अशोक गहलोत ने किया 255 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास 

उच्च न्यायालय के सामने भूमिगत पार्किंग का शिलान्यास किया

अशोक गहलोत ने किया 255 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास 

वाहनों की वृद्वि दर जनसंख्या के अनुपात में लगभग 2 गुणा गति से बढ रही है, जिसके परिणाम स्वरूप वर्तमान में सडकों पर ट्रेफिक जाम की समस्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अल्बर्ट हॉल पर 175 करोड रूपये की लागत से निर्मित नेहरू उद्यान अण्डरपास - लक्ष्मी मंदिर तिराहा रामनिवास बाग भूमिगत पार्किंग सिल्वन जैव विविधता वन (आगरा रोड) का लोकार्पण किया। 255 करोड रूपये से प्रस्तावित 4 प्रोजेक्ट्स गोविन्द देव मंदिर क्षेत्र का सौंदर्यीकरण एवं विकास कार्य ईदगाह क्षेत्र का सौंदर्यीकरण एवं विकास कार्य सैटेलाईट हॉस्पिटल - शिवदासपुरा (टोंक रोड), कानोता (आगरा रोड) व बालमुकुन्दपुरा (अजमेर रोड) राजस्थान उच्च न्यायालय के सामने भूमिगत पार्किंग का शिलान्यास किया। 

लक्ष्मी मन्दिर तिराहा जयपुर पर यातायात एवं सौन्दर्यीकरण का कार्य
जयपुर शहर भारत के सबसे नियोजित शहरो मे से एक होने के साथ-साथ भारतीय महानगरों की सूची में 11 वें स्थान पर है। वर्तमान में जयपुर शहर की जनसंख्या लगभग 35.00 लाख है एवं जनसंख्या की वार्षिक वृद्वि दर जो 4.5 प्रतिशत है तथा वाहनों की वृद्वि दर जनसंख्या के अनुपात में लगभग 2 गुणा गति से बढ रही है, जिसके परिणाम स्वरूप वर्तमान में सडकों पर ट्रेफिक जाम की समस्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। मुख्यमंत्री की बजट घोषणा वर्ष 2021-22 बिन्दु सं. 152 के अनुसार जयपुर शहर में लगभग 700 करोड़ रूपये की लागत के विकास कार्य करवाये जायेगें, जिसमें जयपुर की पारम्परिक स्थापत्य कला एवं संस्कृति को प्रदर्शित करते हुये सौन्दर्यीकरण किया जायेगा। इसके साथ ही शहर के 7 प्रमुख चौराहों को ट्रैफिक सिग्नल मुक्त किया जायेगा। 

बजट घोषणा की अनुपालना में जयपुर शहर के यातायात वृद्वि से उत्पन्न समस्याओं के निराकरण एवं सौन्दर्यकरण के कार्य हेतु जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा चिन्हित किये गये स्थानों की सूची के अन्तर्गत जयपुर शहर के मुख्य जंक्शन में लक्ष्मी मन्दिर तिराहा को भी सम्मिलित किया गया है। वर्तमान में इस जंक्शन पर व्यवस्ततम समय में ट्रैफिक जाम की अत्यन्त समस्या रहती है, जिससे समय के साथ-साथ ईंधन की भी बर्बादी होती है। इस कारण लक्ष्मी मन्दिर तिराहे को जयपुर की पारम्परिक स्थापत्य कला एवं संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए सौन्दर्यकरण एवं ट्रैफिक सिग्नल मुक्त जंक्शन बनाया जाना प्रस्तावित है। जिसमें सौन्दर्यीकरण के साथ-साथ सब्जी मण्डी सड़क से टोंक रोड पर लगभग 400.0 मीटर लम्बाई में दो-लेन अण्डरपास बनाया जा चुका है। 

