सरकारी अस्पतालों में अस्त-व्यस्त खड़े वाहन बन रहे परेशानी

अस्पताल प्रशासन और पार्किंग ठेकेदारों की अनदेखी

     सरकारी अस्पतालों में अस्त-व्यस्त खड़े वाहन बन रहे परेशानी

शहर में वाहनों की संख्या अधिक होने और पार्किंग स्थल नहीं होने के कारण सड़क किनारे वाहनों की पार्किंग पहले ही समस्या बनी हुई है वहीं अब सरकारी अस्पतालों में भी पार्किंग समस्या बनने लगी है।

कोटा । शहर में वाहनों की संख्या अधिक होने और पार्किंग स्थल नहीं होने के कारण सड़क किनारे वाहनों की पार्किंग पहले ही समस्या बनी हुई है वहीं अब सरकारी अस्पतालों में भी पार्किंग समस्या बनने लगी है। नए कोटा क्षेत्र के न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल से लेकर पुराने शहर के एमबीएस अस्पताल , जेके लोन अस्पताल परिसर तक धार्मिक स्थल बने हुए हैं।  मेडिकल कॉलेज अस्पताल में प्रवेश द्वार से लेकर गेट नंबर 4 तक जगह जगह सड़क किनारे अस्त-व्यस्त वाहन खड़े हुए हैं।  दो पहिया वाहन से लेकर चार पहिया वाहनों तक की यही स्थिति है जिससे अस्पताल में आने वाली एंबुलेंस व मरीजों को लेकर आने वाले वाहनों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । इसी तरह एमबीएस अस्पताल में भी मुख्य द्वार से लेकर आउटडोर के गेट तक और दवा काउंटर से लेकर उपभोक्ता भंडार तक, सेंटर लैब से लेकर ब्लड बैंक तक यही स्थिति है।  वहां भी सड़क पर वाहनों की पार्किंग अस्त व्यस्त होने से एंबुलेंस और मरीजों के वाहनों को आने जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  लेकिन अस्पताल प्रशासन और पार्किंग ठेकेदारों द्वारा ध्यान नहीं देने से यह समस्या विकराल रूप लेती जा रही है।

Post Comment

Comment List

Latest News