यूक्रेन भेजे जा रहे हथियारों की खेप को निशाना बनाएगा रूस

पुतिन की चेतावनी से टेंशन में अमेरिका

यूक्रेन भेजे जा रहे हथियारों की खेप को निशाना बनाएगा रूस

लड़ाकू विमान बन सकते हैं तीसरे विश्व युद्ध का कारण

मास्को। रूस और यूक्रेन में लगातार 17वें दिन भी युद्ध जारी है। रूसी सेनाओं ने यूक्रेन की राजधानी कीव की घेराबंदी को और ज्यादा कड़ा कर दिया है। तीन दिशाओं से रूसी फौज कीव की तरफ तेजी से आगे बढ़ रही है। इस बीच रूस ने पश्चिमी देशों को चेतावनी दी है कि यूक्रेन को दिए जा रहे हथियारों की खेप को लक्ष्य के रूप में देखा जाएगा। इसका मतलब यह है कि रूस अब अमेरिका और नाटो देशों से आ रहे हथियारों के खेप पर हमला कर सकता है। जिसके बाद आशंका जताई जा रही है कि रूस के ऐसे किसी भी ऐक्शन से संघर्ष और ज्यादा भड़क सकता है।

लड़ाकू विमान बन सकते हैं तीसरे विश्व युद्ध का कारण
रूसी उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने अमेरिका को चेतावनी दी कि कई देश यूक्रेन को हथियारों की सप्लाई कर रहे हैं। यह सिर्फ एक खतरनाक कदम नहीं है, यह एक ऐसी कार्रवाई है जो उन काफिले को वैध लक्ष्य बनाती है। जो बाइडेन ने व्यक्तिगत रूप से पोलैंड के मिग विमानों की शिपमेंट रोकने के लिए हस्तक्षेप किया था। उन्हें डर था कि यूक्रेन को दिए जा रहे लड़ाकू विमान तीसरे विश्व युद्ध का कारण बन सकते हैं।

सहायता काफिले को रोका
यूक्रेन में रूसी हमलों के 18वें दिन रूसी सुरक्षा बलों ने बंदरगाह शहर मारियुपोल में अपने हमले तेज कर दिए हैं और शहर के कई इलाकों में भारी बमबारी जारी है, जिसके कारण भोजन, पेयजल और दवाई समेत राहत सामग्री लेकर आ रहे सहायता काफिले को रोकना पड़ा है। इनमें वह इलाका भी शामिल है, जहां एक मस्जिद में बच्चों सहित 80 से अधिक लोग शरण लिए हुए थे।


 खलीज टाइम्स ने रविवार को इसकी जानकारी दी। यहां रूसी सुरक्षा बलों की निरंतर गोलीबारी से लोग अपनी सुरक्षा के लिए कहीं न कहीं छिपे हुए हैं। इनमें एक मस्जिद भी है, जहां कई सारे लोग रह रहे हैं। राजधानी कीव के बाहरी क्षेत्र सहित कई अन्य शहरों में भी भारी तबाही मची हुई है। यूक्रेन में जारी रूसी हमलों में मारियुपोल सबसे बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इसके कारण 430,000 की आबादी वाले इस शहर में सहायता के रूप में भोजन, पेयजल और दवाई वगैरह लाने के कई प्रयास विफल हो गए हैं। यहां फंसे हुए नागरिकों को बाहर निकालने की कोशिश को भी अंजाम नहीं दिया जा सका है। मारियुपोल में अब तक 1,500 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। आलम यह है कि भारी गोलीबारी की वजह से मृत लोगों को दफनाने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूक्रेन के लिए हथियारों, सैन्य सेवाओं, शिक्षा और प्रशिक्षण के लिए 20 करोड़ डॉलर तक की अतिरिक्त सहायता की घोषणा की है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने भी रूस को चेतावनी देते हुए कहा है कि कीव के सभी नागरिकों को मौत के घाट उतारने के बाद ही रूस इस पर कब्जा जमा पाएगा। उन्होंने कहा कि रूस उनके देश को तोड़ने के लिए यूक्रेन में नए छद्म गणराज्य बनाने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने खेरसॉन सहित यूक्रेन के सभी क्षेत्रों से अपील की कि वे डोनेट््स्क और लुहांस्क में जो हुआ, उसे दोबारा होने नहीं दें। उल्लेखनीय है कि खेरसॉन पर रूसी बलों ने कब्जा कर लिया है। रूस समर्थक अलगाववादियों ने 2014 में पूर्वी क्षेत्रों डोनेट््स्क और लुहांस्क में यूक्रेनी सेना से लड़ाई शुरू की थी। फरवरी में यूक्रेन पर हमला बोलने से पहले रूस ने डोनेट््स्क और लुहांस्क को दो अलग-अलग देशों के रूप में मान्यता दी थी।

जेलेंस्की ने रूसी सेना पर बच्चों को गोली मारने का आरोप लगाया
इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने रूसी सेना पर बच्चों को गोली मारने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि व्लादिमीर पुतिन की सेना कीव पर तभी कब्जा कर सकती है, जब वह इसे पूरी तरह से बर्बाद कर दे। रूसी सेना कीव के काफी नजदीक पहुंच गई है, जिससे राजधानी से बाहर निकलने के सभी रास्ते बंद पड़ गए हैं। वहीं, रूसी सेना के मिसाइल डिफेंस सिस्टम्स ने कीव को नो फ्लाई जोन बना दिया है। दावा किया गया था कि बेलारूस में तैनात रूसी एस-400 मिसाइल सिस्टम ने कीव के ऊपर उड़ रहे एक लड़ाकू विमान को मार गिराया था।

