चार से पांच माह में खराब हो जाएंगे 3 करोड़ के रेमडेसिवर इंजेक्शन

मेडिकल कॉलेज के स्टोर रूम में रखे तीन हजार इंजेक्शन, द्वितीय लहर में काफी थी मांग, ब्लैक से भी नहीं मिले

चार से पांच माह में खराब हो जाएंगे 3 करोड़ के रेमडेसिवर इंजेक्शन

कोविड की दूसरी लहर में सर्वाधिक काम में आने वाले रेमडेसिवर खराब होने की स्थिति में पहुंच गए है। चार से पांच माह में इनका उपयोग नहीं हुआ तो करीब 3 करोड़ के इंजेक्शन अनुपयोगी हो जाएंगे। कोटा को करीब 10 हजार इंजेक्शन भेजे थे, लेकिन कोविड की तीसरी लहर में इनका उपयोग नहीं हो सका था। ऐसे में धरे रह गए है।

कोटा। कोविड की दूसरी लहर में सर्वाधिक काम में आने वाले रेमडेसिवर खराब होने की स्थिति में पहुंच गए है। चार से पांच माह में इनका उपयोग नहीं हुआ तो करीब 3 करोड़ के इंजेक्शन अनुपयोगी हो जाएंगे। दरअसल, कोविड की तीसरी लहर से पूर्व चिकित्सा विभाग ने बड़ी संख्या में रेमडेसिविर मेडिकल कॉलेज की एमसीडीडब्लू (मेडिकल कॉलेज ड्रग वेयर) को भेज दिए गए थे। कोटा को करीब 10 हजार इंजेक्शन भेजे थे, लेकिन कोविड की तीसरी लहर में इनका उपयोग नहीं हो सका था। ऐसे में धरे रह गए है। कुछ ही इंजेक्शन की खपत हुई है। ऐसे में अधिकांश इंजेक्शन बचे है। एमसीडी के अनुसार अभी 5 हजार 339 इंजेक्शन बचे है। इसके अलावा इतने इंजेक्शन अन्य अस्पतालों को भेज दिए गए है। एक इंजेक्शन की कीमत करीब तीन हजार के आसपास है। इस तरह से करोड़ों के इंजेक्शन अभी पड़े हुए है। हालांकि, इनका उपयोग नहीं होना भी अच्छी बात है। क्योंकि, कोई भी नहीं चाहता है कि पुराने दिन वापस आए। फिर भी काफी राशि के इंजेक्शन है। इनको अन्य जगह पर भेजने की जरुरत है, ताकि वो इनको काम में ले सके।

द्वितीय लहर में अधिक मांग
कोविड लहर की शुरुआत से रेमडेसिवर इंजेक्शन की काफी मांग रही है। दूसरी लहर में स्थिति ऐसी थी कि इनको 10 हजार रुपए में बेचा गया। बड़ी संख्या में कालाबाजारी हुई। लोगों का मानना था कि कोविड का कोई उपचार नहीं है। कोविड को केवल रेमडेसिवर से ठीक किया जा सकता है, जिसके चलते ऐसी दिक्कत हुई। इंजेक्शन के लिए लोग गिडगिडाते नजर आए। इसके मामले काफी सूर्खियों में रहे। हालांकि, कोविड की तीसरी लहर में इनका कोई उपयोग नहीं रहा। गिनती के मरीजों पर इसको प्रयोग हुआ। यहीं वजह है कि ये इंजेक्शन बच गए है।

आईसीएमआर ने ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल से हटाया
शुरूआत में इसकी काफी मांग रही थी, लेकिन बाद में इंडियन मेडिकल काउंसिल आॅफ रिसर्च (रिसर्च) ने इसको ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल से हटा दिया। इसके साथ ही एंजीथ्रोमाइसिन और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन को भी मरीजों के उपचार में शामिल करने का नहीं कहा था। उनका कहना था कि रेमडेसिवर से कोविड मरीजों को लाभ नहीं मिलता है। उलटा इससे तो हार्ट, शुगर और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि, इसके बावजूद भी इसका प्रयोग किया। फिलहाल इसका उपयोग कम हो गया है।

एमसीडीडब्लू के पास करीब 5 हजार से अधिक इंजेक्शन है। इतने इंजेक्शन अन्य अस्पतालों के पास है। इस तरह से 10 हजार इंजेक्शन है।
- डॉ सुशील सोनी, प्रभारी, एमसीडीडब्लू

इंजेक्शन से अधिक जरूरी है लोगों का स्वास्थ्य है। क्योंकि, पूर्व में भी अचानक डिमांग हो गई थी। जिसके चलते परेशानी हुई।
- डॉ विजय सरदाना, प्राचार्य, न्यू मेडिकल कॉलेज, कोटा

Post Comment

Comment List

Latest News

फिल्म 'लैटर्स टू मिस्टर खन्ना' में एक साथ नजर आएंगे नीतू कपूर और सन्नी कौशल फिल्म 'लैटर्स टू मिस्टर खन्ना' में एक साथ नजर आएंगे नीतू कपूर और सन्नी कौशल
नीतू कपूर ने कैप्शन में लिखा, ''शुभ आरंभ, लेटर्स टू मिस्टर खन्ना। उन्होंने सन्नी कौशल को भी टैग किया। है।...
पुतिन की परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की धमकी, ईयू ने कहा इसे हल्के में न लें
पायलट के घर पर पहुंचा बुलडोजर, कर दी यह गलती
जेईसीआरसी ने आयोजित किया क्लाउड समिट' 22, 50 इंस्टीट्यूशंस के 4000 से ज्यादा छात्रों ने भाग लिया
तेज बारिश व अतिवृष्टि से फसलों को भारी नुकसान, पूनियां ने की किसानों को मुआवजा देने की मांग
खास परिस्थितियों के लिए अभ्यास करता हूं: दिनेश कार्तिक
एटीएम कार्ड बदलकर ठगी करने वाले दो शातिर गिरफ्तार,42 एटीएम कार्ड व 1 स्वैप मशीन बरामद