शादी की तैयारियों के बीच मेरिज गार्डन पहुंचा भारी भरकम मगरमच्छ, मचा हड़कम्प

एक ही दिन में दो जगह निकले मगरमच्छ , वन विभाग 9 महीने में 60 से ज्यादा मगरमच्छ कर चुका रेस्क्यू

शादी की तैयारियों के बीच मेरिज गार्डन पहुंचा भारी भरकम मगरमच्छ, मचा हड़कम्प

बोरखेड़ा कैनाल रोड स्थित एक मैरिज गार्डन में 12 फीट लंबा मगरमच्छ टेंट तक पहुंच गया। मगरमच्छ को सामने देख अफरा-तफरी मच गई। लोगों की सूचना पर तीन सदस्यीय टीम मौके पर पहुंची करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद उसे रेस्क्यू करने में सफलता मिली।

कोटा। शहर में बुधवार को दो जगह मगरमच्छ निकलने से लोगों में हड़कम्प मच गया। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और मगरमच्छ का रेस्क्यू कर सावनभादौ डेम में सुरक्षित छोड़ दिया। लाडपुरा वन मंडल की रेस्क्यू टीम के धर्मेंद्र सिंह चौधरी ने बताया कि बोरखेड़ा कैनाल रोड स्थित एक मैरिज गार्डन में शादी समारोह की तैयारियां की जा रही थी। यहां कैटरिंग वर्कर मेहमानों के लिए भोजन बना रहे थे। तभी पास में स्थित नाले में से 12 फीट लंबा मगरमच्छ टेंट तक पहुंच गया। लोगों की सूचना पर तीन सदस्यीय टीम मौके पर पहुंची और रस्सियों की मदद से उसे रेस्क्यू करने का प्रयास किया। लेकिन, मगरमच्छ के इधर-उधर पानी में जाने के कारण काफी परेशानी हुई, करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद उसे रेस्क्यू करने में सफलता मिली। इसके बाद उसे मुकुंदरा टाइगर रिजर्व के सावनभादौं डेम में सुरक्षित छोड़ दिया। रेस्क्यू टीम में राकेश मीणा व वीरेंद्र सिंह शामिल थे।  

खाली प्लाट में मिला मगरमच्छ का बच्चा
सोगरिया रोड स्थित एक निजी स्कूल के पास दोपहर एक बजे करीब खाली प्लॉट में 3 फीट लंबा मगरमच्छ का बच्चा निकला। क्षेत्रवासियों की सूचना पर वन मंडल लाडपुरा रेंज की रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची और 10 मिनट में रेस्क्यू कर लिया गया। बाद में उसे भी सावनभादौं डेम में छोड़ दिया। 

मगरमच्छ से परेशान शहरवासी
चंबल नदी  में काफी संख्या में मगरमच्छ हैं। इस वर्ष भारी बारिश के चलते बैराज के गेट खोल बार-बार काफी मात्रा में पानी छोड़ा गया। पानी के तेज बहाव के कारण मगरमच्छ बहकर नहर व नालों में आ जाते हैं। जिसके कारण यह आबादी क्षेत्र में घुस जाते हैं। 

Read More नगर निगम कमेटियों के लिए आम सहमति वाला फॉर्मूला निकालने के प्रयास जारी : महेश जोशी

 अब तक करीब 60 मगरमच्छों का किया रेस्क्यू 
 कोटा में हर मानसून सत्र में वन विभाग 65 से 70 के बीच मगरमच्छ रेस्क्यू करता है। रेस्क्यू टीम के सदस्य धर्मेंद्र चौधरी ने बताया कि एक जनवरी 2022 से अब तक करीब 60 से ज्यादा मगरमच्छों का रेस्क्यू किया जा चुका है। बोरखेड़ा थाना क्षे़त्र में आए दिन मगरमच्छ निकलने के मामले आते रहते हैं।

Post Comment

Comment List

Latest News