रामनिवास बाग भूमिगत पार्किग 
जयपुर शहर के चारदीवारी क्षेत्र में भारी मात्रा में व्यवसायिक एवं पर्यटन गतिविधिओं के बढने के कारण यहां पर आने वाले पर्यटकों, दुकानदारों एवं चारदीवारी क्षेत्र में रहने वाले लोगों के वाहनों से यातायात में होने वाली असुविधा एवं चारदीवारी क्षेत्र में जाम की स्थिति को कम करने और भविष्य में वाहनों की बढती हुई संख्या के मद्देनजर पार्किंग की समस्या के समाधान के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा रामनिवास बाग में पार्किंग के लिए वाहनों के लिए दो मंजिला पार्किंग का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है। यह परियोजना जयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा वित्त पोषित है।
रामनिवास बाग में दो मंजिला भूमिगत पार्किंग के निर्माण कार्य को माननीय मुख्यमंत्री महोदय, राजस्थान सरकार द्वारा बजट घोषणा वर्ष 2020-21 में सम्मिलित किया गया, जिसका कार्यादेश मैसर्स एलएनए इन्फ्राप्रोजेक्ट प्रा. लि. को 83.25 करोड़ का आवंटित किया गया। कार्य की प्रारम्भ एवं समाप्ति की तिथि क्रमशः 19.02.2021 एवं 18.08.2023 है। परियोजना के लिए जयपुर स्मार्ट सिटी लि. द्वारा राशि रू. 94.95 करोड़ की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की गई है, जिसके अन्तर्गत लगभग 49,680 वर्गमीटर क्षेत्रफल (दो मंजिला) में पार्किंग का निर्माण कार्य करवाया गया है। 

Read More करणी सेना के दो गुटों में मारपीट, 8 लोग गिरफ्तार

परियोजना के तहत रामनिवास बाग में दो स्थानों पर यथा यूनियन फूटबॉल ग्राउण्ड एवं रविन्द्रमंच के सामने वाले मैदान स्थित भूमि के नीचे दो मंजिला भूमिगत पार्किंग का निर्माण करवाया जा रहा है। जिनका लगभग क्षेत्रफल क्रमशः 33100 वर्गमीटर एवं 16560 वर्गमीटर है। 
जयपुर के आराध्य गोविंद देवजी न केवल धार्मिक महत्व के केंद्र है, बल्कि जयपुर की सांस्कृतिक पहचान का एक अभिन्न अंग भी है। गोविंद देवजी मंदिर का इतिहास एक मनोरम कथा है जो भक्ति, वास्तुकला और सांस्कृतिक विरासत के तत्वों को एक साथ जोड़ता है। महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा इसकी नींव और इसकी वास्तुकला की भव्यता आगंतुकों के बीच विस्मय और श्रद्धा को प्रेरित करती रहती है। धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टि से रियासतकालीन श्री गोविन्द देवजी मन्दिर के जीर्णोद्धार, सौन्दर्यीकरण एवं जन सुविधाओं के विकास कार्य किया जाना प्रस्तावित है।  

Read More ड्राइवरों को सिखाएं जाएंगे सुरक्षा के तरीके

मुख्यमंत्री कीी बजट घोषणा वर्ष 2022-23 (बिन्दु संख्या 359.00, पैरा संख्या 55) के अनुसार जयपुर के आराध्य गोविन्द देवजी मन्दिर के पहुंच मार्गो का जीर्णोद्धार, सौन्दर्यीकरण एवं जन सुविधाओं का विकास तथा जयपुर के गलता गेट के समीप स्थित ईदगाह क्षेत्र के पहुॅच मार्गो का जीर्णाेद्धार एवं जन सुविधाओं का विकास कार्य हेतु आगामी वर्ष में राशि रू. 30.00 करोड़ का प्रावधान किया गया था। 

Read More Mansoon Season: बीसलपुर बांध में एक दिन में आया 18 सेमी पानी

धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टि से जयपुर के आराध्य श्री गोविन्द देवजी मन्दिर के पहुॅच मार्गो का जीर्णाेद्धार एवं मौजूदा सुविधाओं का विस्तार, नई सुविधाओं के निर्माण से संबंधित कार्य में जयपुर की पारम्परिक वास्तुकला को दृष्टिगत रखते हुए विश्वस्तरीय विकास एवं जन सुविधाओं के विस्तार के कार्य प्रस्तावित है जिसमें प्रवेश द्वार, छत्तरियॉ, जल निकासी व्यवस्था, फव्वारे का जीर्णोद्धार एवं निर्माण, मंडाना कॉब्बल पत्थर का फर्श, शौचालय निर्माण, पार्किंग, सड़क निर्माण एवं सौन्दर्यीकरण इत्यादि कार्य प्रस्तावित है।

