लंपी के विरोध में गौ भक्तों ने किया विधानसभा कूच

शहीद स्मारक से रैली आरंभ

लंपी के विरोध में गौ भक्तों ने किया विधानसभा कूच

नरेबाजी करते हुए विधानसभा घेराव करने के लिए आगे बढ़े गौ भक्त। पुलिस ने आगे नहीं बढ़ने दिया आगे। लंपी हुए पशुपालकों के नुकसान के लिए सरकार से मुआवजा देने की मांग।

जयपुर। राज्य में तेजी से बढ़ रही लंपी बीमारी की रोकथाम के लिए गोरक्षा संघर्ष समिति, चौमूं की ओर से विधानसभा का घेराव करने के लिए शहीद स्मारक पर बड़ी संख्या में गौ भक्त जमा हुए। नारेे लगाते हुए विधानसभा घेराव करने के लिए आगे बढ़ने लगे, लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया। समिति के संयोजक शंकर गोरा ने बताया कि शहीद स्मारक से रैली आरंभ हुई, शहीद स्मारक से चौमूं हाउस होते हुए विधानसभा के लिए कूच करने के लिए आगे बढती, लेकिन पुलिस ने आगे नहीं बढ़ने दिया।

उन्होंने कहा पूरे देश की तुलना में राजस्थान में संक्रमित गायों की संख्या 70 प्रतिशत है। प्रदेश में हजारो गो-वंश काल का ग्रास बन चुका है। पशुपालकों के गो-वंश ख़त्म होने की कगार पर है। सरकार आंखें मूंद कर सो रही है। सरकार को लंपी हुए पशुपालकों के नुकसान के लिए सरकार को पशुपालकों को मुआवजा देना चाहिए। गो-शालाओ में विशेष अनुदान सरकार को देना चाहिए, जिससे लंपी बीमारी पर काबू पाया जाए। पशु चिकित्सकों को ग्रामीण क्षेत्रों में लगाया जाना चाहिए,अधिकांश पशु चिकित्सक शहरी क्षेत्रों में लगे हुए हैं।

Tags: lampi

Post Comment

Comment List

Latest News

पत्नी और नाबालिग बच्चों की जिम्मेदारी से नहीं भाग सकता कोई व्यक्ति : सुप्रीम कोर्ट पत्नी और नाबालिग बच्चों की जिम्मेदारी से नहीं भाग सकता कोई व्यक्ति : सुप्रीम कोर्ट
अदालत ने उस व्यक्ति की अर्जी को खारिज कर दिया जिसमें उसका कहना था कि वह अपनी पत्नी और बच्चों...
भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुई सोनिया गांधी, राहुल ने कहा, यात्रा को मिलेगी मजबूती
विकास के लिए धन की कोई कमी नहीं, आप मांगते-मांगते थक जाएंगे पर मैं देते-देते नहीं थकूंगा: गहलोत
दिल्ली के कपड़ा मार्केट में लगी भीषण आग, 1 व्यक्ति की मौत
फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक
बॉन्ड नीति के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स का अस्पतालों में पूर्णतया कार्य बहिष्कार
पूर्व पुलिसकर्मी ने चाइल्ड केयर सेंटर में की फायरिंग, 23 बच्चों समेत 34 लोगों की मौत