कोरोना : स्टॉक में 11 लाख डोज, 1.60 लाख डोज 31 दिसम्बर को खराब होने वाली थी, केन्द्र को लौटाई

18 प्लस की 5.14 करोड़ आबादी, प्रिकॉशन डोज केवल 72.99 लाख ने ली, 85.4 फीसदी लेने नहीं आए 

कोरोना : स्टॉक में 11 लाख डोज, 1.60 लाख डोज  31 दिसम्बर को खराब होने वाली थी, केन्द्र को लौटाई

लोग अब वैक्सीन लेने सेंटरों पर नहीं आ रहे हैं, ऐसे में जहां तीस हजार से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर प्रदेश में चल रहे थे, वहां प्रदेशभर में सोमवार को मात्र 22 ही सेंटर पर वैक्सीनेशन हुआ।

ब्यूरो/नवज्योति, जयपुर। राजस्थान में कोरोना संक्रमण की रफ्तार अत्यंत धीमी है, ऐसे में कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति लोग भी लापरवाह हो गए हैं। इसका परिणाम यह है कि प्रदेश में अब स्टॉक में पड़ी 11 लाख कोरोना वैक्सीन में से 1.60 लाख वैक्सीन 31 दिसम्बर को एक्सपायर हो रही थी, जिसे चिकित्सा विभाग ने केन्द्र को लौटा दिया है। लोग अब वैक्सीन लेने सेंटरों पर नहीं आ रहे हैं, ऐसे में जहां तीस हजार से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर प्रदेश में चल रहे थे, वहां प्रदेशभर में सोमवार को मात्र 22 ही सेंटर पर वैक्सीनेशन हुआ। टीकाकरण के राजस्थान नोडल प्रभारी रघुराज सिंह ने बताया कि लोग वैक्सीन लेने नहीं आ रहे हैं। अगर डिमांड आएगी तो वैक्सीन की कमी नहीं है, फिर शुरू कर दिए जाएंगे। प्रदेश में वर्तमान में 12 साल की उम्र से अधिक की 7 करोड़ 63 लाख 8 हजार आबादी है, लेकिन इनमें से 21.44 फीसदी आबादी ने पहली डोज ही नहीं ली। जबकि 15.2 फीसदी आबादी ऐसी है, जिसने दूसरी डोज लेने की जहमत नहीं उठाई। प्रिकॉशन डोज लेने वालों की संख्या तो मात्र 72 लाख 99 हजार 152 ही है। 84.8 फीसदी आबादी ने प्रिकॉशन डोज लेने नहीं आए हैं, जबकि प्रिकॉशन डोज के अभियान को साढ़े आठ माह बीत चुके हैं। 

अब तक के वैक्सीनेशन अभियान की स्थिति
15-18 साल की आबादी 46 लाख 51 हजार :  इनमें से 76.7 फीसदी 35 लाख 67 हजार 776 ने पहली, 28 लाख 85 हजार 277 यानी 80.9 फीसदी ने दूसरी डोज ली। 

12-14 साल की 2 करोड़ 98 लाख 7 हजार आबादी:  यहां 78.5 फीसदी यानि 23 लाख 43 हजार 768 ने पहली, 14 लाख 96 हजार 403 यानी 63.8 फीसदी ने दूसरी डोज ली। 

18 से 44 साल आबादी 3 करोड़ 41 लाख 44 हजार 400:  92.5 फीसदी ने पहली, 87.6 फीसदी ने दूसरी डोज ली। 25 लाख 44 हजार 986 ने पहली, 4,20, 3917 ने दूसरी डोज नहीं ली। 2 करोड़ 47 लाख 71 हजार 319 प्रिकॉशन डोज लेने नहीं आए। केवल 9.3 फीसदी यानी 2924178 ही डोज लेने आए।
 
45-59 साल की आबादी 1 करोड़ 5 लाख 18 हजार 2:   99.8 फीसदी ने पहली, 95.3 फीसदी ने दूसरी डोज ली। 20 हजार 383 ने पहली, 4 लाख 88 हजार 753 ने दूसरी डोज नहीं ली। 86 लाख 23 हजार 68 लोग प्रिकॉशन डोज लेने नहीं आए। केवल 13.2 फीसदी यानि 1385798 ने ही प्रिकॉशन डोज ली। 

60 प्लस की आबाद 68 लाख 33 हजार:  100 फीसदी पहली डोज ली, 97.5 फीसदी ने दूसरी डोज ली, लेकिन प्रिकॉशन डोज लेने 14.3 फीसदी यानी 7299152 फीसदी ने ही ली। 

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News

जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम
सचिव शिव जालान ने बताया कि इसमें अनेक कलाकार गीतों, गजलें और नज्मों से स्व. जगजीत सिंह को स्वरांजलि अर्पित...
सतीश पूनियां ने सीएम को लिखा पत्र, आमेर विस क्षेत्र की मांगों को बजट में शामिल करने का किया आग्रह
केरल का इंटरनेशनल थियेटर फेस्टिवल 5 फरवरी से होगा शुरू
मोबाइल फोन के बेतहाशा इस्तेमाल से बढ़ा विजन सिंड्रोम का खतरा
तालिबान प्रशासन व्याख्याता मशाल को तत्काल रिहा करें: संयुक्त राष्ट्र
अडानी सीमेंट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग
खान सुरक्षा अभियान में निदेशक खान का जोधपुर दौरा