अच्छा मुनाफे का झांसा : सवा करोड़ की ठगी करने वाला मास्टर माइंड गिरफ्तार

6 वर्ष से था फरार

अच्छा मुनाफे का झांसा : सवा करोड़ की ठगी करने वाला मास्टर माइंड गिरफ्तार

ठगी के मामले में पुलिस ने 6 साल से फ रार चल रहे ठगी के  मास्टर मांइड को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने एक हजार का इनाम घोषित कर रखा था। 

बांदीकुई। शहर के सिकंदरा रोड पर अलग अलग नाम से 3 कम्पनी खोलकर लोगों को जमा पूंजी पर बड़ा मुनाफा देने का झांसा देकर सवा करोड़ रुपए ठगी के मामले में पुलिस ने 6 साल से फ रार चल रहे ठगी के  मास्टर मांइड को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने एक हजार का इनाम घोषित कर रखा था। 

पुलिस के अनुसार आरोपी कुलजीत पुत्र छीतरसिंह माली  निवासी बलाई मौहल्ला मालीपुरा थाना सेवर जिला भतरपुर, दौसा, अलवर व भरतपुर में कम्पनी की ब्रांच खोलकर करोड़ों की ठगी कर चुका है। आरोपी अलवर और भरतपुर में भी वांटेड है। मामले में कम्पनीज और सोसायटी के अन्य डायरेक्टर व कर्मचारियो  की गिरफ्तारी शेष है। पुलिस अधीक्षक संजीव नैन ने बताया कि मार्च 2017 में बांदीकुई पुलिस में आरोपी के खिलाफ  एफआईआर दर्ज हुई थी। जिसमें बताया था कि कुलीजत सैनी ने अपने अन्य साथियों के साथ एजी कॉपरेशन कम्पनी लिमिटेड, अरावली एग्रो मल्टी स्टेट कॉपरेटिव सोयायटी लिमिटेड, अरावली विकास सेवा समिति के नाम से ऑफिस खोला था। आरोपी ने तेजाराम सैनी निवासी बडवाली को ब्रांच मैनेजर नियुक्त किया। कम्पनी और सोसायटी के लोगों ने बांदीकुई क्षत्र के लोगों को अच्छा मुनाफा होने का झांसा देकर मासिक एव  सालाना किश्तों में धन का निवेश करवाया था। जिसके बदले कम्पनीज के डायरेक्टर ने मिथ्या व फर्जी बॉंड जारी किए। ब्रांड की परिपक्ता राशि लौटाने का समय आया तो कम्पनीज व  सोयायटी के डायरेक्टर व अन्य साथी करोड़ों राशि लेकर रातों-रात ब्रांच बंद कर भाग गए।  नैंन  ने बताया कि प्रकरण के मुख्य आरोपी कुलजीत सैनी की गिरफ्तारी के लिए एक हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा था। मामले में एएसपी डा. लालचंद कायल व पुलिस उप अधीक्षक बांदीकुई उदय सिंह मीना के सुपरविजन में बांदीकुई थानाधिकारी नरेश कुमार शर्मा की टीम ने तकनीकी  संसाधनों की मदद से व परम्परागत पुलिसिंग करते कड़ी से कड़ी जोड़ आरोपी की गिरफ्तारी के लिए अलवर, भरतपुर, धोलपुर, दिल्ली, नोएडा, आगरा सहित अन्य शहरों में दबिश दी। इसी दरम्यान वाराणसी से दिल्ली आते वक्त आरोपी के हुलिए  के आधार पर उसे दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पकड लिया। आरोपी के खिलाफ धोखाधडी बांदीकुई में दो मामले दर्ज है। इसके अलावा कोतवाली अलवर, तिजारा अलवर, सेवर थाना  भरतपुर व मथुरा गेट भरतपुर में भी मुकदमं दर्ज है।

 इनकी बनाई थी टीम
 छह साल से पुलिस के साथ आंख-मिचोली की खेलरहे आरोपी कुलजीत सैनी की गिरफ्तारी के लिए सीआई नरेश कुमार  की अगुवाई में एसआई विरेन्द्र सिंह यादव, हैड कांस्टेबल प्रेमनारायण, कांस्टेबल लक्ष्मीकांत शर्मा, पुखराज सिंह, अजीत सिंह, जीतेन्द्र सिंह व महिला कांस्टेबल सीमा की टीम बनाई गई थी। पुलिस अधीक्षक के अनुसार आरोपी की गिरफ्तारी में कांस्टेबल लक्ष्मीकांत की विषेश भूमिका रही।

Post Comment

Comment List

Latest News