प्रसव पीड़ा होने पर 10 से 18 किलोमीटर दूर जाने की मजबूरी

जरखोदा में उपस्वास्थ्य केंद्र दुर्दशा का शिकार, ग्रामीणों को नहीं मिल रही चिकित्सा सुविधा

प्रसव पीड़ा होने पर 10 से 18 किलोमीटर दूर जाने की मजबूरी

करवर क्षेत्र में जरखोदा ग्राम पंचायत मुख्यालय पर संचालित उपस्वास्थ्य केंद्र में सुविधाओं का अभाव है। भवन भी जर्जर हो चुका है।

करवर। नैनवा उपखंड के करवर क्षेत्र में जरखोदा ग्राम पंचायत मुख्यालय पर करीब 5 हजार की आबादी पर  उपस्वास्थ्य केंद्र संचालित है जिसमें सुविधाओं का अभाव है। ऐसे में प्रसव पीड़ा होने पर 10 से 18 किलोमीटर दूर करवर या  इद्रगढ़ जाना पड़ता है जिससे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस उप स्वास्थ्य केंद्र का भवन भी जर्जर हो चुका है। हालात ऐसी हो गई है कि यह भवन कभी भी गिर सकता है। उपस्वास्थ्य केंद्र में एक जीएनएम  कर्मचारी अपनी सेवाएं दे रहा  हैं ,आदर्श  उप स्वास्थ्य केंद्र  बनाकर भूल गए जिम्मेदार है। वर्तमान में एक जीएनएम कार्यरत हैं जो कि  टीकाकरणए वैक्सीनेशन,रिपोर्टिंग आदि कार्य देखता है। एएनएम का पद रिक्त होने से क्षेत्र के लोगों को इलाज के लिए दूर-दूर जाना पड़ता है।
 
ग्रामीणआदर्श उप स्वास्थ्य केंद्र बनाने के बाद भी चिकित्सा सेवाएं में कोई सुधार नहीं हुआ और ना ही ग्रामीणों को चिकित्सा सेवाओं का लाभ  मिला। उपस्वास्थ्य केंद्र का भवन क्षतिग्रस्त होने के बावजूद इकलौता कर्मचारी अपनी सेवाएं उस टूटे फूटे भवन  में दे रहा है। नैनवां उपखंड का सबसे पुराना एवं सर्वाधिक आबादी के साथ करीब एक दर्जन आस-पास के गांव के ग्रामीण यहां पर ही स्वास्थ्य लाभ के लिए उपस्वास्थ्य केंद्र पर आते हैं, लेकिन यहां पर चिकित्सा सुविधाएं ना मिलने से हताश होकर  करवर या इंदरगढ़ जाने को मजबूर है , अभी वर्तमान में उपस्वास्थ्य केंद्र का भवन जर्जर अवस्था में है और आसपास गंदगी का अंबार लगा हुआ है। भवन के पास में ही ग्रामीणों द्वारा रेवड़ी डाल रखी है जबकि उपस्वास्थ्य केंद्र को स्वास्थ्य कल्याण केंद्र में क्रमोनत तो हो चुका है ,उसके बावजूद भी यहां सुविधाओं का अभाव बना हुआ है जिसके चलते ग्रामीणों को स्वास्थ्य लाभ नहीं मिल पा रहा है जबकि गांव में चार आंगनबाड़ी केंद्र  संचालित है  जरखोदा ग्राम पंचायत मुख्यालय पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र होना जरूरी है जब जाकर ही ग्रामीणों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ भरपूर मिल सकता है

जरखोदा  उपस्वास्थ्य केंद्र का  नया भवन बनाने के लिए पीडब्ल्यूडी विभाग, स्वास्थ्य विभाग के उच्चा अधिकारियों को  अवगत करवा चुके हैं।
डॉ असीम खान, चिकित्सा अधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बामनगांव

पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारी को जरखोदा उप स्वास्थ्य केंद्र भवन को जमींदोस घोषित करने के लिए लिखा है, विभाग ने नए भवन के लिए प्रपोजल मांगा था जो बनाकर भिजवा दिया है।
डॉ  एल पी नगर, बीसीएमओ नेनवां

पंचायत की साधारण सभा में पुराने भवन को जमींदोस कर नया भवन बनाने का प्रस्ताव ले रखा है क्षेत्रीय विधायक व लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर उप स्वास्थ्य केंद्र को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में क्रमोन्नत करने के लिए अवगत करवा रखा है।
महावीर प्रसाद नागर, सरपंच ग्राम पंचायत जरखोदा

जरखोदा पंचायत मुख्यालय पर उपस्वास्थ्य केंद्र को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में क्रमोन्नत करवाने से लेकर उपस्वास्थ्य केंद्र का जर्जर भवन जमींदोस कर नया भवन बनाने  के लिए प्रयासरत  है।
शक्ति सिंह आसावत ,जिला परिषद सदस्य

गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र होना बहुत जरूरी है उसके बाद ही ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधाओं का पूरा लाभ मिल सकता है वर्तमान में उपस्वास्थ्य केंद्र संचालित है जिसका भवन जमीदोस करके नया भवन निर्माण जरूरी है।
ग्रामीण,बुद्धि प्रकाश नागर



Post Comment

Comment List

Latest News