देश में प्रतिभाओं की नहीं कमी, सहयोग की है जरुरत : अली

टेनिस अकादमी का उद्घाटन किया गया

देश में प्रतिभाओं की नहीं कमी, सहयोग की है जरुरत : अली

टेनिस के राष्ट्रीय एवं डेविस कप कोच जीशान अली ने कहा कि देश में टेनिस स्टार सानिया मिर्जा की जैसी प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन इन्हें निखारने के लिए सहयोग की जरुरत है।

जयपुर। दिल्ली पब्लिक स्कूल में देवयानी जयपुरिया टेनिस अकादमी का उद्घाटन किया गया। टेनिस के राष्ट्रीय एवं डेविस कप कोच जीशान अली ने कहा कि देश में टेनिस स्टार सानिया मिर्जा की जैसी प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन इन्हें निखारने के लिए सहयोग की जरुरत है। दिल्ली पब्लिक स्कूल में देवयानी जयपुरिया टेनिस अकादमी के उद्घाटन के अवसर पर अली ने कहा कि इसका कारण प्रतिभाओं की कमी नहीं हैं। प्रतिभा हैं, लेकिन जो सहयोग की जरुरत होती हैं। वह इन प्रतिभाओं को नहीं मिल पा रहा है। अली ने कहा कि सानिया मिर्जा काफी भाग्यशाली रही और उसे एक अच्छा स्पॉन्सर मिला और जब वह खेल रही थी, तब दो-तीन खिलाड़ी उससे बेहतर थे और वे भी अच्छा कर सकते थे, लेकिन एक सपोर्ट सिस्टम होता हैं। देश में टूर्नामेंट कराये जा रहे हैं और खिलाड़ियों को चार-पांच महीने टूनामेंट खेलने का मौका मिल रहा है, लेकिन शेष 8 महीने बाहर टूर्नामेंट खेल सकते हैं तभी जाकर इनकी रैंकिंग में सुधार आयेगा। उन्होंने कहा कि बाहर जाकर टूनामेंट खेलने के लिए जो फडिंग एवं सहयोग मिलना चाहिए, वह नहीं मिल रहा है। अगर सरकार और भारतीय टेनिस संघ ध्यान दे तो ऐसा नहीं है कि सानिया जैसे खिलाड़ी नहीं हैं, देश में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं हैं और वे डबल्स में ही नहीं सिंगल्स, मैन्स एवं वूमेन्स में अपना अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।

अली ने कहा कि वह चाहते हैं कि क्रिकेट की तरह टेनिस भी गली गली तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि हमारे पास प्रतिभाए बहुत हैं और हमारा मकसद उन्हें अवसर देना हैं जो हमारा भविष्य हैं और आगे बढ़ेंगे, उनमें हौसला बढ़ेगा और वे प्रतियोगिताओं में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। उन्होंने कहा कि टेनिस अकादमी का मकसद प्रत्येक बच्चे तक टेनिस पहुंचाना हैं। उन्होंने कहा कि उनके पिता भी टेनिस खिलाड़ी और कोच थे और टेनिस मेरे नस में हैं, बच्चों को अवसर मिले। जयपुर में यह अकादमी खोली है और हमारी योजना पूरे देश में अकादमी खोलने का हैं। अली ने खिलाड़ी की नींव का मजबूत होना जरुरी बताते हुए कहा कि शुरु में किस तरह रैकेट पकड़ना हैं, किस तरह टेनिस खेला जाता है, यह सब सीखने की जरुरत है। अकादमी में बच्चों को यह सब सिखाया जायेगा और ग्रास रुट लेवल पर चार-पांच वर्ष के बच्चों पर जोर ज्यादा होगा जो आगे जाकर खिलाड़ी तैयार होंगे।

अकादमी पूरे सप्ताह चलेगी और हर बच्चे को टेनिस सिखाई जायेगी। अली ने कहा कि उन्होंने 26 साल दुनिया भर में कोचिंग की है और यह अनुभव बच्चों को देना चाहते हैं, इसलिए अकादमी से जुड़े हैं। अकादमी में अभी शुरु करेंगे तब आने वाले आठ दस साल में खिलाड़ी राष्ट्रीय, डेविस कप, ओलंपिक एशियन गेंम एवं ग्रैंड स्लैम प्रतियोगिताओं में भाग ले सकें। उन्होंने कहा कि उनका मकसद है कि अकादमी से खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व करे और इन प्रतयोगिताओं में खेले।     इस अवसर पर देवयानी जयपुरिया ने कहा कि अकादमी में बच्चों को पूरा सहयोग किया जायेगा और स्कूल के अलावा भी जो बच्चा टेनिस सीखना चाहेगा। उसे पूरा मौका दिया जायेगा।

Tags: tennis

Post Comment

Comment List

Latest News

जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम
सचिव शिव जालान ने बताया कि इसमें अनेक कलाकार गीतों, गजलें और नज्मों से स्व. जगजीत सिंह को स्वरांजलि अर्पित...
सतीश पूनियां ने सीएम को लिखा पत्र, आमेर विस क्षेत्र की मांगों को बजट में शामिल करने का किया आग्रह
केरल का इंटरनेशनल थियेटर फेस्टिवल 5 फरवरी से होगा शुरू
मोबाइल फोन के बेतहाशा इस्तेमाल से बढ़ा विजन सिंड्रोम का खतरा
तालिबान प्रशासन व्याख्याता मशाल को तत्काल रिहा करें: संयुक्त राष्ट्र
अडानी सीमेंट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग
खान सुरक्षा अभियान में निदेशक खान का जोधपुर दौरा