ओबीसी आरक्षण की विसंगतियां दूर करवाने की मांग को लेकर बेरोजगारों का हल्ला-बोल

शिक्षा मंत्री बी डी कल्ला के सिविल लाइन स्थित आवास पर बेरोजगार

 ओबीसी आरक्षण की विसंगतियां दूर करवाने की मांग को लेकर बेरोजगारों का हल्ला-बोल

बड़ी संख्या में बेरोजगार शहीद स्मारक पर जूटे और विरोध प्रदर्शन

जयपुर। ओबीसी युवा मोर्चा का ओबीसी आरक्षण की विसंगतियां दूर करवाने की मांग को लेकर गुरुवार को शहीद स्मारक पर प्रदेशभर के बेरोजगारों की ओर से आंदोलन किया गया इस दौरान शहीद स्मारक पर गुरूवार सुबह से ही प्रदेश भर के बेरोजगार जुटने शुरू हो गए और दोपहर होते-होते सैकड़ों में पहुंच गई।  विरोध प्रदर्शन में बेरोजगारों ने कहा कि सरकार आरक्षण से छेड़छाड़ करके विसंगतियां उत्पन्न कर रही है जिसके कारण बेरोजगारों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, इन परेशानियों को दूर करने को लेकर बेरोजगारों ने कई बार सरकार तक अपनी बात पहुंचाई। लेकिन सरकार ने इसका समाधान नहीं किया ऐसे में आज बड़ी संख्या में बेरोजगार शहीद स्मारक पर जूटे और विरोध प्रदर्शन किया।

तीन प्रमुख तीन मांगों
1- ओबीसी कैटेगरी में भूतपूर्व सैनिकों का कोटा 12.5% फिक्स किया जाए और पूर्व भर्तियों के पीड़ित बेरोजगारों के पद बहाल किए जाए l
2- होरिजेंटल आरक्षण की जगह वर्टिकल आरक्षण लागू किया जाए l
3-ओबीसी की बडी जनसंख्या को मध्य नजर रखते हुए ओबीसी का आरक्षण 27% किया जाएl

शिक्षा मंत्री बी डी कल्ला के सिविल लाइन स्थित आवास पर बेरोजगार

शिक्षा मंत्री बी डी कल्ला के सिविल लाइन स्थित आवास पर बड़ी संख्या में बेरोजगारों ने मुलाकात की और ज्ञापन दिया। ज्ञापन में आरक्षण से छेड़छाड़ के मामले को शामिल किया गया है और शिक्षा मंत्री को इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी है। राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया कि शिक्षा मंत्री से ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र की वैधता 1 साल बढ़ाने, ओबीसी-एमबीसी प्रमाण पत्र की आवेदन की अंतिम तिथि की अनिवार्यता खत्म करने, शिक्षक भर्ती सिलेबस,संस्कृत विभाग मे रीट भर्ती निकलवाने, फर्स्ट ग्रेड सेकंड ग्रेड और थर्ड ग्रेड भर्तियों की परीक्षा तिथि जारी करवाने की मांग की। इस पर शिक्षा मंत्री डॉ बीडी कल्ला ने जल्द से जल्द उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया यादव ने बताया कि सरकार बेरोजगारों की मांगों को लेकर उचित कार्रवाई नहीं कर रही है ऐसे में बेरोजगारों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News