महिंदा राजपक्षे का इस्तीफा देने से इंकार

कुछ वर्ग पूरी आबादी का प्रतिनिधित्व नहीं करता है

महिंदा राजपक्षे का इस्तीफा देने से इंकार

श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने देश में मौजूदा आर्थिक एवं राजनीतिक संकट तथा उनके इस्तीफे की मांगों के परिप्रेक्ष्य में कहा कि वह तब तक इस्तीफा नहीं देंगे जब तक उनके पास संसद में बहुमत है।

कोलंबो। श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने देश में मौजूदा आर्थिक एवं राजनीतिक संकट तथा उनके इस्तीफे की मांगों के परिप्रेक्ष्य में कहा कि वह तब तक इस्तीफा नहीं देंगे जब तक उनके पास संसद में बहुमत है। राजपक्षे ने कहा कि उनके पास अभी भी संसद में बहुमत है। उन्होंने कहा कि अगर ज्यादातर सांसदों को लगता है कि मुझे जाना चाहिए, तो मैं चला जाऊंगा। इसमें कोई शक नहीं। उन्होंने कहा कि वे जनादेश से सत्ता में आए हैं और यदि लोग उन्हें बदलना चाहते हैं, तो वे चुनाव के जरिए ऐसा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ विरोध करने वाले और मेरे इस्तीफे की मांग करने वाले लोगों का कुछ वर्ग पूरी आबादी का प्रतिनिधित्व नहीं करता है। राजपक्षे घर जाओ अभियान के बारे में एक सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि इस तरह के अभियान नए नहीं हैं और वर्षों से चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम सही तरीके से चुने गए थे और जिस दिन लोग हमें भेजना चाहेंगे, हम चले जाएंगे। उनके अपने भाई राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के बीच मतभेद के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उन दोनों  के बीच ऐसा कुछ नहीं है। उन्होंने कहा कि गोटाबाया राजपक्षे राष्ट्रपति हैं। इसलिए मुझे हमेशा राष्ट्रपति के रूप में उनका सम्मान करना चाहिए। वह मेरा छोटा भाई है, लेकिन वह अलग बात है। हम सही तरीके से चुने गए थे और जिस दिन लोग हमें भेजना चाहेंगे, हम चले जाएंगे।

बुनियादी आवश्यक आपूर्ति की कमी पर बात करते हुए राजपक्षे ने कहा कि वे यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे थे कि नागरिकों को यथासंभव बुनियादी आवश्यक आपूर्ति की जाए। उन्होंने कहा कि वे जल्द से जल्द सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे है। राजपक्षे ने कहा कि विश्व बैंक और अन्य एजेंसियां हमें आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति प्राप्त करने में सहायता कर रही हैं। प्रधानमंत्री ने सरकार की संकट को हल करने की योजना के बारे में कहा कि तत्काल समाधान के लिए कुछ ऐसे देश हैं जो हमारी मदद करने के इच्छुक हैं और हमने उनके साथ चर्चा शुरू कर दी है। उन्होंने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। हम कई देशों के साथ चर्चा कर रहे हैं। हम यहां राजदूतों से कई बार मिल रहे हैं।

Post Comment

Comment List

Latest News

व्यापारी को अगवा कर 5 करोड़ की फिरौती मांगी : 3 घंटे में पुलिस ने 3 आरोपियों को पकड़ा व्यापारी को अगवा कर 5 करोड़ की फिरौती मांगी : 3 घंटे में पुलिस ने 3 आरोपियों को पकड़ा
शास्त्री नगर निवासी व्यापारी ललित कृपलानी के दोपहर ऑफिस से खाना खाने घर आते समय सोनी अस्पताल के पास आइ-20...
गहलोत खेमे का प्रस्ताव: पायलट को छोड़कर किसी को भी बना दें सीएम
अमेरिका के फ्लोरिडा प्रांत में आपातकाल की घोषणा
महंगाई जनता के सीने पर तांडव कर रही है- राहुल गांधी
छात्रा को 2 घंटे तक बिना कपड़ों के रखा, वजह जानकर रह जाओगे हैरान
कोटा होकर जाने वाली 3 ट्रेनों में लगेंगे अतिरिक्त कोच
विधायक दल की बैठक से पहले गहलोत खेमे के विधायकों की धारीवाल के निवास पर बैठक