राष्ट्रीय महिला फुटबाल में राजस्थान को 27 साल बाद मिली जीत

राष्ट्रीय अंडर-17 महिला फुटबाल : जम्मू-कश्मीर को 2-0 से हराया

राष्ट्रीय महिला फुटबाल में राजस्थान को 27 साल बाद मिली जीत

गुवाहाटी (असम) में खेली जा रही राष्ट्रीय जूनियर अंडर-17 महिला फुटबाल चैंपियनशिप में शुक्रवार को राजस्थान ने जम्मू-कश्मीर को 2-0 से पराजित कर दिया। राजस्थान की किसी भी महिला टीम की 1995 के बाद किसी राष्ट्रीय फुटबाल प्रतियोगिता में यह पहली जीत है।

जयपुर। गुवाहाटी (असम) में खेली जा रही राष्ट्रीय जूनियर अंडर-17 महिला फुटबाल चैंपियनशिप में शुक्रवार को राजस्थान ने जम्मू-कश्मीर को 2-0 से पराजित कर दिया। राजस्थान की किसी भी महिला टीम की 1995 के बाद किसी राष्ट्रीय फुटबाल प्रतियोगिता में यह पहली जीत है। वर्षा से प्रभावित रहे टूर्नामेंट के पहले मुकाबले में बंगाल के हाथों 0-8 से मिली करारी हार से उबरते हुए राजस्थान की खिलाड़ियों ने आज बेहतरीन खेल खेला। राजस्थान ने शुरुआत से ही प्रतिद्वंद्वी टीम पर दबाव बनाए रखा और हाफ टाइम तक दोनों टीमों गोल शून्य बराबरी पर थीं। हाफ टाइम के बाद राजस्थान ने विपक्षी टीम पर जोरदार हमले बोले और दीक्षा कुमारी ने 58वें मिनट में शानदार गोल दाग राजस्थान को 1-0 से बढ़त दिला दी। इसके आठ मिनट बाद 66वें मिनट खुशी चंदेल ने एक और गोल ठोक जम्मू-कश्मीर के हौसले पस्त कर दिए। राजस्थान टीम का अगला मुकाबला 26 जून को तमिलनाडु से होगा।

महिला फुटबाल में स्वर्णिम इतिहास रहा है राजस्थान का
देश की महिला फुटबाल में 80 और 90 के दशक में राजस्थान का इतिहास स्वर्णिम रहा है। 1987 से 1997 के बीच दस साल तक राष्ट्रीय फुटबाल में राजस्थान की महिला खिलाड़ियों का दबदबा रहा। इस दौरान राजस्थान ने सब जूनियर नेशनल में छह बार खिताब पर कब्जा किया, वहीं चार बार राजस्थान की टीम जूनियर वर्ग में चैंपियन बनी।

राजस्थान की फुटबाल में मशहूर रहीं कोटा की सोलंकी सिस्टर्स
अस्सी और नब्बे के दशक में देश की फुटबाल में राजस्थान के कोटा की सोलंकी सिस्टर्स ने काफी नाम कमाया। हिमांशु, मीनू और लक्की सोलंकी ने भारतीय टीम का भी प्रतिनिधित्व किया, वहीं सबसे छोटी बहन लवली सोलंकी भारतीय टीम के कैंप तक पहुंची। अब राजस्थान खेल परिषद की फुटबाल कोच मीनू सोलंकी ने  1997 में एशियन महिला फुटबाल चैंपियनशिप में देश का प्रतिनिधित्व किया। वहीं जर्मनी, थाईलैंड, यूएई और नेपाल में मैत्री मैच खेले। हिमांशु और लक्की 1990 में डेनमार्क में हुए दाना कप में खेलीं। इनके अलावा जोधपुर की गीता चौधरी भी दाना कप में खेली भारतीय टीम में शामिल थीं।

Read More बास्केटबाल में यूपी ने रचा इतिहास, योगी ने दी बधाई

Post Comment

Comment List

Latest News

कैटरीना कैफ ने शेयर किया फोनभूत का मोशन पोस्टर  कैटरीना कैफ ने शेयर किया फोनभूत का मोशन पोस्टर
कैटरीना ने अपने इंस्टाग्राम पर पोस्टर शेयर कर ट्रेलर के रिलीज डेट की जानकारी दी है। फिल्म फोनभूत एक हॉरर...
असम में ट्रक से टकराई कार, 3 लोगों की मौत 
फर्जी दस्तावेज लेकर सेना मे भर्ती होने आया था युवक, कार्रवाई के डर से पत्थर की खान में उतरा 
अकासा एयरलाइन ने दी पालतू पशुओं को विमान से ले जाने की सुविधा  
इक्वाडोर की जेल में 2 गिरोहों में संघर्ष, 5 कैदियों की मौत
स्वयंसेवकों ने स्वच्छता के लिए किया श्रमदान
छात्र संघ अध्यक्ष का निर्वाचन रद्द, कॉलेज प्रशासन ने उपाध्यक्ष को सौंपा चार्ज