों  उमस भरी गर्मी में रात्रि के समय  हो रही बिजली कटौती ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया। बिना बिजली के रातों की नींद हराम हो गई है। उमस भरी गर्मी में छोटे बच्चे, महिलाओं, बुर्जुगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बिजली कटौती को लेकर  सरकार, बिजली विभाग के अधिकारियों  व जनप्रतिनिधियों के खिलाफ क्षेत्रवासियों में आक्रोश भड़क रहा है।  सोशल मीडिया पर क्षेत्रवासी बिजली की समस्या को लेकर भारी विरोध कर रहे है। चौमहला ,गंगधार कस्बे सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले एक सप्ताह से हो रही अघोषित कटौती से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। रात को घंटों तक होने वाली  बिजली कटौती से आमजन त्रस्त है ,उनकी रातों की नींद हराम हो रही है। क्षेत्र में शनिवार रात्रि को 10.30 बजे से 1.55 तक, रविवार रात्रि को 11.20 से 2 बजे तक और सोमवार रात्रि को 10.23 से 12.26 तक बिजली बंद रही। इस दौरान लोग गर्मी उमस से परेशान रहे। महिलाएं बच्चे भी परेशान रहे।बिजली कटौती के चलते पेयजल आपूर्ति भी प्रभावित हो रही है। यदि समय रहते बिजली आपूर्ति में सुधार नही हुआ परेशान लोग  कभी भी सड़कों पर उतर सकते है। क्षेत्र के  जनप्रतिनिधि भी चुप्पी साधे हुये है। चौमहला सहित क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह से अघोषित बिजली कटौती की जा रही है जिससे आम लोग परेशान है। कटौती का कोई समय निर्धारित नही है, बिजली कब आएगी इसका जवाब ना बिजली विभाग के अधिकारियों के पास है और ना ही अन्य किसी के पास। जनप्रतिनिधि भी आम जनता को उनके हालात पर छोड़ चुप्पी साधे बैठे है। दिन के समय हो रही कटौती से बिजली से जुड़े व्यवसाय प्रभावित हो रहे हैं। बिजली कटौती के चलते जलापूर्ति भी प्रभावित हो रही हैं। नलों में पानी कब आएगा, कितनी देर आएगा ये भी लोगों को पता नही चल पाता है। जलापूर्ति बाधित होने पर पीएचईडी वालों का भी रटा रटाया जवाब होता हैं लाइट नही थी तो पानी कैसे आएगा। इधर बिजली विभाग के तो महीनों से लोड सेटिंग, जीरो लोड या आगे से बन्द वाले स्थाई जवाब है।

क्षेत्रवासी हो रहे परेशान
अघोषित बिजली कटौती से आम जन परेशान हो रहे है। रात्रि के समय घंटों बिजली गुल रहने से इस भीषण गर्मी में लोगों का जीना दुश्वार हो रहा है।
- मकसूद अली बोहरा, चौमहला

बिजली कटौती से बहुत परेशानी हो रही है। महिलाए छोटे-छोटे बच्चे देर रात्रि तक घरों के बाहर बैठे रहते क्योंकि बिना पंखे कूलर के वे सो नही पाते।
- डॉ अय्यूब मंसूरी, चौमहला

सरकार को आमजन का ध्यान रखते हुए अघोषित बिजली कटौती तुरंत बंद करवानी चाहिए। 
- अशोक मीणा, चौमहला

Read More अतिक्रमण का दंश: भगवान की संपत्तियां भगवान भरोसे

बिजली कटौती से लोगों का जीना दुश्वार हो गया। रात्रि समय बिजली बंद रहने से गर्मी उमस से हाल बेहाल हो रहे है।
- संजय जैन

Read More ERCP का समझौता पूर्वी राजस्थान का गला घोटेगा पीने का पानी भी पूरा नहीं मिलेगा : रामकेश मीणा 

स्टेट लोड डिस्पेच सेंटर जयपुर के निर्देश पर लोड सेटिंग (जीरो लोड) के कारण 132 केवी प्रसारण पावर हाउस से ही सप्लाई बंद हो जाती है। यह हमारे हाथों में नही होता है ना ही हमे इसकी जानकारी होती है।
- माधेवंद्र सिंह, सहायक अभियंता जयपुर वितरण निगम चौमहला 

Read More कठूमर में औद्योगिक क्षेत्र के लिए जमीन आवंटित होगी,

 बिजली कटौती को लेकर विभाग के मंत्री से बात कर समस्या का समाधान करने का अनुरोध किया। मंत्री ने बताया कि दिन के समय सौर और पवन ऊर्जा से बिजली मिल रही है। रात्रि के समय थोड़ी दिक्कत है। शीघ्र ही समाधान कर दिया जाएगा। जिला कलक्टर व एमडी से भी चर्चा की है। जनता की समस्याओं के समाधान के लिए हमेशा तत्पर हूं। 
- कालूराम मेघवाल, विधायक डग विधानसभा क्षेत्र 

Post Comment

Comment List

Latest News

बस स्टैंड की बजाय बाईपास से ही बस ले जाने वाले चालकों पर होगी कार्रवाई बस स्टैंड की बजाय बाईपास से ही बस ले जाने वाले चालकों पर होगी कार्रवाई
राजस्थान रोडवेज सीएमडी श्रेया गुहा ने सोमवार को रोडवेज मुख्यालय में समीक्षा बैठक ली। जिसमें सभी अधिकारी मौजूद रहे।
Jaipur Gold & Silver Price : चांदी 450 रुपए और जेवराती सोना सौ रुपए सस्ता 
ERCP का समझौता पूर्वी राजस्थान का गला घोटेगा पीने का पानी भी पूरा नहीं मिलेगा : रामकेश मीणा 
Budget 2024 : कल करेगी सीतारमण बजट पेश, सातवीं बार आम बजट पेश कर बनाएगी रिकार्ड
पाकिस्तानी सिंगर राहत फतेह अली खान गिरफ्तार
महाराणा प्रताप और सूरजमल के वंशजों को लड़ाना बंद करो:  भैराराम चौधरी
उद्योग व्यापार और एमएसएमई को राहत की उम्मीद