कोरोना के बाद अब महंगाई बेलगाम

दालों की कीमतों में बीस से तीस फीसदी का इजाफा हुआ

कोरोना के बाद अब महंगाई बेलगाम

कोरोना के साये में जहां एक ओर सभी को घरों में रहना पड़ा। इसके बाद घरों का बजट बिगड़ा। सरसों, मूंगफली और सोयाबीन के तेलों में सबसे अधिक बढ़ोतरी हुई।

जयपुर। कोरोना के साये में जहां एक ओर सभी को घरों में रहना पड़ा। इसके बाद घरों का बजट बिगड़ा। सरसों, मूंगफली और सोयाबीन के तेलों में सबसे अधिक बढ़ोतरी हुई। दालों की कीमतों में बीस से तीस फीसदी का इजाफा हुआ। दामों की बढ़ोतरी का मुख्य कारण कोरोना की पाबंदिया रही। लॉकडाउन, सीमित संख्या में आयोजन, होटल, रेस्टोरेंट पर पाबंदी, सामाजिक, धार्मिक कार्यक्रम बंद। इससे मांग में लगातार गिरावट रही। इसके बाद पेट्रोल-डीजल के दाम फिर आग उगलने लगे। 2019 के बाद आए कोरोना ने 2020 और 2021 में उत्पादन और उपभोग के चक्र को चरमरा दिया। वैश्विक संकट के दौरान केन्द्र और राज्य सरकार के सभी उपाय नाकाफी दिख रहे है।

वैश्विक हालात और पेट्रोल-डीजल की मार
कोरोना के बाद हालात सुधरने लगे है, मांग में भी लगातार बढ़ोतरी होने लगी। रूस-यूक्रेन के युद्ध के दौरान वैश्विक बाजार में असमंजस के हालात बन गए है। इससे हमारा आयात और महंगा हो गया है। खाद्य तेलों के केन्द्र के सभी प्रयास असफल हो गए। खाद्य तेल निर्यातक देश लगातार दाम बढ़ा रहे है। इसके साथ ही पेट्रोल-डीजल के बेलगाम दाम महंगाई को बढ़ाने में सहायक सिद्ध हो रहे है।
- गुप्ता, चेयरमैन राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ

लॉकडाउन से बिगड़े मिजाज नहीं बदले
उत्पादन चक्र में आई रुकावट के बाद अब भी अड़चने जारी है। चीन से कलर, केमिकल आयात में बाधा बनी हुई है। कई उत्पादन मिल लॉकडाउन में बंद हो गई। दो साल मांग ठप होने के कारण उद्यमी अब उद्योग चलाने में असफल हो रहे है। बाजार में मांग में लगातार इजाफा हो रहा है, लेकिन उत्पादन लागत बढ़ने से दामों में बढ़ोतरी चल रही है।
- पवन पारीक, अध्यक्ष खजाने वालों का रास्ता व्यापार मण्डल

Read More बेरोजगार एकीकृत महासंघ की दांडी यात्रा तीसरे दिन भी जारी

घरेलू मांग में रिकॉर्ड तेजी
कोरोना की सभी पाबदियां हटने के बाद अब शादी समारोह, धार्मिक, सामाजिक आयोजन हो रहे है। स्कूल-कॉलेज खुल गए है। ऐसे में सभी प्रकार के क्षेत्रों के उत्पादों की मांग में लगातार इजाफा हो रहा है। दो साल की कोरोना बंदिशों में बिगड़े औद्योगिक हालात सुधरने में समय लगेगा।
- सुरेश अग्रवाल, चेयरमैन, फैडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एंड इंडस्ट्रीज (फोर्टी)


Post Comment

Comment List

Latest News

नजदीक से गुजर रहे हाईटेंशन तार, हर पल मौत का साया नजदीक से गुजर रहे हाईटेंशन तार, हर पल मौत का साया
लोगों का छतों पर जाना भी मुश्किल हो रहा है। 220 केवी की लाइन के चपेट में आने के डर...
शादी की तैयारियों के बीच मेरिज गार्डन पहुंचा भारी भरकम मगरमच्छ, मचा हड़कम्प
अंबानी परिवार को मिली धमकी, फोन कर कहा, 'एचएन रिलाइंस फाउंडेशन अस्पताल को बम से उड़ा दिया जाएगा'
मोदी ने हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर एम्स का किया उद्घाटन
राष्ट्रीय दल बनते ही टीआरएस का बदला नाम, हुआ भारतीय राष्ट्र समिति
निचले स्तर पर ही सुनिश्चित हो रहा है लोगों की समस्याओं का निस्तारण - गहलोत
वर्तमान सरकार के राज में विकास का पहिया थम गया : राजेंद्र राठौड़