एक टेस्ट से पहले ही मालूम होगा ब्रेन हैमरेज का खतरा

मालूम किया जा सकता है कि व्यक्ति को ब्रेन हैमरेज होगा कि नहीं

एक टेस्ट से पहले ही मालूम होगा ब्रेन हैमरेज का खतरा

सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. दलजीत सिंह ने यह जानकारी इटर्नल सट्रोक कॉनक्लेव में दी। इटर्नल हॉस्पिटल की ओर से आयोजित इस एक दिवसीय इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में 200 से अधिक विशेषज्ञों ने भाग लिया और ब्रेन स्ट्रोक के इलाज में इस्तेमाल की जा रही नवीनतम तकनीकों के बारे में जानकरी दी।

जयपुर। अब एक ब्रेन एमआरआई टेस्ट से पहले ही मालूम किया जा सकता है कि व्यक्ति को ब्रेन हैमरेज होगा कि नहीं। एमआरआई की जांच से माइक्रो ब्लीडिंग कुछ मार्कर पर फोकस कर भविष्य में होने वाले ब्रेन हैमरेज के खतरे को भांपकर व्यक्ति को उससे बचाया जा सकता है। दिल्ली से आए सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. दलजीत सिंह ने यह जानकारी इटर्नल सट्रोक कॉनक्लेव में दी। इटर्नल हॉस्पिटल की ओर से आयोजित इस एक दिवसीय इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में 200 से अधिक विशेषज्ञों ने भाग लिया और ब्रेन स्ट्रोक के इलाज में इस्तेमाल की जा रही नवीनतम तकनीकों के बारे में जानकरी दी। कॉन्फ्रेंस के ऑर्गनाइजिंग चेयरमैन डॉ. सुरेश गुप्ता ने बताया कि कॉन्फ्रेंस में कई जाने-माने न्यूरो एक्सपर्ट्स ने शिरकत की। इस दौरान उन्होंने ब्रेन स्ट्रोक से जुड़ी नई तकनीकों, दवाओं और प्रोटोकॉल के बारे में बताया। ऑर्गनाइजिंग सेक्रेटरी डॉ. सुरेंद्र खोश्या और डॉ. मदनमोहन गुप्ता ने बताया कि कॉन्फ्रेंस में यूएसए, स्वीटजरलैंड के अलावा दिल्ली, चंडीगढ़, बेंगलुरु से भी विशेषज्ञ शामिल हुए।

25 वर्ष से ऊपर के हर चार में से एक व्यक्ति को ब्रेन स्ट्रोक
इस दौरान स्वीट्जरलैंड के डॉ. शाकिर हुसैन ने बताया कि बुढ़ापे की बीमारी मानी जाने वाली बीमारी ब्रेन स्ट्रोक अब युवाओं में ज्यादा होने लगा है। दुनियाभर में 25 साल से ज्यादा उम्र के हर चार में से एक व्यक्ति को ब्रेन स्ट्रोक हो रहा है। हर साल ब्रेन स्ट्रोक के 13 मिलियन नए मरीज आ रहे हैं जिनमें 50 प्रतिशत मरीज कम उम्र के हैं। वहीं डॉ. श्रीजितेश ने स्ट्रोक ट्रीटमेंट में नए एडवांसमेंट के बारे में जानकारी दी। पद्मश्री डॉ. पदमा श्रीवास्तव ने बार-बार हो रहे ब्रेन स्ट्रोक को रोकने के लिए आई नई ड्रग थेरेपी के बारे में बताया। डॉ. अतुल प्रसाद ने बताया कि हार्ट पेशेंट में बनने वाले थक्कों की दिमाग में जाने की संभावना ज्यादा होती है जिसके लिए नई तरह की खून पता करने की दवाएं आई हैं। डॉ. धीरज खुराना ने थ्रोम्बोलाइजिंग की नई दवा के बारे में बताया जिससे मरीज के दिमाग में ब्लीडिंग कम होती है और अच्छे परिणाम आते हैं। डॉ. अतुलाभ वाजपेयी ने ब्रेन स्ट्रोक के इलाज के बाद होने वाली रिकवरी के बारे में बताया। इसके अलावा यूएसए से डॉ. अनीश सिंघल, डॉ. ए. वेंकटेश, डॉ. नेहा डंगायच, बेंगलुरु से डॉ. गिरीश बी कुलकर्णी ने भी नए एडवांसमेंट पर चर्चा की।

Post Comment

Comment List

Latest News