राहत और खतरा

राहत और खतरा

देश में कोरोना संक्रमितों की तादाद लगातार घटती जा रही है, जो एक बड़ी राहत की बात है, लेकिन खतरा भी अभी पूरी तरह टला नहीं है।

देश में कोरोना संक्रमितों की तादाद लगातार घटती जा रही है, जो एक बड़ी राहत की बात है, लेकिन खतरा भी अभी पूरी तरह टला नहीं है। हालांकि इसमें संतोष की बात यह भी है कि अक्टूबर-नवंबर के दौरान तीसरी लहर की जो आशंकाएं जताई जा रही थीं, उसका असर अब देखने को नहीं मिल रहा है। तीसरी लहर से बचाव प्रतिबंधों, कोरोना से बचाव के उपायों से संभव हो सका है, लेकिन इसमें सबसे बड़ी भूमिका टीकाकरण की ही रही है। पिछले एक साल के दौरान करीब 80 करोड़ लोगों को टीके की पहली डोज दी जा चुकी है। दोनों टीके लेने वालों की संख्या भी 40 करोड़ के पार है। अगर टीकाकरण अभियान जोर नहीं पकड़ता तो महामारी पर काबू पाना आसान नहीं था। हालांकि कुछ राज्यों विशेषकर केरल में अभी भी कोरोना मरीजों की तादाद ज्यादा है। इस पर नियंत्रण पाना जरूरी है अन्यथा कभी भी देश के अन्य हिस्सों में संक्रमितों की संख्या बढ़ सकती है। राजस्थान में 93 दिन बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या धीरे-धीरे फिर से बढ़ रही है। सोमवार को सर्वाधिक 22 पॉजिटिव मामले सामने आए। इनमें फिर सबसे ज्यादा जयपुर में 11 मरीज मिले हैं। इस माह के 22 दिन में जयपुर चौथी बार दस से ज्यादा मरीज एक दिन में सामने आए हैं। अब राज्य में एक्टिव रोगी बढ़कर 131 हो गए हैं। यह देश के दस राज्यों से ज्यादा है। राजस्थान में दिवाली के बाद कोरोना ने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। इसके अलावा पूरी क्षमता के साथ स्कूल खुलने के बाद जयपुर में स्कूली बच्चों के संक्रमित होने का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है। मंगलवार को जयपुर के एक स्कूल में 13 छात्र संक्रमित मिले, जो 11वीं व 12वीं कक्षा के बताए जाते हैं। इससे पहले भी कई स्कूलों में छोटे बच्चे भी संक्रमित हो गए थे। राजस्थान सरकार को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए। जाहिर है कि कोरोना खतरा बना हुआ है। देश के लोगों को अभी भी सावधान रहने की जरूरत है। बचाव संबंधी सभी उपायों का पूरी तरह पालन करते हुए टीके लगवाने चाहिए। जो लोग टीके से बचे हुए हैं, उनका तेजी से टीकाकरण किया जाना चाहिए। फिलहाल यही बचाव का सुरक्षा कवच है। अभी कई ऐसे राज्य हैं जहां पांच करोड़ से भी ज्यादा लोगों के टीके पहली डोज तक नहीं लगी है। अभी भी लोग टीका लगवाने से हिचकिया रहे हैं। यह उनके लिए और देश के लिए खतरा साबित हो सकता है।

Post Comment

Comment List

Latest News