अलविदा रावत

अलविदा रावत

जनरल रावत का एक हेलिकॉप्टर हादसे में निधन स्तब्धकारी है।

जनरल रावत का एक हेलिकॉप्टर हादसे में निधन स्तब्धकारी है। जनरल रावत के हेलिकॉप्टर का हादसा तमिलनाडु में कुन्नूर के पास हुआ। इस हादसे में जनरल रावत की पत्नी मधुलिका रावत और ग्यारह अन्य सैन्य अफसरों की भी मौत हो गई। हेलिकॉप्टर में चालक दल समेत कुल 14 लोग सवार थे। जनरल रावत वेलिंगटन की रक्षा अकादमी में भाषण देने गए थे। वे और उनकी पत्नी के साथ सुरक्षा दल में शामिल लोग दिल्ली से सुलूर तक वायुसेना के विमान से गए और वहां से हेलिकॉप्टर से वेलिंगटन के लिए उड़ान भरी थी। बीच रास्ते में अचानक हेलिकॉप्टर ध्वस्त हो गया और उसमें आग लग गई। प्रारंभिक जांच में खराब मौसम को वजह बताया जा रहा है। लेकिन इसके असली कारणों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है। लेकिन इस हादसे पर सवाल उठना स्वाभाविक भी है। सवाल है कि जनरल रावत जिस हेलिकॉप्टर में अपनी टीम के साथ सवार हुए थे वह एमआई श्रृंखला का हेलिकॉप्टर था, जिसे काफी आधुनिक और सुरक्षित माना जाता है। इसमें दो इंजन लगे होते हैं। एक इंजन के खराब होने की स्थिति में दूसरा इंजन स्वत: ही चालू हो जाता है। इस तरह इसके दुर्घटनाग्र्रस्त होने की संभावना काफी कम रहती है। प्रधानमंत्री से लेकर हर वीआईपी इसी हेलिकॉप्टर से सफर करते हैं। खराब मौसम बर्फबारी आदि में भी यह हेलिकॉप्टर उड़ान भरने में उपयुक्त है। पाकिस्तान के खिलाफ एयर स्ट्राइक में भी इसी हेलिकॉप्टर का उपयोग किया गया था। देश में हालांकि पहले भी विमान हादसे होते रहे हैं और कई बड़े लोगों की मौतें हुई हैं, लेकिन पिछले लंबे अर्से से किसी इतने बड़े सैन्य जनरल स्तर के व्यक्ति का विमान हादसे का शिकार नहीं हुआ। ऐसे लोगों के विमानों की गहन जांच-परख होती है। जनरल रावत की मौत एक ऐसे समय में हुई है, जब देश को ऐसे अफसर की काफी जरूरत थी। वे भारतीय सेना के प्रमुख रणनीतिकार रहे हैं और चीन व पाकिस्तान की गतिविधियों पर उनकी गहरी नजर रहती थी। सारे हादसे की जब तक उच्च स्तरीय जांच के नतीजे सामने नहीं आएंगे तब तक जनरल रावत की मौत पर सवाल उठते रहेंगे। कई लोगों की राय तो यह भी बन रही है कि जनरल रावत एक साजिश का शिकार हुए हैं। ऐसे विशिष्ट व्यक्ति की यदि एक उच्च श्रेणी के हेलिकॉप्टर हादसे में मौत होना संभव है तो दूसरे महत्वपूर्ण लोगों की सुरक्षा को भी खतरा संभव है। इन सारे सवालों पर गंभीर विचार की जरूरत है।

Post Comment

Comment List

Latest News

राजू ठेठ हत्याकांड में 24 घंटे के अंदर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 5 बदमाशों को पकड़ा राजू ठेठ हत्याकांड में 24 घंटे के अंदर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 5 बदमाशों को पकड़ा
पुलिस की 15 टीमों ने बाघोली नदी के निकट पहाड़ियों हरड़िया, काकरिया, सुरपुरा, बागोली, पापड़ा, नयाबास, हरीपुरा इत्यादि के गांव...
पार्टी के नए नेताओं को देना पड़ेगा मौका : खड़गे
पंजाब में ड्रोन से 3 किलोग्राम हेरोइन बरामद
नासा ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र पर लगाया सोलर एरे
तत्काल चुनाव कराने की पेशकश को समझा गया गलत : इमरान
केन्द्र सचेत रहे,भय बनाने वालों के बीच यात्रा निकाल रहे राहुल गांधी: महेश जोशी
दिल्ली नगर निगम चुनाव में नेताओं ने किया मतदान