169 प्रश्नों के आधार पर जारी होगा परिणाम, 11 प्रश्न रद्द

आरपीवीटी एग्जाम 2022 : फाइनल आंसर-की जारी

169 प्रश्नों के आधार पर जारी होगा परिणाम, 11 प्रश्न रद्द

180 प्रश्नों के प्रश्न पत्र में से 11 प्रश्नों का डिलीट किए जाना प्रश्न पत्र की गुणवत्ता पर सवाल उठाता है। यह परीक्षा 11 सितंबर को बीकानेर,जयपुर तथा उदयपुर के 20 केंद्रों पर हुई थी। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा आरपीवीटी का परिणाम 29 सितंबर को घोषित किया जाएगा। 

कोटा। राजस्थान प्री-वेटरनरी टेस्ट आरपीवीटी-2022 की फाइनल आंसर की जारी कर दी गई है। प्रोविजनल आंसर-की पर आपत्तियों की जांच के लिए गठित ग्रीवेंस कमेटी ने आरपीवीटी के प्रश्न पत्र से 11प्रश्नों को डिलीट कर दिया है। इससे प्रवेश परीक्षा का परिणाम अब कुल 180 की जगह 169 प्रश्नों के आधार पर जारी किया जाएगा। याद रहे, ग्रीवेंस कमेटी ने यह निर्णय परीक्षार्थियों द्वारा दर्ज की आपत्तियों को स्वीकार करते हुए लिया है। एजुकेशन एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि 180 प्रश्नों के प्रश्न पत्र में से 11 प्रश्नों का डिलीट किए जाना प्रश्न पत्र की गुणवत्ता पर सवाल उठाता है। यह परीक्षा 11 सितंबर को बीकानेर,जयपुर तथा उदयपुर के 20 केंद्रों पर हुई थी। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा आरपीवीटी का परिणाम 29 सितंबर को घोषित किया जाएगा। 

पिछले साल भी रद्द किए थे 11 प्रश्न 
राजस्थान यूनिवर्सिटी आफ वेटरिनरी एंड एनिमल साइंसेज, बीकानेर ने आरपीवीटी-2021 के प्रश्न पत्र की खामियों से सबक नहीं लिया। प्रश्न पत्र की गुणवत्ता में सुधार को लेकर यूनिवर्सिटी ने भी प्रयास नहीं किए। शर्मा ने बताया कि पिछले साल के प्रश्न-पत्र में त्रुटियों के कारण 11 प्रश्न रद्द किए थे और 169 प्रश्नों के आधार पर ही परीक्षा परिणाम जारी किया था। यूनिवर्सिटी ने फिर से वर्ष 2022 में आयोजित हुई परीक्षा के प्रश्न पत्र से भी दोषपूर्ण 11-प्रश्न रद्द किए हैं। इस बार भी परीक्षा परिणाम 169 प्रश्नों के आधार पर ही जारी किया जाएगा। गुणवत्ताहीन प्रश्न पत्रों के निर्माण से यूनिवर्सिटी तथा आरपीवीटी दोनों की साख को बड़ा नुकसान पहुंचा है।  

प्रश्न-पत्र में गलतियां कैसी-कैसी
फिजिक्स के एक्सपर्ट फैकेल्टी देव शर्मा ने बताया कि आरपीवीटी-2022 के बी-कोड के प्रश्नपत्र से फिजिक्स में प्रश्न संख्या-19 को रद्द किया है। प्रश्न सेमीकंडक्टर फिजिक्स में डायोड-परिपथ से संबंधित है। इसमें ‘ए‘ एवं ‘बी’ दो बिंदुओं के मध्य विभांतर पूछा गया है लेकिन परिपथ में 'ए' व 'बी' बिंदु प्रदर्शित ही नहीं है। प्रश्न के अपूर्ण होने के कारण इसे रद्द कर दिया है। अपूर्ण प्रश्न कि यह स्थिति से जाहिर होता है प्रश्न पत्र के निर्माण में घोर लापरवाही बरती गई। 

Read More अब सेना की आपत्ति से अटका अदालत के नए भवन का निर्माण

Post Comment

Comment List

Latest News