हर साल रावण का पुतला दहन करना ब्राह्मणों का अपमान, सनातन संस्कृति में एक बार होता है अंतिम संस्कार : शंकराचार्य

कहा- रावण का पुतला दहन रोकने के लिए सरकार लाए अध्यादेश

हर साल रावण का पुतला दहन करना ब्राह्मणों का अपमान, सनातन संस्कृति में एक बार होता है अंतिम संस्कार : शंकराचार्य

शंकराचार्य की ओर से यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को रावण का पुतला दहन रोकने के लिए अध्यादेश जारी करना चाहिये।

मथुरा। जगद्गुरु शंकराचार्य अधोक्षजानन्द देव तीर्थ ने दशहरा पर रावण का पुतला दहन करने की परंपरा को बन्द करने की सरकार से मांग की है। उनकी दलील है कि इससे न सिर्फ प्रदूषण होता है बल्कि भारत की सनातन संस्कृति में किसी व्यक्ति का एक ही बार अंतिम संस्कार करने की परंपरा का भी अपमान है। शंकराचार्य की ओर से यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को रावण का पुतला दहन रोकने के लिए अध्यादेश जारी करना चाहिये। जिसे बाद में संसद से पारित कराके कानूनी जामा पहनाकर लागू किया जा सकता है। उनकी दलील है कि बार बार रावण का पुतला दहन करना विद्वता का अपमान है।

उन्होंने बयान में कहा कि रावण ब्राह्मण था और न केवल बलवान था बल्कि वेदों का ज्ञाता भी था। उसकी विद्वता के कारण ही रामेश्वरम में समुद्र पर सेतु बनाने के लिए श्रीराम ने उससे पूजन कराया था। राम रावण युद्ध में उसकी मृत्यु के बाद श्रीराम ने लक्ष्मण को उसके अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए भेजा था और विभीषण की उपस्थिति में उसका अंतिम संस्कार किया गया था। शंकराचार्य ने कहा कि भारत की सनातन संस्कृति में किसी व्यक्ति का अंतिम संस्कार केवल एक बार किया जाता है। रावण का त्रेता युग में ही कर दिया गया था। अब हर साल उसका पुतला दहन करना न सिर्फ सनातन संस्कृति के प्रतिकूल है बल्कि ब्राह्मणों का भी अपमान है।  

उन्होंने कहा कि मनुष्य की कृति ऐसी है, जिसमें देवत्व भी है और असुरत्व भी है। वर्तमान समय की सबसे बड़ी आवश्यकता मनुष्य को अपने अन्दर मौजूद असुरत्व का दहन करने की है। आज के समाज के विघटन का भी मूल कारण मनुष्य द्वारा असुरत्व को महत्व देना है। इसी असुरत्व के कारण रूस और यूक्रेन का युद्ध रूकने का नाम नहीं ले रहा है। उनका कहना है कि रामलीला के आयोजकों को दशहरा पर अपने भीतर का असुरत्व समाप्त करने का संकल्प दिलाना चाहिए। मानव की आसुरी प्रवृत्ति जब हट जाएगी और दैवी प्रवृत्ति उसका स्थान ले लेगी तो यह धरती स्वर्ग बन जाएगी तथा सारे झगड़े समाप्त हो जाएंगे और सर्वे भवन्तु सुखिन: कथन चरितार्थ होने लगेगा।

Read More भारत जोड़ो यात्रा: टोकाटोकी करने पर राहुल गांधी ने लगाई विधायक रफीक खान को फटकार

शंकराचार्य ने कहा कि रावण के पुतले का दहन कर अनजाने में ही नई पीढ़ी को कुसंस्कार परोसा जा रहा है और एक विद्वान का अपमान करने की शिक्षा दी जा रही है। पुतला दहन से पर्यावरण भी प्रदूषित होता है। सरकार जिस प्रकार स्वच्छ पर्यावरण के लिए वाहनो में स्वच्छ ईंधन का प्रयोग करने या पराली जलाने से रोकने के लिए कानून का सहारा लेती है, उसी प्रकार पुतला दहन को रोकने के लिए भी समाजसेवियों के साथ ही सरकार को भी पहल करनी चाहिए।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News

महाराष्ट्र के मंत्रियों ने कर्नाटक में प्रवेश की कोशिश की, तो होगी कार्रवाई : सीएम बोम्मई महाराष्ट्र के मंत्रियों ने कर्नाटक में प्रवेश की कोशिश की, तो होगी कार्रवाई : सीएम बोम्मई
बोम्मई ने कहा कि अगर महाराष्ट्र के मंत्री राज्य में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं, तो संबंधित अधिकारियों को...
रूस में ईंधन टैंकर में आग लगने से 3 लोगों की मौत
बर्ड फ्लू का प्रकोपः 3 लाख से ज्यादा मुर्गियां मारेगा जापान
अंडर-19 महिला विश्व कप में शेफाली करेंगी भारत की कप्तानी
राहुल की केन्द्र सरकार को समय रहते संभल जाने की हुंकारः गहलोत
कृषि पर्यवेक्षक, ग्राम विकास अधिकारी और पटवारी के पद खाली पड़े, जनता भटक रही
ओवरलोड वाहनों के कारण जर्जर हुईं संपर्क सड़कें