नौकरियों में राज्य के युवाओं को रिजर्वेशन देने की तैयारी

गहलोत ने यूथ एक्सीलेंट सेंटर के शिलान्यास समारोह में यह संकेत दिए

नौकरियों में राज्य के युवाओं को रिजर्वेशन देने की तैयारी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार राज्य के युवाओं को सरकारी नौकरी में शत प्रतिशत आरक्षण देने की तैयारी कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इसकी स्टडी करा रहे है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार राज्य के युवाओं को सरकारी नौकरी में शत प्रतिशत आरक्षण देने की तैयारी कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इसकी स्टडी करा रहे है। अगर कोई अड़चन नहीं आई, तो राजस्थान में इसे लागू कर दिया जाएगा। गहलोत ने यूथ एक्सीलेंट सेंटर के शिलान्यास समारोह में यह संकेत दिए। प्रदेश में गत कुछ दिनों से सरकारी नौकरियों में प्रदेश के युवाओं को आरक्षण देने की मांग उठ रही है। इसका हम अध्ययन करा रहे है। अगर देश के अंदर ऐसी स्थिति बनी, तो राजस्थान पहला राज्य होगा, जहां युवाओं को पूरा आरक्षण मिलेगा। एक दो राज्यों ने ऐसा किया है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अपनी भावना व्यक्त कर चुके है। सरकार बनने के बाद एक लाख 25 हजार से ज्यादा युवाओं को नौकरी दी जा चुकी है।

युवाओं पर केन्द्रित होगा बजट
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में इस बार का बजट युवाओं पर केन्द्रित होगा। उन्होंने खेल मंत्री और युवा बोर्ड से जुड़े पदाधिकारियों से कहा कि इसके लिए वे देशभर की युवा नीतियों का अध्ययन करे। उनमें जो ठीक होगा, उसे हम राजस्थान में लागू करेंगे। युवा भी इसके लिए सुझाव दें। केन्द्र ने युवाओं पर अग्निपथ योजना थोप दी है। योजना से 4 साल में युवा बेरोजगार हो जाएगा।

Post Comment

Comment List

Latest News

मुथूट फाइनेंस ने माधुरी दीक्षित को ब्रांड एंबेसडर बनाया मुथूट फाइनेंस ने माधुरी दीक्षित को ब्रांड एंबेसडर बनाया
द मुथूट ग्रुप के संयुक्त प्रबंध निदेशक अलेक्जेंडर जॉर्ज मुथूट ने कहा कि मुथूट ग्रुप परिवार में हमारे ब्रांड एंबेसडर...
डोप टेस्ट से बचने के लिए मैदान से भागा खिलाड़ी
2007 विश्व कप के हीरो जोगिंदर ने क्रिकेट के से लिया संन्यास
रणजी ट्रॉफी: आंध्र प्रदेश को हरा मध्यप्रदेश भी अंतिम चार में पहुंची
वनडे ट्रॉफी में राजस्थान की बेटियों का कमाल: आयुषी के शतक से पंजाब को 69 रनों से हराया
रेल बजट में राजस्थान को मिला 9532 करोड़ रुपए का बजट
दोस्ती वाला प्यार या प्यार वाली चाहत, इश्क की अपनी चाल है, अब बर्बाद हो या आबाद किस्मत की बात है