बच्चों को गर्मी से बचाने के लिए अपनाएं ये तरीके

पानी की कमी, हीटस्ट्रोक, डायरिया या थकावट जैसी समस्याएं हो सकती हैं जो उन्हें चिड़चिड़ा भी बना देती है।

बच्चों को गर्मी से बचाने के लिए अपनाएं ये तरीके

गर्मी के दिनों में बच्चों की देखभाल करना भारी पड़ सकता है और माता-पिता अक्सर चिलचिलाती गर्मी में बच्चों को ठंडा और खुश रखने के तरीके खोजते रहते हैं। इसका कारण यह है कि बच्चे गर्मियों के दौरान बीमार पड़ सकते हैं।

 
गर्मी के दिनों में बच्चों की देखभाल करना भारी पड़ सकता है और माता-पिता अक्सर चिलचिलाती गर्मी में बच्चों को ठंडा और खुश रखने के तरीके खोजते रहते हैं। इसका कारण यह है कि बच्चे गर्मियों के दौरान बीमार पड़ सकते हैं। बच्चों में गर्मी के दौरान पानी की कमी, हीटस्ट्रोक, डायरिया या थकावट जैसी समस्याएं हो सकती हैं जो उन्हें चिड़चिड़ा भी बना देती है। ऐसे में माता-पिता को घबराना नहीं चाहिए और अपने बच्चों की पूरी तरह देखभाल करनी चाहिए। आपके बच्चों को गर्मी को मात देने में मदद करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं।

सही कपड़े : बच्चे को ढीले-ढाले, सूती कपड़े से बने हल्के कपड़े पहनाएं, जो पसीने को सोख लेता है। जब आपके बच्चों की बात हो तो कपड़े की परतों का उपयोग करने से बचें। ओवरहीटिंग अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम एसआईडीएस से जुड़ा है।

कमरे का सही तापमान : बच्चे का कमरा बहुत गर्म या बहुत ठंडा नहीं होना चाहिए। यदि आप एसी चलाते हैं तो बच्चे को नहलाने के तुरंत बाद उस कमरे में न ले जाएं क्योंकि उन्हें सर्दी लग सकती है। इसके अलावा कमरे में अच्छा वेंटिलेशन होना चाहिए। बच्चे के कमरे में खिड़की लगाएं। सोते समय बच्चों के लिए 100 प्रतिशत मुलायम सूती चादर इस्तेमाल करें। दिन में खिड़कियां खुली न छोड़ें। बच्चे को पूलए बाथटब या कार में अकेले न छोड़ें। बच्चा सुबह 11.00 बजे से शाम 4.00 बजे तक बाहर न निकलें क्योंकि उस समय तापमान बेहद गर्म होता है। अगर आपको बच्चों को घर से बाहर ले जाना है तो उन्हें टोपी पहनाएं।

Read More मरीज को हार्ट अटैक होगा या नहीं, बताने में मददगार है सीटी कोरोनरी एंजियोग्राफी

हाइड्रेटेड रखें : गर्म मौसम में पसीने के कारण बच्चे में पानी की कमी हो जाएगी। इसके साइन बेचैनी और तेजी से सांस लेना हैं। इसलिए 6 महीने से कम उम्र के बच्चों को बार-बार स्तनपान कराना चाहिए और छोटे बच्चों को पर्याप्त पानी और अन्य हाइड्रेशन वाली चीजें जैसे छाछ नींबू पानी या नारियल पानी पिलाएं।
सनस्क्रीन : डॉक्टर से सलाह लेने के बाद इसका इस्तेमाल करें। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी प्रोडक्ट का इस्तेमाल न करें।

खाना : बच्चों को स्वस्थ खाना दें। जंक, प्रोसेस्ड, आॅयली और डिब्बाबंद खाने से बचने की कोशिश करें। आइसक्रीम या कोल्ड ड्रिंक देते समय सावधान रहें क्योंकि ये सर्दी और खांसी को आमंत्रित कर सकते हैं।

Post Comment

Comment List

Latest News

एनआईए ने केरल , कर्नाटक में 3 जगहों पर मारे छापे एनआईए ने केरल , कर्नाटक में 3 जगहों पर मारे छापे
एनआईए सूत्रों ने कहा कि यह मामला पीएफआई के कार्यकर्ताओं, सदस्यों और पदाधिकारियों द्वारा रची गई आपराधिक साजिश से संबंधित...
चीन मुद्दे पर बहस से भाग रही है सरकार : कांग्रेस
चार राज्यों की नयी जातियों को मिलेगा एसटी का दर्जा
आगामी बजट को लेकर गहलोत ने किया किसान प्रतिनिधियों के साथ संवाद
अजय देवगन ने काजोल की फिल्म सलाम वेंकी की तारीफ की
क्या राहुल गांधी के पास जवाब है कि रामनवमी और हिंदू नववर्ष पर कांग्रेस की सरकार ने प्रतिबंध क्यों लगाया: डॉ. पूनियां
कोटा के विकास कार्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने वाले हैं