पश्चिमी देशों पर भड़के यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की
उधर, यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने पश्चिमी देशों की खूब खिंचाई की। उन्होंने कहा कि मैंने सहयोगी देशों से भागीदारी के लिए अनुरोध किया था। उनसे अधिक से अधिक एंटी मिसाइल सिस्टम के लिए पैसे देने का आॅफर भी दिया था। लेकिन, इसके जवाब में यूक्रेन की सरकार की मदद के लिए राजनयिक कदम उठाने के हल्के-फुल्के वादे ही किए गए। जेलेंस्की ने दावा किया कि रूस-यूक्रेन युद्ध में अब तक 1,300 यूक्रेनी सैनिक मारे गए हैं और 500 रूसियों ने कल आत्मसमर्पण किया था।

बेनेट-जेलेंस्की ने रूस-यूक्रेन युद्ध को समाप्त करने के मुद्दे पर की बात
यरुशलम। इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने वोलोडिमिर जेलेंस्की से रूस- यूक्रेन युद्ध को समाप्त करने के तरीकों पर चर्चा की है। इजरायल के प्रधानमंत्री कार्यालय ने यह जानकारी दी है। पीएमओ ने बताया कि दोनों नेताओं के बीच शनिवार शाम को फोन पर हुई बातचीत एक घंटे से अधिक समय तक चली। इस दौरान दोनों नेताओं ने रूस-यूक्रेन युद्ध को समाप्त करने के तरीकों और इस संबंध में इजरायल के प्रयासों पर चर्चा की। उधर ज़ेलेंस्की ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने शनिवार को बेनेट के साथ शांति वार्ता की संभावनाओं पर चर्चा की।

रूसी आक्रमण से पूरे यूरोप में लोकतंत्र और सुरक्षा को खतरा
वाशिंगटन। अमेरिका की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा है कि यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से न केवल यूक्रेन बल्कि पूरे यूरोप के लोकतंत्र और सुरक्षा को खतरा है। हैरिस ने अमेरिका और उसके नाटो एवं यूरोपीय सहयोगियों के बीच एकता पर प्रकाश डाला तथा साथ ही चेतावनी दी कि यूक्रेन पर रूस का अकारण आक्रमण सभी लोकतंत्रों के लिए खतरा है। सीएनएन ने शनिवार को वाशिंगटन डीसी में डेमोक्रेटिक नेशनल कमेटी की शीतकालीन बैठक में हैरिस के हवाले से कहा कि रूस के आक्रमण से न केवल यूक्रेन के लोकतंत्र को खतरा है।  बल्कि यह पूरे यूरोप में लोकतंत्र और सुरक्षा के लिए खतरा है। उन्होंने कहा कि हमें अलग करने वाला सागर हमें इस आक्रामकता से अछूता नहीं रखेगा। अमेरिकी उपराष्ट्रपति ने कहा कि गठबंधन की सबसे बड़ी ताकत इसकी एकता है। उसने पोलैंड और रोमानिया दोनों की अपनी हालिया यात्राओं के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि अमेरिका नाटो गठबंधन के बचाव में यूक्रेन की जनता के साथ मजबूती से खड़ा है।

यूक्रेन में एक और मेयर का अपहरण
कीव। यूक्रेन ने रविवार को रूस पर निप्रोरुडने के मेयर येवेन माटेयेव का अपहरण करने का आरोप लगाया। यूक्रेन में मेलिटोपोल के मेयर के कथित अपहरण के बाद इस तरह की यह दूसरी घटना है। यूक्रेनी  विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा कि रूस ने एक और मेयर का अपहरण कर लिया है। कुलेबा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडिल पर लिखा कि आज रूसी युद्ध अपराधियों ने लोकतांत्रिक रूप से चुने गए एक और यूक्रेनी मेयर, निप्रोरुडने के प्रमुख येवेन माटेयेव का अपहरण कर लिया। उन्होंने वैश्विक संगनों से यूक्रेन के खिलाफ रूसी आक्रमण को रोकने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि जब कहीं से कोई समर्थन नहीं प्राप्त होता है। तब आक्रमणकारी आतंक में तब्दील हो जाते हैं। मैं सभी देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से यूक्रेन और लोकतंत्र के खिलाफ रूसी आतंकवाद को रोकने का आह्वान करता हूं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले शुक्रवार को मेलिटोपोल के मेयर इवान फेडोरोव का भी कथित तौर पर अपहरण कर लिया गया था।

यूक्रेन की सेना को घेरने की कोशिश कर रहा रूस: ब्रिटेन
एजेंसी/लंदन। ब्रिटेन ने रविवार को कहा कि रूसी सेना यूक्रेन के पूर्व में यूक्रेनी सेना को घेरने की कोशिश कर रही है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय के आधिकारिक कॉर्पोरेट समाचार चैनल ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कहा कि रूसी सेना देश के पूर्व में यूक्रेनी सेना को घेरने का प्रयास कर रही है। वे उत्तर में खार्किव और दक्षिण में मारियुपोल की दिशा से आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि क्रीमिया से आगे बढ़ने वाली रूसी सेनाएं मायकोलाइव को दरकिनार करने का प्रयास कर रही हैं क्योंकि वे ओडेसा की ओर पश्चिम की ओर आगे बढ़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि रूस प्रत्येक अग्रिम के लिए एक उच्च कीमत चुका रहा है क्योंकि यूक्रेनी सशस्त्र बल देश भर में कट्टर प्रतिरोध की पेशकश करना जारी रख रहा है।

Read More रूस ने 25 अमेरिकियों की एंट्री पर लगाया बैन

Post Comment

Comment List

Latest News