ईदगाह क्षेत्र का सौन्दर्यीकरण, जीर्णोद्धार, जन सुविधाओं का विस्तार एवं पहुॅच मार्गो का विकास कार्य
ईदगाह दिल्ली रोड़ स्थित रियासतकालीन धार्मिक स्थल है जिसका उपयोग ईद उल-फित्र और ईद अल अजाहा के पर्वो के अवसर पर सामूहिक प्रार्थना (नमाज) के लिए किया जाता है। धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टि से रियासतकालीन ईदगाह का जीर्णोद्धार, जन सुविधाओं का विस्तार एवं पहुॅच मार्गो का विकास कार्य किया जाना प्रस्तावित है।  

माननीय मुख्यमंत्री बजट घोषणा वर्ष 2022-23 (बिन्दु संख्या 359.00, पैरा संख्या 55) के अनुसार  जयपुर के आराध्य श्री गोविन्द देवजी मन्दिर के पहुॅच मार्गो का जीर्णोद्धार, सौन्दर्यीकरण एवं जन सुविधाओं का विकास तथा जयपुर के गलता गेट के समीप स्थित ईदगाह क्षेत्र के पहुॅच मार्गो का जीर्णाेद्धार एवं जन सुविधाओं का विकास कार्य हेतु आगामी वर्ष में राशि रू. 30.00 करोड़ का प्रावधान किया गया था। धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टि से ईदगाह क्षेत्र के बुनियादी ढांचे के विकास के तहत पहुंच मार्गों का जीर्णाेद्धार एवं मौजूदा सुविधाओं का विस्तार से संबंधित कार्य प्रस्तावित किए गए हैं। उक्त परियोजना में मुगल वास्तुकला के अनुसार प्रार्थना कक्ष, मंच, जल संचयन संरचना, जल निकासी व्यवस्था, फव्वारे निर्माण, मंडाना पत्थर फर्श, वजू स्थल, बहुउद्देशीय हॉल, शौचालय ब्लॉक, स्टोर रूम, पार्किंग, सड़क इत्यादि कार्य प्रस्तावित है।

जयपुर शहर के आगरा रोड पर कानौता में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण कार्य
माननीय मुख्यमंत्री महोदय द्वारा जयपुर शहर के चार राजमार्गाे पर यथा दिल्ली रोड, आगरा रोड, अजमेर रोड एवं टोंक रोड पर सैटेलाईट अस्पतालों की निर्माण कार्य की घोषणा की गई। माननीय मुख्यमंत्री महोदय की घोषणा की अनुपालना में जविप्रा द्वारा स्वास्थ्य विभाग को आगरा रोड पर कानौता में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल निर्माण हेतु 80 मीटर ग् 125 मीटर कुल क्षेत्रफल 10,000.00 वर्गमीटर के भुखण्ड का आवंटन किया गया। 
कानौता में उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु राशि रूपये 1911.00 लाख की निविदा स्वीकृति की जा चुकी है। उपरोक्त कार्य के अन्तर्गत 50 बेड सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण, मोर्चरी, कैन्टीन एवं किचन का निर्माण, स्टाफ क्वाटर, ऑक्सीजन प्लांट एंव विद्युतीकरण, चार दिवारी एवं आउटर डवलपमेंट के कार्य किये जाने है। कार्य के अन्तर्गत लगभग 55,000.00 वर्ग फीट बिलटप एरिया का निर्माण किया जाना है। यह कार्य 12 माह में पूर्ण किया जाना है। उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण के पश्चात् आगरा रोड पर जमवारागढ एवं बस्सी विधानसभा के आस-पास के क्षेत्रवासियों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होगी।

