जयपुर में डकैती की पड़ताल: द्रोणपुरी कॉलोनी निवासी मैथलीशरण के पड़ोसियों की जुबानी...

नेपाल से आ रहे नौकरों का आंतक: वेरिफिकेशन नहीं होने से वारदात कर आसानी से हो जाते हैं फरार

जयपुर में डकैती की पड़ताल: द्रोणपुरी कॉलोनी निवासी मैथलीशरण के पड़ोसियों की जुबानी...

कई वारदात कर भाग चुके हैं आरोपी

जयपुर। जयपुर शहर में आए दिन नेपाल से आ रहे नौकर मकान मालिकों को बधंक बनाकर लूट, डकैती या चोरी की वारदात कर फरार हो जाते हैं। जब पुलिस जांच करने लगती है तो एक ही बड़ी कमी सामने आती है कि इनका मकान मालिक की ओर से पुलिस वेरिफिकेशन नहीं कराया हुआ होता है। ऐसे में पुलिस को इन बदमाशों को पकड़ने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसी तरह की कमी सोमवार को पूर्व चिकित्सा मंत्री दुर्रुमियां के निजी सचिव रहे मैथलीशरण शर्मा के यहां हुई वारदात में भी देखने को मिली। इससे पहले नेपाल से आए नौकर 26 मार्च को सिरसी रोड ऑफिसर्स कैम्पस निवासी डॉ. दिलीप सिंह को नींद की गोलियां खिलाकर उनके घर से सोने-चांदी के जेवर और नकदी लेकर चले गए थे। वहीं गत वर्ष चार अगस्त को गोविंद नगर मोड़ स्थित एक मोबाइल शोरूम से लाखों रुपए के मोबाइल चोरी कर ले गए थे।

मोहित लहूलुहान हालत में छत पर खड़ा था
पड़ोस में रहने वाले भगवती सिंह ने बताया कि उनके मकान की छत फार्म से सटकर है। रात करीब 11:45 बजे घर की पहली मंजिल पर रहने वाले किराएदार ने फोनकर कहा कि छत पर कोई मदद के लिए आवाज लगा रहा है। इस पर भगवती छत पर पहुंचे। यहां देखा तो मोहित लहूलुहान हालत में खड़ा था। उसके कान के पीछे चोट लगी थी और खून बह रहा था। मोहित ने भगवती सिंह से कहा कि करीब 15 हथियारबंद डकैत उनके घर में घुसे हैं, आप अन्य पड़ोसियों को बुलाकर लाओ। वह पड़ोसियों को लेकर उनके घर पहुंचे थे।

रुद्र हावभाव से नहीं लग रहा था नौकर
पड़ोसी विजय जांगिड़ ने बताया कि डकैतों की सूचना मिलने पर उसने मैथलीशरण के पीछे वाले गेट का अंदर से ताला तोड़ा और अन्य लोगों के साथ अंदर पहुंचे थे। यहां पर डकैतों ने दीवार और फर्श में रुपए छीपे होने की आशंका के चलते तोड़फोड़ कर रखी थी। नौकर रुद्र को कुछ दिन पहले फार्म हाउस में झाडू लगाते हुए देखा था। हावभाव से वह नौकर नहीं लग रहा था।

हाथ की अंगुलियां कटी हुई थी
पड़ोसी सीताराम ने बताया कि वह मैथलीशरण के फार्म हाउस पहुंचे तो हाथ की अंगुलियां कटी हुई थी और खून बह रहा था। उसके बाद पूरे मकान की छानबीन की, लेकिन डकैत वहां से जा चुके थे। उनके आॅफिस की दीवार और फर्श में खून के छीटे लगे हुए थे।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News