खेजड़ली के बलिदान की महागाथा का मंचन

नाटक तीन दृश्यों में पूरा हुआ

खेजड़ली के बलिदान की महागाथा का मंचन

नाटक का मंचन राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल व पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन विभाग ने करवाया।

जयपुर। जवाहर कला केंद्र में पर्यावरण दिवस के दूसरे दिन “वनरक्षण–रक्षा और बलिदान” नाटक का मंचन हुआ। नाटक का लेखन और निर्देशन रंगकर्मी अशोक राही ने किया। नाटक का मंचन राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल व पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन विभाग ने करवाया। नाटक तीन दृश्यों में पूरा हुआ। 

पहला दृश्य
नाटक की शुरुआत जहरीली हवा और प्लास्टिक से प्रकृति हो रहे नुकसान को हास्य और व्यंग के माध्यम बताया गया।

दूसरा दृश्य
दूसरे दृश्य में बताया गया कैसे श्री राम ने अपने वनवास के दौरान प्रकृति से जो लिया उसे कैसे लौटाया। भगवान राम ने जल–जंगल–जमीन पर पहला हक वहां के आदिवासीयों का बताया ।
 
तीसरा दृश्य
तीसरे दृश्य में राजस्थान के इतिहास की अनूठी गाथा जो 1730 में जोधपुर के खेजड़ली में लिखी गई  कहानी को रंगमंच पर उतारा गया। मारवाड़ के अभय सिंह की सेना खेजड़ी वृक्ष काटने के लिए जब खेजड़ली पहुंची तो कैसे अमृता देवी  के नेतृत्व में 363 बिश्नोई  स्त्री–पुरुषों ने खेजड़ी वृक्ष को काटने के प्रतिरोध में खेजड़ी से लिपट कर अपनी जान की बाजी लगा कर जांभोजी के उपदेश “सिर सांटेै रुंख रहे तो भी सस्तो जाण” को सही साबित किया। गायक प्रियांशु पारीक गीतों ने भी कहानी को बांधे रखा।

Post Comment

Comment List

Latest News

जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा
शहर में अवैध निर्माण एवं अतिक्रमणों को लेकर की जा रही कार्रवाई के दौरान जयपुर विकास प्राधिकरण के प्रवर्तन दस्ते...
सदन में अब नहीं चल पाएगी भाजपा की मनमानी: कांग्रेस
"स्वस्थ और तंदुरुस्त राजस्थान": इस बार के बजट में चिकित्सा और स्वास्थ्य पर होगा सर्वाधिक फोकस
डंपर चालक ने ली बाइक सवार की जान
जनता के सामने एक्सपोज हो चुकी मोदी की गारंटी: गहलोत
मोदी 30 जून को करेंगे मन की बात, देशवासियों से मांगे सुझाव
High Court के निर्देश पर अवैध खनन के खिलाफ जांच अभियान