जयपुर शहर के अजमेर रोड पर बालमुकन्दपुरा में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण कार्य
माननीय मुख्यमंत्री महोदय द्वारा जयपुर शहर के चार राजमार्गाे पर यथा दिल्ली रोड, आगरा रोड, अजमेर रोड एवं टोंक रोड पर सैटेलाईट अस्पतालों की निर्माण कार्य की घोषणा की गई। माननीय मुख्यमंत्री महोदय की घोषणा की अनुपालना में जविप्रा द्वारा स्वास्थ्य विभाग को अजमेर रोड पर बालमुकन्दपुरा में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल निर्माण हेतु 111.83 मीटर ग् 89.42 मीटर कुल क्षेत्रफल 10,000.00 वर्गमीटर के भुखण्ड का आवंटन किया गया। जविप्रा द्वारा बालमुकन्दपुरा में सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु राशि रूपये 25.00 करोड की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की गई है। स्वास्थ्य विभाग से 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु टाईप डिजाईन एवं ड्राईंग प्राप्त होने के पश्चात् जविप्रा द्वारा उक्त कार्य के निर्माण की निविदा जारी की गई। बालमुकन्दपुरा में उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु राशि रूपये 1882.55 लाख की निविदा स्वीकृति की जा चुकी है। उपरोक्त कार्य के अन्तर्गत 50 बेड सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण, मोर्चरी, कैन्टीन एवं किचन का निर्माण, स्टाफ क्वाटर, ऑक्सीजन प्लांट एंव विद्युतीकरण, चार दिवारी एवं आउटर डवलपमेंट के कार्य किये जाने है। कार्य के अन्तर्गत लगभग 55,000.00 वर्ग फीट बिलटप एरिया का निर्माण किया जाना है। यह कार्य 12 माह में पूर्ण किया जाना है। उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण के पश्चात् अजमेर रोड के आस-पास के क्षेत्रवासियों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होगी।

जयपुर शहर के टोंक रोड पर शिवदासपुरा में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण कार्य
मुख्यमंत्री महोदय द्वारा जयपुर शहर के चार राजमार्गाे पर यथा दिल्ली रोड, आगरा रोड, अजमेर रोड एवं टोंक रोड पर सैटेलाईट अस्पतालों की निर्माण कार्य की घोषणा की गई। माननीय मुख्यमंत्री महोदय की घोषणा की अनुपालना में जविप्रा द्वारा स्वास्थ्य विभाग को टोंक रोड पर शिवदासपुरा में 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल निर्माण हेतु 111.80 मीटर ग् 90 मीटर कुल क्षेत्रफल 10,000.00 वर्गमीटर के भुखण्ड का आवंटन किया गया। जविप्रा द्वारा शिवदासपुरा में सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु राशि रूपये 25.00 करोड की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की गई है। स्वास्थ्य विभाग से 50 बेड के सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु टाईप डिजाईन एवं ड्राईंग प्राप्त होने के पश्चात् जविप्रा द्वारा उक्त कार्य के निर्माण की निविदा जारी की गई। शिवदासपुरा में उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण हेतु राशि रूपये 1820.34 लाख की निविदा स्वीकृति की जा चुकी है। 

उपरोक्त कार्य के अन्तर्गत 50 बेड सैटेलाईट अस्पताल का निर्माण, मोर्चरी, कैन्टीन एवं किचन का निर्माण, स्टाफ क्वाटर, ऑक्सीजन प्लांट एंव विद्युतीकरण, चार दिवारी एवं आउटर डवलपमेंट के कार्य किये जाने है। कार्य के अन्तर्गत लगभग 55,000.00 वर्ग फीट बिलटप एरिया का निर्माण किया जाना है। यह कार्य 12 माह में पूर्ण किया जाना है। उपरोक्त सैटेलाईट अस्पताल के निर्माण के पश्चात् टोंक रोड पर शिवदासपुरा, बिलवा, प्रहलादपुरा, वाटिका, पदमपुरा, आदि बगरू विधानसभा के आस-पास के क्षेत्रवासियों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होगी।

राजस्थान उच्च न्यायालय के सामने भूमिगत पार्किंग का निर्माण का कार्य।

वर्तमान में राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर की जनसंख्या लगभग 35.00 लाख है एवं जनसंख्या की वार्षिक वृद्वि दर 4.5 प्रतिशत है तथा वाहनों की वृद्वि दर जनसंख्या के अनुपात में लगभग 2 गुणा गति (9: से 10:) से बढ रही है, जिसके परिणाम स्वरूप वर्तमान में सड़कों पर ट्रेफिक जाम की समस्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। शहर की महत्वपूर्ण सड़कों में से एक भगवान दास रोड़ है जिसपर राजस्थान उच्च न्यायालय, पंत कृषि भवन, सचिवालय, ए.जी. ऑफिस आदि सरकारी कार्यालय स्थित है। उक्त सड़क पर स्थित सरकारी कार्यालयों में पार्किंग की कमी एवं बढती वाहनों की संख्या के कारण आमजन वाहनों की पार्किंग सड़क पर ही करते है जिससे भगवान दास रोड़ पर यातायात का दबाव बना रहता है। 

राजस्थान उच्च न्यायालय में दायर याचिका संख्या 620/2019 के क्रम में उच्च न्यायालय द्वारा राजस्थान उच्च न्यायालय परिसर एवं उच्च न्यायालय के सामने स्थित सड़क पर पार्किंग की समस्या के समाधान करने के लिए एक व्यापक योजना प्रस्तुत करने हेतु निर्देशित किया। उक्त निर्देशों की पालना में मुख्य सचिव, राजस्थान सरकार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गोल्फ क्लब की मौजूदा पार्किंग स्थल पर भूमिगत पार्किंग के निर्माण का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया । माननीय मुख्यमंत्री महोदय द्वारा दिये गये बजट घोषणा वर्ष 2023-24 बिन्दु सं0 102 के क्रम सख्ंया 18 के अनुसार प्रदेश के शहरो में आमजन के लिये सुविधा बढाने, यातायात दबाव कम करने, सुनियोजित विकास एवं सौन्दर्र्यीकरण कार्य हेतु राजस्थान उच्च न्यायालय व सचिवालय, जयपुर के सामने 500 वाहनो हेतु 50.00 करोड़ रूपये की लागत से अण्डरग्राउण्ड पार्किंग का निर्माण करवाया जायेगा। 

पिछली सरकारों की योजनाओं को बंद नहीं करते : गहलोत

अल्बर्ट हॉल पर शिलान्यास और लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हम पिछली सरकारों की योजनाओं को बंद नहीं करते। पीएम मोदी ने ईआरसीपी का वादा किया था। यह वादा पूरा नहीं किया, जबकि विभाग के मंत्री यहीं से सांसद है। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि धारीवाल ने कोटा को ट्रैफिक लाइट फ्री कर दिया। जयपुर में भी इस दिशा में काम हो रहा. हम चाहते हर शहर में ऐसा काम हो. अब तक 2 करोड़ लोगों ने विजन 2030 ने सुझाव दिया। मैं मुंबई में लालबाग गया,वहां के लोग कह रहे थे। आपकी सरकार वापस आ रही। राज्य सरकार के कामों की देशभर में चर्चा है। ईडी और इनकम टैक्स केंद्र के इशारे पर काम कर रहे। क्या कोई मंत्री या अधिकारी पकड़ा गया हो बताना चाहिए।

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि सेंट्रल पार्क के मुकाबले का मानसरोवर में सिटी पार्क बना. आज एक और पार्क की सौगात दी। प्रदेश के हर जिले में विकास हुआ है, जो नए जिले बनाए उससे फायदा मिलेगा. सरकार ने ऐतिहासिक फैसले किए। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि सरकार ने संकल्प लिया की कोई भूखा नहीं सोए। पर्यटन को उद्योग का दर्जा दिया गया। कोटा को धारीवाल ने जो रिवर फ्रंट की सौगात दी। उसके लिए धारीवाल साधुवाद के पात्र हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हमने पिछली सरकार में रिकॉर्ड टाइम में मेट्रो चलाई थी। अब इसका विस्तार किया जा रहा. हमारा सपना है कि मेट्रो का दूसरा चरण भी पूरा हो।

Tags: ashok

Post Comment

Comment List

Latest News

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी किस कारण हुई निष्क्रिय, मोदी सरकार ने धारण किया मौनव्रत : खड़गे राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी किस कारण हुई निष्क्रिय, मोदी सरकार ने धारण किया मौनव्रत : खड़गे
वह किस वजह से निष्क्रिय हुई है। इस बारे में सरकार को स्पष्टीकरण देना चाहिए। खड़गे ने कहा कि नरेंद्र...
प्राचीनकाल से राष्ट्र धर्म निभा रहा है राव राजपूत समाज : भजनलाल
जन आकांक्षाओं पर शत-प्रतिशत खरा उतरेगा लोक कल्याणकारी बजट, सरकार ने हर तबके को दी सौगातें : जोगाराम
रेलवे पुल पर फोटो शूट करवा रहे थे दंपती, ट्रेन आती देख 90 फीट गहरी खाई में लगाई छलांग
लोकसभा में गौरव गोगोई बने कांग्रेस के उपनेता, सुरेश को नियुक्त किया मुख्य सचेतक
सोमालिया में जेल से भागने की कोशिश कर रहे कैदियों पर फायरिंग, 8 लोगों की मौत
शॉर्ट फिल्म झूठन की शूटिंग पूरी